26 नवंबर, 2010

अपनी ही निगाह में अजनबी


कई बातें हमें उद्वेलित करती हैं
पर आत्मसात करना हार नहीं
मजबूती है ...
मजबूत दीवारें ही बता पाती हैं
कि मुझे बेधना आसान नहीं ...
बिल्कुल ज़रूरी नहीं
कि हम बाहर बारूद बिछा दें !
धमाके से किसी निर्दोष का अवसान
क्या हमें सुकून देगा
क्या किसी पंछी का बसेरा
फिर कभी हमारे दालान में बनेगा ?
...
हमें मजबूत होना है
सजग होना है
ना कि असली फूलों की खुशबू से विलग होना है
..
दुर्भाग्य !
तरह तरह की दलीलों से
हम बनावटी होकर रह गए हैं ...
चेहरा नकली
बोली नकली
खिलखिलाहट नकली ..
डर लगता है
हम सब अपनी ही निगाह में
अजनबी होकर रह गए हैं !

38 टिप्‍पणियां:

  1. जिंदगी में घुस चुके बनावटीपन पर अच्छी कविता... काश हम भीतर के अजनबी से परिचित हो पाते..

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वयं के मन को झकझोरती अच्छी रचना ..पहले स्वयं की अजनबियत तो दूर करें ....आज खुद से भी मिलते हैं तो एक मुखौटा लगा कर ...विचारणीय रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. sach kaha sangeeta di ne..........aakhir kab ham apne ko pahchan payenge......!!

    as usual ek badhiya post!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दुर्भाग्य !
    तरह तरह की दलीलों से
    हम बनावटी होकर रह गए हैं ...
    चेहरा नकली
    बोली नकली
    खिलखिलाहट नकली ..
    डर लगता है
    हम सब अपनी ही निगाह में
    अजनबी होकर रह गए हैं !
    सही बात है रश्मिजी। आज हर आदमी के चेहरे पर कई नकाब हैं अपनी खुद की पहचान तो वो खो चुका है। बधाई इस रचना के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम बनावटी होकर रह गए हैं ...
    चेहरा नकली
    बोली नकली
    खिलखिलाहट नकली ..

    स्‍वयं का सच बयां करती हुई पंक्तियां ...।

    उत्तर देंहटाएं
  6. साम्प्रत समय में इंसानी रूह में जो खोखलापन और दिखावा है, उसी का वास्तविक चित्रण... धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही है मैम... पहले कहते थे कि कुछ लोग सुबह उठ के मेक-अप करते हैं... अब तो लागत अहै कि नकलीपन का ये मेक-अप हर किसी के चहरे, ज़िंदगी में 24 घंटे रहता है...
    awesome... हमेशा की तरह...

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक- एक पंक्ति से सहमत ...

    @ हमें मजबूत होना है
    सजग होना है
    ना कि असली फूलों की खुशबू से विलग होना है

    बिलकुल मेरे ही दिल की बात जैसा ...
    पहले हम खुद को तो पहचान लें ...
    बहुत अपनी सी लगी कविता ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्‍छी रचना, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमें मजबूत होना है
    सजग होना है
    ना कि असली फूलों की खुशबू से विलग होना है
    इस कविता में स्वय्म को तरीक़े से पहचानने की कोशिश नज़र आती है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. रचना तो सुन्दर है पर शायद उससे भी सुन्दर और विचारोत्तेजक उसमें निहित भावना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदरणीय रश्मि प्रभा जी
    नमस्कार !
    आपकी कविता पढ़कर मन अभिभूत हो गया ,
    ............बहुत सुन्दर अहसास , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. शब्द शब्द गहरे भाव जगाती आपकी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut asardaar rachna didi, ek alag soch ko janm deti hui

    badhayi

    vijay
    kavitao ke man se ...
    pls visit my blog - poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. दुर्भाग्य !
    तरह तरह की दलीलों से
    हम बनावटी होकर रह गए हैं ...
    चेहरा नकली
    बोली नकली
    खिलखिलाहट नकली ..
    डर लगता है
    हम सब अपनी ही निगाह में
    अजनबी होकर रह गए हैं !

