09 जुलाई, 2010

आज को जियो


आज को जीना चाहते हो
तो उस आज को जियो
जो रात तुम्हारे सिरहाने की बेचैनी ना बने
उधेड़बुन और जोड़ घटाव में
सुबह ना हो जाये
और वह आज एक प्रश्न ना बन जाये...

अतीत को उतना ही भूलो
जितनी ज़रूरत हो
अतीत को जेहन में ना रखा
तो आज को तराश नहीं पाओगे !
...
जो कहते हैं अतीत को भूल जाओ
उनसे दूरी बनाकर चलो
याद रखो-
वे जिस सबक को भूल जाने की सलाह देते हैं
अपने आल्मीरे के लॉकर में
उसे संभालकर रखते हैं ...

और भविष्य !
आज ही तुम्हारा भविष्य है
आज को संवारो
आज हंसो
आज को जियो....
कल को भविष्य माना तो एक ही सार होगा
तुमने क्या पाया?
तुम्हारा क्या गया जो रोते हो !!!

35 टिप्‍पणियां:

  1. सही कहा अतीत सबक ही तो सिखाता है हमें जिंदगी जीने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज को जीना चाहते हो
    तो उस आज को जियो
    जो रात तुम्हारे सिरहाने की बेचैनी ना बने
    उधेड़बुन और जोड़ घटाव में
    सुबह ना हो जाये
    और वह आज एक प्रश्न ना बन जाये...
    prerna daayee rachna! zindgi ko disha de rahi hai !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अतीत को उतना ही भूलो
    जितनी ज़रूरत हो
    अतीत को जेहन में ना रखा
    तो आज को तराश नहीं पाओगे
    badee sahi baat

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिल्कुल सही कहा……………आज को सँवार लो कल अपने आप सँवर जायेगा………………बहुत सुन्दर सन्देश देती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिलकुल सही...आज ही को भविष्य मानना चाहिए...बहुत ही अर्थपूर्ण कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अतीत को उतना ही भूलो जितनी की जरुरत है ...
    आज को जीते अतीत को नहीं भूलना चाहिए ...बल्कि उसका सबक हमेशा याद रखना चाहिए ...
    सहमत ...!

    उत्तर देंहटाएं
  7. जो जीना है वह आज जिओ
    कल को क्या जीना है...
    बहुत सटीक प्रेरक रचना....आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  8. सबक सिखाती सुन्दर रचना ... जो अपने अतीत को भूल जाते हैं, वो भविष्य को संवर नहीं पाते हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. mere kahne na kahne se kya kuchh badal jaayega...aartee ka deep hai maathe laga ke nikalta hun.
    ashish aap de hi dengi :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. सही मार्गदर्शन देती अच्छी रचना....आज को भरपूर जीना चाहिए..अतीत से सबक लेते हुए....

    उत्तर देंहटाएं
  11. -***://::**-''''''कुछ कहने के लिए शब्‍द नहीं मिल रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रभावशाली प्रेरक रचना ...
    चंद पंक्तिओं मे जीवन का फलसफा निचोड़ कर रख दिया ... अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  13. अतीत को उतना ही भूलो
    जितनी ज़रूरत हो
    अतीत को जेहन में ना रखा
    तो आज को तराश नहीं पाओगे !
    bilakul sahee kahaa| bahut acchee lagee racanaa badhaaI

    उत्तर देंहटाएं
  14. बिलकुल सही कहा जी आज को जीयो दिल भर के कल अपने आप संवर जायेगा

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक एक शब्द गहराई तक उतरता गया। गहन अभिव्यक्ति है आपकी..

    उत्तर देंहटाएं
  16. Ni:Shabd hue hum MAa, yeh tum hi itne easy way main samjha sakti ho...ILu...!

    उत्तर देंहटाएं
  17. कल आज और कल में आज जीने का सुन्दर संदेस देती प्यारी रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  18. अतीत को उतना ही भूलो
    जितनी ज़रूरत हो
    अतीत को जेहन में ना रखा
    तो आज को तराश नहीं पाओगे !
    सुन्दर सन्देश देती रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  19. हम अतीत से सबक लेकर वर्तमान को बेहतर कर सकते हैं.
    एक गीत भी याद आ रहा है-
    आने वाला पल जाने वाला है
    हो सकें तो इसमें जिन्दगी बिता दो

    उत्तर देंहटाएं
  20. जीना तो आज को है, सीख ले इतिहास से, सोच कर भविष्य को ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. Tumhara kya haya jo tum rote ho ...
    sach kaha aaj ko jeena bahut jaroori hai .. kal ki sunehri yaadon ke liye bhi aaj ko jeena jaroori hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. अतीत को उतना ही भूलो
    जितनी ज़रूरत हो
    अतीत को जेहन में ना रखा
    तो आज को तराश नहीं पाओगे !
    कितना क़ीमती संदेश दिया है रश्मि जी.
    आपकी रचनाओं में हमेशा एक चिन्तन मिलता है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. और भविष्य !
    आज ही तुम्हारा भविष्य है
    आज को संवारो
    आज हंसो
    आज को जियो....
    कल को भविष्य माना तो एक ही सार होगा
    तुमने क्या पाया?
    तुम्हारा क्या गया जो रोते हो !!!

    जिंदगी को सही सोच देती एक उत्कृष्ट कविता.
    हमेशा की तरह सत्यम,शिवम सुन्दरम.

    उत्तर देंहटाएं
  24. अतीत गौरवशाली और भविष्य स्वर्णिम - हमेशा। वर्तमान - जद्दोजहद भरा हमेशा।
    यही उत्तम स्थिति और गति है।

    उत्तर देंहटाएं
  25. प्रशंसा करने के लिए शब्दों का नितांत अभाव महसूस कर रही हूँ. जीवन दर्शन को इतनी आसानी से समझाना कोई आप से सीखे गहन अभिव्यक्ति है अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  26. rashmi ji,
    daarshanik soch aur sandeshprad rachna jo hum sabhi ko sochne keliye prerit karti hai aur khush-haal zindgi keliye aawashyak hai...

    आज को जीना चाहते हो
    तो उस आज को जियो
    जो रात तुम्हारे सिरहाने की बेचैनी ना बने
    उधेड़बुन और जोड़ घटाव में
    सुबह ना हो जाये
    और वह आज एक प्रश्न ना बन जाये...

    shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों से सजी एक बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. ……बहुत सुन्दर सन्देश देती रचना।....

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...