21 मार्च, 2011

प्रेम



.........
जोड़े थे दिन उँगलियों पर
बड़ी ऐंठन हुई थी अन्दर
फिर धीरे धीरे मान लिया था मैंने
प्यार एक इबादत है
ज़रूरी नहीं कि इबादत करने पर
खुदा आँखें खोल ही दे !
..........
फिर मैंने अपने चेहरे के आईने से
तेरा अक्स हटा दिया
पर मन की स्लेट से
तेरे नाम को मिटाना आसान न था
यूँ कहो
मुझे गवारा न था
.....
अपनी धड़कनों में मैंने तेरा नाम
मंत्र की तरह
धड़कने को छोड़ दिया
अच्छा लगता था
बेखबर अपनी दुनिया में
बेमानी ठहाके लगाते तुम
मेरे भीतर ही धड़कते हो !
.........
दिल पर रखकर हाथ
मैंने वह हर हौसला लिया तुमसे
जिन्हें तुम सोच भी नहीं सकते थे
...
दुनिया भला क्या हिसाब करेगी इसका
वह तो रुद्राक्ष के 108 मनके में
प्रभु का नाम लेने में भटकती है
खामखाह उसने आँखों में पट्टी बाँध
खुद को कानून की मूर्ति बना लिया
उन्हें क्या मालूम -
प्रेम किसी की नहीं सुनता
प्रेम आत्मा है
और आत्मा में प्रवेश संभव ही नहीं !
.......
उन्हें क्या मालूम
प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
वह जब भी अपनी प्रत्यंचा खींचता है
दिशाएं पिघलकर नदी की तरह बहती हैं
और बंजर धरती में
हरियाली दिखती है ...

50 टिप्‍पणियां:

  1. ये अमर है . अनिवर्चनीय है , मानवता के लिए अमृत सदृश है , इबादत है और खुदा भी . प्रेम ही सत्य है .

    उत्तर देंहटाएं
  2. mam apne buhut hi sundar likha hai.apki har kavita dil ko chu liti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम, ओज, आध्यात्म से भरी कविता ! बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम क्या है और उसका लक्ष्य क्या है ..इसको बहुत सुन्दर शब्दों में रख खींच ही तो दी आपने प्रत्यंचा ...बहुत सुन्दर भाव ..एक एक पंक्ति मन में उतरती चली गयी

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर कविता रश्मि जी| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
    bahut sunder , shaandar kvita ke lie bdhaai ho
    sahitya surbhi

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही अच्छी ओर संवेदनशील रचना, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेम आत्मा है ...और आत्मा में प्रवेश संभव ही नहीं ..
    निःशब्द हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज़रूरी नहीं कि इबादत करने पर
    खुदा आँखें खोल ही दे !

    अपनी धड़कनों में मैंने तेरा नाम
    मंत्र की तरह
    धड़कने को छोड़ दिया

    प्रेम आत्मा है
    और आत्मा में प्रवेश संभव ही नहीं !

    उन्हें क्या मालूम
    प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
    वह जब भी अपनी प्रत्यंचा खींचता है
    दिशाएं पिघलकर नदी की तरह बहती हैं
    और बंजर धरती में
    हरियाली दिखती है ..

    ise padne ke baad kisi aur pravachan ki zaroorat hi nahi...! bahut sunder, saadar

    उत्तर देंहटाएं
  10. "उन्हें क्या मालूम

    प्रेम किसी की नहीं सुनता

    प्रेम आत्मा है

    और आत्मा में प्रवेश संभव ही नहीं

    .......

    उन्हें क्या मालूम

    प्रेम का लक्ष्य प्रेम है "



    भावों की गहराई और अध्यात्म की ऊंचाई के साथ प्रेम की अलौकिक सत्ता का शब्दांकन प्रणम्य है |

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही अद्भुत रचना रश्मिजी !!! आप तो खैर आप ही हैं एक श्रेष्ट शब्दों की धनि !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. उन्हें क्या मालूम
    प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
    वह जब भी अपनी प्रत्यंचा खींचता है
    दिशाएं पिघलकर नदी की तरह बहती हैं
    और बंजर धरती में
    हरियाली दिखती है ...

    बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. उठा बबूला प्रेम का ,तिनका उडा आकाश
    तिनका तिनके से मिला,तिनका तिनके पास
    प्रेम के ऊपर अति शानदार अभिव्यक्ति.
    मेरी नयी पोस्ट 'बिनु सत्संग बिबेक न होई'पर आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच है प्रेम का लक्ष्य सिर्फ प्रेम के अतिरिक्त और क्या हो सकता है !
    सुंदर प्रस्तुती !

    उत्तर देंहटाएं
  15. उन्हें क्या मालूम
    प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
    वह जब भी अपनी प्रत्यंचा खींचता है
    दिशाएं पिघलकर नदी की तरह बहती हैं
    और बंजर धरती में
    हरियाली दिखती है ..

    गहन चिंतन और प्रेम से सराबोर उत्कृष्ट रचना..भावों और उनकी अद्भुत अभिव्यक्ति ने निशब्द कर दिया..

    उत्तर देंहटाएं
  16. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 22 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  17. "फिर मैंने अपने चेहरे के आईने से
    तेरा अक्स हटा दिया
    पर मन की स्लेट से
    तेरे नाम को मिटाना आसान न था
    यूँ कहो
    मुझे गवारा न था.."

    बहुत सुंदर रचना ! प्रेम की ऐसी अभिव्यक्ति ! जो अक्स एक बार चढ़ गया सो चढ़ गया ..

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रेम की प्रत्यन्चा चढ़ी रहे। बहुत ही सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  19. ज़रूरी नहीं कि इबादत करने पर
    खुदा आँखें खोल ही दे !
    बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  20. उन्हें क्या मालूम -
    प्रेम किसी की नहीं सुनता
    प्रेम आत्मा है
    और आत्मा में प्रवेश संभव ही नहीं !
    .......
    बहुत सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  21. वह जब भी अपनी प्रत्यंचा खींचता है
    दिशाएं पिघलकर नदी की तरह बहती हैं
    और बंजर धरती में
    हरियाली दिखती है ...





    चर्चा मंच के माध्यम से आपके ब्लॉग पर आने का सुअवसर मिला, सौभाग्य।
    प्रेम की अभिव्यक्ति इससे इतर और कुछ हो ही नहीं सकता।
    रूद्रक्ष की 108 माला।
    और प्रत्यंचा।
    या फिर बंजर जमीन पर हरियाली।

    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  22. प्रेम का लक्ष्य प्रेम ही है -
    बहुत सुंदर भाव -
    अनेक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  23. प्रेम किसी की नहीं सुनता
    प्रेम आत्मा है
    और आत्मा में प्रवेश संभव ही नहीं !

    एक‍ सच.. जिसके आगे हर शब्‍द मौन है ...बहुत खूब ।।

    उत्तर देंहटाएं
  24. प्यार की शक्ति का कोमल भावनाओं के संग वर्णन बेहद गीतमय रहा।

    प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
    वह जब भी अपनी प्रत्यंचा खींचता है
    दिशाएं पिघलकर नदी की तरह बहती हैं

    मोहक प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  25. अपनी धड़कनों में मैंने तेरा नाम
    मंत्र की तरह
    धड़कने को छोड़ दिया
    अच्छा लगता था
    बेखबर अपनी दुनिया में
    बेमानी ठहाके लगाते तुम
    मेरे भीतर ही धड़कते हो !

    अध्यात्म और प्रेम का सुन्दर समन्वय किया है…………प्रेम को परिभाषित करती एक सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  26. प्रेम किसी की नहीं सुनता
    प्रेम आत्मा है
    और आत्मा में प्रवेश संभव ही नहीं !
    एकदम सच ... जिसके आगे हर शब्‍द मौन हो जाता है ...सशक्‍त रचना ।।

    उत्तर देंहटाएं
  27. फिर मैंने अपने चेहरे के आईने से
    तेरा अक्स हटा दिया
    पर मन की स्लेट से
    तेरे नाम को मिटाना आसान न था
    यूँ कहो
    मुझे गवारा न था
    ..........