    नकाब ओढे मुखौटों का सच्……………बेहद संवेदनशील और सोचने को मजबूर करती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  16. हम सब अपनी ही निगाह में
    अजनबी होकर रह गए हैं !
    ... bahut khoob ... behatreen !!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. हमें मजबूत होना है
    सजग होना है
    ना कि असली फूलों की खुशबू से विलग होना है

    अजनबी हो आए मन को आत्मसाक्षात्कार करने एवं खुद को तलाशने और परखने का सफ़र इन्हीं राहों से होकर गुजरता है. गहन संवेदनाओं की बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत बहुत बहुत ही सही कहा आपने....

    प्रेरणादायी अतिसुन्दर पोस्ट/रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  19. हम बनावटी होकर रह गए हैं ...
    चेहरा नकली
    बोली नकली
    खिलखिलाहट नकली ..
    डर लगता है
    हम सब अपनी ही निगाह में
    अजनबी होकर रह गए हैं

    सच कहा आपने ,good

    उत्तर देंहटाएं
  20. हमें मजबूत होना है
    सजग होना है
    ना कि असली फूलों की खुशबू से विलग होना है...

    रश्मि जी, ये रचना आज की तिथि को कितना छू रही है...और बहुत बड़ा संदेश दे रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. आत्मसात ही कहीं इश्वर से भी मिलाता है... बहुत सुंदर विचार!

    उत्तर देंहटाएं
  22. rashmi di
    bilkuulsach aur sarthak post.naqab ke peechhe chehara asli hai ya naqli koun janta hai?
    दुर्भाग्य !
    तरह तरह की दलीलों से
    हम बनावटी होकर रह गए हैं ...
    चेहरा नकली
    बोली नकली
    खिलखिलाहट नकली ..
    डर लगता है
    हम सब अपनी ही निगाह में
    अजनबी होकर रह गए हैं!
    sachmuch
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  23. बिल्कुल ज़रूरी नहीं
    कि हम बाहर बारूद बिछा दें !
    धमाके से किसी निर्दोष का अवसान
    क्या हमें सुकून देगा
    क्या किसी पंछी का बसेरा
    फिर कभी हमारे दालान में बनेगा ?
    भावपूर्ण रचना ............

    उत्तर देंहटाएं
  24. इस छद्म के बीच से ही हमे अपनी वास्तविकता की तलाश करनी है । अच्छी कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. बेहतरीन अभिव्यक्ति...................

    उत्तर देंहटाएं
  26. कभी-कभी सचमुच ऐसा लगता है...सबकुछ यंत्रवत हो रहा है....खुद से ही अजनबी होते जा रहें हैं...
    कई सवाल खड़े करती सशक्त रचना

    उत्तर देंहटाएं
  27. दुख में कठोर और सुख में द्रवित।

    उत्तर देंहटाएं
  28. बेहद भावपूर्ण अभिव्यक्ति.........

    http://saaransh-ek-ant.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  29. दुर्भाग्य !
    तरह तरह की दलीलों से
    हम बनावटी होकर रह गए हैं ...
    चेहरा नकली
    बोली नकली
    खिलखिलाहट नकली ..
    डर लगता है
    हम सब अपनी ही निगाह में
    अजनबी होकर रह गए हैं !

    जाने कैसे कैसे नकाब पहन रखे हैं हर इक चहरे ने
    हर चहरे के पीछे सूरत जानी पहचानी देखी ......
    तो अजनबी तो होंगे ही .....
    हमेशा की तरह बहुत अच्छी रचना .......!!

    उत्तर देंहटाएं
  30. दुर्भाग्य !
    तरह तरह की दलीलों से
    हम बनावटी होकर रह गए हैं ...
    चेहरा नकली
    बोली नकली
    खिलखिलाहट नकली ..
    डर लगता है
    हम सब अपनी ही निगाह में
    अजनबी होकर रह गए हैं!
    कितनी सीधी सच्ची खरी बातें

    उत्तर देंहटाएं
  31. bahut khub di
    "yahan sab dhundla sa hai
    main khud ko pehchan ni pa raha"

    sach me hum zindagi me bhagte hue khud se kitna durr ho jate hain

    उत्तर देंहटाएं
  32. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 23/08/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं

ये तो मैं ही हूँ !!!

आज मैं उस मकान के आगे हूँ जहाँ जाने की मनाही थी सबने कहा था - मत जाना उधर कमरे के आस पास कभी तुतलाने की आवाज़ आती है कभी कोई पु...