24 नवंबर, 2010

एक चुटकी नमक




'राजा बनने की धुन में उसका बचपन बीता ...'
कहते हुए
उसके अपने और वह खुद
भूल जाता है
कि वह राजकुमार था !

उसके खेल भी असाधारण थे
वह अयोध्या का राम बनता
या गोकुळ का कृष्ण !
शब्दों की बाज़ी हारते हारते
उसने शब्दों की खेती की
अनमोल बीजारोपण किया
जिसकी उर्वरक क्षमता ने
शब्दों के कोरे महारथियों को
घुटनों के बल
खुद तक आने को मजबूर किया !
प्रजा खुश रही
पर घर की दीवारों ने
बगावत किया ........

राजा की तरह मंद मुस्कान लिए
समूह से अलग चलता राजा
अपनी खुद्दारी का
झूठा दंभ भरता है
हीरे जवाहरातों में
एक चुटकी नमक ढूंढता है

39 टिप्‍पणियां:

  1. हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है

    वाह दीदी, क्या बात कही है ...
    सच है, पैसा सुख तो दे सकता है पर मन की शांति नहीं, खुशी नहीं ...
    ये सब मिलता है रिश्तों से ... अपनापन से ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. राजा ... सबके लिए चलता रहा
    प्रजा प्राप्य से खुश
    पर परिवार बस सबकुछ ले लेना चाहता है
    और राजा चुटकी भर नमक यानि प्यार ढूंढता है
    जो आसान नहीं होता
    चुटकी भर नमक कि तलाश आँखों को बेरंग कर जाती है ..

    आभार ...आप जानती ही होंगी क्यों ...:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. yahee ek chutkee namak maanav ko maanav se baandh kar rakhataa hai

    bahut badhiyaa rashmi jee

    उत्तर देंहटाएं
  4. राजा की तरह मंद मुस्कान लिए
    समूह से अलग चलता राजा
    अपनी खुद्दारी का
    झूठा दंभ भरता है
    हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है

    वाह चुटकी नमक के माध्यम से क्षणिक सुख की तलाश। बहुत सुन्दर लगी आपकी कविता। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया रश्मि जी...
    काफी कुछ छुपा है आपकी इस रचना में...
    चाहे दुनिया में कितना कुछ ही क्यूँ न मिल जाए प्यार की उम्मीद तो सभी को रहती है..

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच्चा सुख तो अपनेपन में है.. नमक में है... बहुत सुन्दर कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  7. राजा की तरह मंद मुस्कान लिए
    समूह से अलग चलता राजा
    अपनी खुद्दारी का
    झूठा दंभ भरता है
    हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है
    बचपन की नादानी से उभरती सोच कितनी परिपक्व बन गयी है... ! बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक चुटकी नमक ...हर चीज़ को स्वादिष्ट बना देती है ..चाहे वो भोजन हो या रिश्ते ...

    सच है नमक बहुत ज़रूरी है ...बहुत सारगर्भित रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. राजा की तरह मंद मुस्कान लिए
    समूह से अलग चलता राजा
    अपनी खुद्दारी का
    झूठा दंभ भरता है
    हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है

    भावपूर्ण रचना प्रस्तुति.... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खुबसूरत रचना
    हर भाव में बहुत गहराई है
    सच मे दुनिया में अपनेपन के सिवा कुछ नही है
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस एक चुटकी नमक की चाह मे ही खुद तबाह हो जाता है इंसान मगर हर किसी का नसीब कहाँ होता है………बेहद गहन अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  12. हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है

    सच है पैसे की चकाचोंध असली सुख नहीं दे सकती ... अकेला इंसान छोटी छोटी खुशियों से महरूम रह जाता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैम, आपकी ये कविता पढ़कर एक कहानी याद आ गयी, पापा हमेशा सुनते थे, उसमे भी एक नमक की कीमत को बाते जाता है... राजकुमारी की बेटी थी उस कहानी में...
    धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  14. हम्म नमक तो बहुत जरुरी है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. कभी जीवन की चाह चुटकी भर नमक में ही सिमट जाती है। बहुत सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  16. kahan kahan se soch ko jeete ho rashmi di........:)
    chutki bhar namak me bhi dhundh liya aapne apne soch ko....superb!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. "हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है"
    दीदी,
    आखिरी समय में "KING LEAR" को चुटकी-भर नमक का प्यार आखिर मिल ही गया.
    बेहद सुंदर .

