12 मई, 2010

उसके लिए ...


मिट्टी के चूल्हे पर
शर्मीली आँखों का तवा रख
ख़्वाबों की रोटियाँ सेंक ली है
लरज़ते ख्यालों की सब्जी में
प्यार का तड़का लगाया है
उसके आने की खुशबू
हवाओं में फैली है
इंतज़ार की अवधि को
जायकेदार नमक के साथ
कुरमुरा बनाया है
मनुहार की चाशनी
उसे रोक ही लेगी ...

56 टिप्‍पणियां:

  1. प्रिय के आगमन में विकल ह्रदय का सुन्दर चित्रण ..अगर आप चित्र ना भी लगाती तब भी आपके शब्दों ने रेखाचित्र बना दिया था

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये तडका और चाशनी बहुत बढ़िया लगी....बहुत खूबसूरत शब्द दिए हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  3. Gazab ki abhivyakti ... har shabd jaise chaasni mein dooba .. angeethi ki khusbhoo deta huva ...Rasoi ki makah pyaar ki makah ke saath mil kar sachmein kaaynaat mein fail jaayegi ... bahut hi lajawaab ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. चाशनी और प्यार का तड़का हो तो --
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. पाकशाला से सम्बद्ध बिम्ब में कविता का रचाव
    सुन्दर है | शब्दों से बना हुआ चित्र आपके द्वारा
    लगाये हुए चित्र से कम खूबसूरत नहीं है | आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. Hi..

    Etne prem ko jo paa lega..
    Kahan wo jaa payega..
    Priyatam ke dar par hi apni..
    Parn kuty wo chhayega..

    Nahi wo ja payega..

    Hamesha ki tarah bhavpurn kavita..

    DEEPAK..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहद खूबसूरत कविता है रश्मि जी,
    श्रृंगार रस का एक नवीन रूपक .
    ढेरों बधाइयाँ और शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या उनको रसोई मेँ बुलाया है और पकवान बनाया है! इजहारे इश्क रसोईमय हो गया ! गृहिणी इस से बढ़िया क्या चित्र उकेर सकती थी?काम का काम हो गया और अपने 'उनको' याद भी कर लिया।मैँ तो इस कविता मेँ उलझ ही गया।वाकई शानदार कविता!बेहतरीन मनौभाव!बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. behad kubsurat ..me to manuhaar kee chasnee me dub gai hun ...!

    उत्तर देंहटाएं
  10. rashmi ji,
    ummid par dunia kaayam hai, shayad manuhaar ki chaashni rok le...sundar rachna, badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर
    भावनाओं की अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  12. ख्यालों के साथ प्यार का तडका, नमकीन इंतज़ार के साथ कुरामुराहट..... ज़रूर रोक लेगी मनुहार की चाशनी...

    प्रणाम के साथ शुभकामनाएं......

    उत्तर देंहटाएं
  13. ऐसा कुछ होगा तो कौन न रुकेगा भला???? :) प्रतीकों ने मन मोह लिया.

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह! क्या बात है, बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  15. चित्र और कविता दोनों पूरक है एक दूसरे के

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुंदर कविता,खाना बायकिया बहुत स्वाद होगा
    आप का धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत बहुत ख़ूबसूरत ! हम तो निशब्द हो गए ! जितनी सुंदरा तस्वीर उतनी ही सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  18. मनुहार की चाशनी ...
    इसकी मिठास से सराबोर कर दिया आपकी लेखनी ने। अमोल रचना!
    अद्भुत!
    उत्तम!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह! बहुत सुन्दर!



    एक विनम्र अपील:

    कृपया किसी के प्रति कोई गलत धारणा न बनायें.

    शायद लेखक की कुछ मजबूरियाँ होंगी, उन्हें क्षमा करते हुए अपने आसपास इस वजह से उठ रहे विवादों को नजर अंदाज कर निस्वार्थ हिन्दी की सेवा करते रहें, यही समय की मांग है.

    हिन्दी के प्रचार एवं प्रसार में आपका योगदान अनुकरणीय है, साधुवाद एवं अनेक शुभकामनाएँ.

    -समीर लाल ’समीर’

    उत्तर देंहटाएं
  20. पंत जी की आत्मा को खुशी मिलती होगी आपके शब्दों के चित्रण को पढ़ कर।


    सही में ऐसी रोटी नहीं खाई हमने..लगता है अभागे हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  21. रसोईघर से भी ईतनी परिपक्व कविता पाक सकती है, यह तो कोई आपसे ही जाने | मैं भला क्या शाबाशी देने के काबिल ! मगर मीठास बहुत है शब्दों के व्यंजन में...

