30 सितंबर, 2010

पहचान चाहिए


सब बड़े हो गए
वे पौधे भी
जो मेरे इर्द गिर्द उग आए थे
पर मैं !
सदियों से खड़ा एक द्रष्टा हूँ
राहगीरों को देखता हूँ
पक्षियों को सुनता हूँ
जवान वृक्षों के गर्वीले कद पर
नाज करता हूँ

फिर अपने कोटर पर नज़र जाती है
जहाँ हर नए मौसम में
एक नया घोंसला होता है
नए पंख
नई उड़ान
इंतज़ार राहगीरों का
नए मौसम का

पर सबसे अधिक प्रतीक्षा होती है
एक पहचान की
चाहता हूँ कोई आए
मेरा इतिहास बताये
जर्जर पत्तियों से
हरे होने की करवटों का
मर्म बताये ....

बहुत गुज़रे नाज़ से
अब तो अपनी पहचान चाहिए

47 टिप्‍पणियां:

  1. "एक पहचान की
    चाहता हूँ कोई आए
    मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये ...." bahut badhiya kavita.. maarmik .. bimb ke maadhyam se kahi gai baat...

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर जड़ चेतन की पहचान,
    जीवन मरण, प्रकृति विधान।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hi khubsurat rachna...
    bikul hi mann ko choo gayi aapki yeh rachna....
    mere blog par thode se bargad ki chhaun me awashya padharein....

    उत्तर देंहटाएं
  4. pahchaan to jarurt hai...har kisi ke, jisne pala posa ho ya jo pala ho.......:)

    didi bahut khubshurat kavita!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. pahchaan to jarurt hai...har kisi ke, jisne pala posa ho ya jo pala ho.......:)

    didi bahut khubshurat kavita!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. pahchaan to jarurt hai...har kisi ke, jisne pala posa ho ya jo pala ho.......:)

    didi bahut khubshurat kavita!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत गुज़रे नाज़ से
    अब तो अपनी पहचान चाहिए
    सुन्दर बिम्ब संयोजन और भाव की रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपने बिलकुल मर्म पर हाथ रख दिया है
    हमे पहचान चाहिए
    सही है
    पर उससे
    जिसकी अपनी एक सोच हो
    जिससे उसकी पहचान हो

    उत्तर देंहटाएं
  9. "एक पहचान की
    चाहता हूँ कोई आए
    मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये ...."
    बस इसी पहचान के लिये सारी उम्र गुजर जाती है………………भावनाओं को करीने से पिरोया है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपनी पहचान तो हर कोई चाहता है फिर जिसने सबको राह दिखाई हो ... उसे तो पहचान मिलनी ही चाहिए .... बहुत अच्छा लिखा है....

    उत्तर देंहटाएं
  11. इंसान अपनी पहचान चाहता है ..वृक्ष के माध्यम से बहुत गंभीर बात कही

    उत्तर देंहटाएं
  12. पहचान को ढूँढते सभी हैं,एक कविता के माध्यम से आपने सत्य को पारीभाषित किया है रश्मि जी, बहुत-बहुत शुक्रिया बेहतरीन रचना के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  13. "जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये.."

    दर्द की सर्द लहर जैसी पंक्तियाँ...

    प्रणाम के साथ शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं
  14. "जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये.."

    दर्द की सर्द लहर जैसी पंक्तियाँ....
    प्रणाम के साथ शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  15. Adarniya Rashmi ji,
    bahut hi sundar aur prakriti ke najdik pahunchati rachna.
    Poonam

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत गुज़रे नाज़ से
    अब तो अपनी पहचान चाहिए

    -सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  17. पर सबसे अधिक प्रतीक्षा होती है
    एक पहचान की
    चाहता हूँ कोई आए
    मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये ....

    बहुत गुज़रे नाज़ से
    अब तो अपनी
    bahut sundar ,har koi pahchan banana chahta hai .

    उत्तर देंहटाएं
  18. पर सबसे अधिक प्रतीक्षा होती है
    एक पहचान की
    चाहता हूँ कोई आए
    मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये ....