    उत्तर देंहटाएं
  18. हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है

    अपनापन रूपी चुटकी भर नमक ही जीवन की सच्ची खुशी है, पर पैसों के चकाचौंध में खोई जिंदगियां इसे जीवन भर तलाशती ही रह जाती है, जो उनके दंभ भरे हाथों से पारे सा छिटकता रहता है. गहन संवेदनाओं की बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  19. अपनी खुद्दारी का
    झूठा दंभ भरता है
    हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है ।


    इसके बिना जीवन में कोई रस भी तो नहीं ...आभार इस भावमय प्रस्‍तुति के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है...

    jise ek chutki namak mil jaae wahi sach mein raja hai.... bahut sunder rachna!

    उत्तर देंहटाएं
  21. अपनी खुद्दारी का
    झूठा दंभ भरता है
    हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है ।
    बहुत अच्छी लगी आपकी यह रचना! वह भी इतने अच्छे उदाहरण के साथ.

    उत्तर देंहटाएं
  22. राजा का दर्द निचोड़ दिया आपने. अमेजिंग.

    उत्तर देंहटाएं
  23. Shayad ham kavita ko alag tareeke se samajh raheh hai...aaj ke bihaar ke chunavi parinamo se jodu to saty hi to hai...raja banane ke lalsa bhi poori hui, aur satta ka shukh bhi...sukh milte hi...bhrast, anaitik aachrana aur kriyakalaap ....aaj samarthan ka namak bhi nahi...mera nazariya zuda ho shayad ..lekin padh kar dimaag mein yahi click kiya

    उत्तर देंहटाएं
  24. काश उसकी आँख में ही होता वो नमक..:)
    कितना सच लिखा है आपने..

    उत्तर देंहटाएं
  25. इस रचना में गज़ब की मारक क्षमता है। कहीं-कहीं व्यंग्य है तो कहीं विषाद... अगर समाज ऐसे उदाहरणों से सीख ले ले, तो दुनिया रहने के लिए और अच्छी जगह बन जाएगी।

    धन्यवाद,
    विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  26. नमक स्नेह का ... अपनापन का...
    यही तो वास्तविक पूँजी है!

    उत्तर देंहटाएं
  27. राजा की तरह मंद मुस्कान लिए
    समूह से अलग चलता राजा
    अपनी खुद्दारी का
    झूठा दंभ भरता है
    हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है
    .....

    बहुत ही सारगर्भित अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  28. aakhiri do panktiya behad sateek... dambh ke bhitar chhupi huvi aik haqiqat... apnapan talaaste huve ...bahut sundar rachnaa..

    उत्तर देंहटाएं
  29. aakhiri do panktiya behad sateek... dambh ke bhitar chhupi huvi aik haqiqat... apnapan talaaste huve ...bahut sundar rachnaa..

    उत्तर देंहटाएं
  30. "हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है" !!!
    बहुत सटीक और मार्मिक मिथक चुना है आपने ! कौन नही जनता नमक की महिमा को ! बधाई स्वीकारें !

    उत्तर देंहटाएं
  31. सुख के लिए एक चुटकी नमक ही तो चाहिए होता है। वह नमक पसीने से भी आता है। और पसीना परिश्रम से।

    उत्तर देंहटाएं
  32. कितनी ख्वाहिशें यहाँ हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  33. अपनी खुद्दारी का
    झूठा दंभ भरता है
    हीरे जवाहरातों में
    एक चुटकी नमक ढूंढता है
    कविता मार्मिक बन पड़ी है .....इन शब्दों से
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  34. b'ful di
    bahut achi hai

    iski tareef mere papa ne b bahut ki
    unki taraf se b "shubhkamnayen"

    उत्तर देंहटाएं
  35. are waah कितने सलीके से कह दी बड़ी बात

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...