    उत्तर देंहटाएं
  22. एक बात नहीं समझ में आ रही है कि कविता लिख कर चित्र ढूँढा या चित्र देख कर कविता लिखी..?
    ...कविता इतनी अच्छी है कि पढ़कर भूख लग गयी.

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह!

    भावनाओ को परोसना(प्रस्तुत करना) तो कोई यहाँ से सीखे...

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  24. '"मनुहार की चाशनी उसे रोक ही लेगी"... बहुत सुंदर विम्ब रचना... अदभुद !

    उत्तर देंहटाएं
  25. खूबसूरत भावाभिव्यक्तियाँ....बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  26. ये शायद पहले भी पढी है।
    बेहद शानदार भाव भरे हैं…………गज़ब्।

    उत्तर देंहटाएं
  27. Waah, waah....bahut jyada pasand aayi ye raasoi...kaun nahi rukega :)

    उत्तर देंहटाएं
  28. दीदी प्रणाम
    नए रूप में एक विरहनी की मनो व्यथा को दर्शाया है ,नए र्रोप नए बिम्ब के लिए आप का आभार ,
    साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  29. चुल्हे-चौके जैसे सामान्य एवं आम क्रिया-कलापो को आधार बनाकर प्यार की जो छवी और समर्पण का जो भाव आपने अभिव्यक्त किया है ,बहुत ही मखमली और मोहक बन पडा है .

    उत्तर देंहटाएं
  30. स्‍नेह का स्‍वाद ऐसा ही होता है.

    धन्‍यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  31. लरजते ख्यालों में ..प्यार का तडका..!
    वाह!बड़े सुन्दर और अनूठे बिम्ब हैं!

    कविता तो बहुत अच्छी है ही साथ दिया चित्र भी क्या खूब चुना है.वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  32. ख्वाबों की रोटियां ,
    प्यार का तड़का ,
    चाशनी की मनुहार ....

    कोई क्यों ना, कैसे ना रुकेगा भला ...

    बड़ी प्यारी सौंधी नमकीन मीठी सी कविता ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  33. आपकी ये रेसिपी अच्छी रही, पहले बना के देखूं फिर स्वाद का पता चले

    उत्तर देंहटाएं
  34. ऐसी रचना की प्रशंशा शब्दों में की ही नहीं जा सकती...शब्द बने ही नहीं हैं जो दिल के भाव प्रगट कर सकें...बार बार पढ़ रहा हूँ और आप की लेखनी को नमन कर रहा हूँ...बस...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  35. maa maa is baar aapka new look to wow so sweet..maa sachi templete bahut bahut hi acha hai....maa kavita ko read kerke feel kerne ke baad sach me ma Ashu ko ashu aa gaye..ma...sachi bahut bahut hi achi kavita hai..

    उत्तर देंहटाएं
  36. PREM KI SUNDAR AVIVAYKTI,MAA'M!!!!!!!
    BAHUT ACCHA LAGA PADHKAR.
    REGARDS-
    #ROHIT

    उत्तर देंहटाएं
  37. मिट्टी के चूल्हे पर
    शर्मीली आँखों का तवा रख
    ख़्वाबों की रोटियाँ सेंक ली है
    लरज़ते ख्यालों की सब्जी में
    प्यार का तड़का लगाया है.........बहुत सुन्दर....

    उत्तर देंहटाएं
  38. मिट्टी के चूल्हे पर
    शर्मीली आँखों का तवा रख
    ख़्वाबों की रोटियाँ सेंक ली है
    kya baat kah di...bilkul hi alag si abhiyakti

    उत्तर देंहटाएं
  39. shubh no 51 is mine....recipe tasty hain....to kab aaon khane par:-)

    उत्तर देंहटाएं
  40. उसके आने की खुशबू
    हवाओं में फैली है
    इंतज़ार की अवधि को
    जायकेदार नमक के साथ
    कुरमुरा बनाया है
    मनुहार की चाशनी
    उसे रोक ही लेगी ...
    रश्मि जी....तस्वीर जैसी ही सुन्दर रचना.
    दिल को छू गई.

    उत्तर देंहटाएं
  41. wah!!!!!!!!!!! kya bat hai ...... sakhi ri piya milan ko aaye ... .... barbas y gana yaad aa gya ...... abke sal poonam mai jab tu aayega milne ...... ham nigah se teri aarti utarenge .. .....

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...