    मन की भावो को बहुत सुन्दरता से बयां करती है आपकी कविता ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. अपनी धड़कनों में मैंने तेरा नाम
    मंत्र की तरह
    धड़कने को छोड़ दिया
    अच्छा लगता था
    बेखबर अपनी दुनिया में
    बेमानी ठहाके लगाते तुम
    मेरे भीतर ही धड़कते हो !
    .........
    kai baar padhi ,bahut achcha lag raha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  29. फिर मैंने अपने चेहरे के आईने से
    तेरा अक्स हटा दिया
    पर मन की स्लेट से
    तेरे नाम को मिटाना आसान न था
    यूँ कहो
    मुझे गवारा न था
    ******************
    bahut accha likha hai aapne...dil se kisi ki yaad yun mitaya na gaya,
    apne aap ko yun fir sataya na gaya.

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत सुन्दर कोमल अभिव्यक्ति...सत्य है प्रेम आत्मा कि स्वामी नहीं ...सेवक होती है....बहुत बहुत बहुत शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत कोमल भाव पूर्ण अभिव्यक्ति |मन को गहराई तक छू गयी |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  32. प्रेम आत्मा है
    और आत्मा में प्रवेश संभव ही नहीं !

    bahut sundar aur bhav poorn lekhan..har pankti jeevan aur prem se sarobbar hai..ati sundar..

    उत्तर देंहटाएं
  33. उन्हें क्या मालूम
    प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
    वह जब भी अपनी प्रत्यंचा खींचता है
    दिशाएं पिघलकर नदी की तरह बहती हैं
    और बंजर धरती में
    हरियाली दिखती है ...
    बहुत प्रभावशाली एवं सशक्त अभिव्यक्ति ! प्रेम की इसी सात्विकता को कोई स्पर्श नहीं कर सकता ! वह शाश्वत है, अनंत है, अनमोल है ! बहुत सुन्दर रचना ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  34. प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
    वह जब भी अपनी प्रत्यंचा खींचता है
    दिशाएं पिघलकर नदी की तरह बहती हैं
    और बंजर धरती में
    हरियाली दिखती है ...


    प्रेम कालजयी है और हमेशा रहेगा. इसकी महिमा के क्या कहने. शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  35. उन्हें क्या मालूम
    प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
    प्रेम की प्रत्यंचा पर प्रेम ही चढ़ता है और शायद प्रेम ही लक्ष्य होता है
    बेहतरीन भाव, बेहतरीन कविता

    उत्तर देंहटाएं
  36. saadgi aur umdaaygi ka namoona hai ye aapki rachna...bahut mushkil hota hai aise bhaavo ko shabdo ki mala me piron jisme aap maahir hain. pranaam.

    उत्तर देंहटाएं
  37. उन्हें क्या मालूम
    प्रेम का लक्ष्य प्रेम है
    वह जब भी अपनी प्रत्यंचा खींचता है
    दिशाएं पिघलकर नदी की तरह बहती हैं

    प्रेम से बहुत कुछ बदल सकता है दीदी ! ज्यादातर लोग यह बात समझते ही नहीं ! हम नफरत को इस कदर अपना चुके हैं कि अब मुहब्बत परायी हो चुकी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  38. Pantji ki hi tarah aapki abhivyakti bahut achchhi hai. Prem, Ishwar aur Atma-tatva ko darshati aapki kavita bahut achchi lagi.

    उत्तर देंहटाएं
  39. प्रेम किसी की नहीं सुनता
    प्रेम आत्मा है
    और आत्मा में प्रवेश संभव ही नहीं !

    So true!!!

    उत्तर देंहटाएं
  40. फिर मैंने अपने चेहरे के आईने से
    तेरा अक्स हटा दिया
    पर मन की स्लेट से
    तेरे नाम को मिटाना आसान न था
    यूँ कहो
    मुझे गवारा न था

    sahi kahaa aapne man ki slat vo chij hai jaha ek bar nam likh lo fir vo kabhi nahi mitta.
    prem ki puri bat dil dahelaane vali likhi hai aapne..

    उत्तर देंहटाएं
  41. प्रेम का लक्ष्य प्रेम है " Khubsurat Bat

    उत्तर देंहटाएं
  42. प्रेम का लक्ष्य प्रेम है " khubsurat bat

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...