    ये पंक्तियाँ जान लगीं कविता की.. पुनः झूम के चली कलम..

    उत्तर देंहटाएं
  19. सबसे अधिक प्रतीक्षा होती है
    एक पहचान की
    चाहता हूँ कोई आए
    मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये ...
    बहुत शानदार रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    अब तो अपनी पहचान चाहिए

    सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण कविता! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  22. पर सबसे अधिक प्रतीक्षा होती है
    एक पहचान की
    चाहता हूँ कोई आए
    मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये ..

    ता जिंदगी इसी चाहत में तो इन्सान की भी कटती है और हम हैं कि हम किसी और का इंतजार भी न कर अपनी ही पहचान बताने में सदा लगे रहते हैं, शायद विज्ञापन का दौर है............

    अति सुन्दर भावों से रची-बसी हमेशा कि तरह एक और उत्कृष्ट रचना

    हार्दिक बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  23. र सबसे अधिक प्रतीक्षा होती है
    एक पहचान की
    चाहता हूँ कोई आए
    मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये ....

    किसी का मर्म तो लोग उसके जाने के बाद ही पहचान पाते हैं रश्मि जी जीते जी किसने किसी के गुणों को जाना है .....

    उत्तर देंहटाएं
  24. Umra guzar jati h is sawaal ko jawaab pane me kya? aur mujhe laga k m hi thak gayi hu... lovely poem...

    उत्तर देंहटाएं
  25. मेरे ब्लॉग पर इस बार ....
    क्या बांटना चाहेंगे हमसे आपकी रचनायें...
    अपनी टिप्पणी ज़रूर दें...
    http://i555.blogspot.com/2010/10/blog-post_04.html

    उत्तर देंहटाएं
  26. रश्मि जी, रचना बहुत ख़ूबसूरत है,
    आपकी टिप्पणी के लिए शुक्रिया ...
    वटवृक्ष में रचना भेजने के लिए क्या करना है बताइए ... और रचना कौन सी होनी चाहिए, जो ब्लॉग में पोस्ट किये हैं वो या फिर कुछ नई ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. यही इतिहासबोध कहलाता है । एक पेड़ के बिम्ब मे यह अच्छी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. रश्मि जी, बहुत ही सुंदर कविता। आभार।
    http://sudhirraghav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  29. पर सबसे अधिक प्रतीक्षा होती है
    एक पहचान की
    चाहता हूँ कोई आए
    मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये ....

    बहुत गुज़रे नाज़ से
    अब तो अपनी पहचान चाहिए
    didi prnam!
    bahut kuch kahti hai ye panktiyan ,
    sunder , bodh katati hai .
    saadar

    उत्तर देंहटाएं
  30. "एक पहचान की
    चाहता हूँ कोई आए
    मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये'
    -पेड़ की व्यथा कथा के माध्यम से कही गयी गहन बात.
    हर कोई ढूंढता है अपनी पहचान खासकर जीवन के अंतिम दौर में .

    उत्तर देंहटाएं
  31. मेरा इतिहास बताये
    जर्जर पत्तियों से
    हरे होने की करवटों का
    मर्म बताये .... best lines
    beautiful poem... as-always

    उत्तर देंहटाएं
  32. क्या लिखती हैं आप ,बहुत सुंदर ,अपनी पहचान की चाहत बहुत दूर ले जाती है मानव को ।

    उत्तर देंहटाएं
  33. समस्त गुनीजनो, विद्वजनों से सबकुछ कह दिया ....बस इतना ही कह पाऊंगा..दीदी जीवंत भावों से सरोबार आपकी लेखनी को नमन ! प्रणाम !!

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    आपको और आपके परिवार को नवरात्र की हार्दिक शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  35. pehchan jo bataye wo sabse apna hota, kisi ko jan.na aur pehchaan.na mein jo bhed hai, aapki is kavita se spasht samjha ja sakta. shayad har insaan bhi yahi chahta.
    sundar abhivyakti, badhai.

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...