09 जुलाई, 2010

रामायण तुम्हें सुनाते हैं

http://www.youtube.com/watch?v=myx8Lb5NAes

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..... मनमोह लिया.....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. Hmm, hmm... soch me hun, kaise kuchh kahun.

    gyaan fir se, jor se pradipt hua...
    pranam

    उत्तर देंहटाएं
  3. पहले सुना था । पुनः सुनकर आनन्द आ गया ।

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...