12 सितंबर, 2012

शब्द



भावनाओं की सरगोशियाँ आज भी हैं
कविताओं की सरगोशियाँ आज भी हैं
आसमां से विस्तृत पन्नों के धरातल
- मशीनी भी
सजीव फड़फडाते भी
कभी कोई चिड़ियाँ चोंच में उठा लाती है शब्द
तो कभी बादलों की पालकी पर उड़ते हैं शब्द
थके चेहरे को हवाएँ अपनी हथेलियों में भर लेती हैं
तो आँखों के आगे मुस्कुराने लगते हैं कई शब्द
बिखरे बालों को कान के पीछे कर
कानों में प्रेम रस घोलते हैं शब्द ....
प्रेम !
सिर्फ हीर रांझे
शीरी फ़रहाद .... जैसे ही नहीं होते
कृष्ण यशोदा
राहुल यशोधरा से भी होते हैं !
प्रेम जब शिशु बन माँ कहता है
माँ की नींद शिशु की नींद से जुड़ जाती है
तब पालने में झूलते हैं शब्द
दुआओं के बोल
काजल का टीका बन जाते हैं शब्द ...
बच्चे की तोतली ज़ुबान से लेकर
युवा उड़ान तक माँ के आँचल की गांठ में
चाभी के गुच्छे जैसे बंधते हैं शब्द !
बच्चों का बाहर जाना
माँ की आँखों में चिंता जैसे तैरते हैं शब्द
बच्चों की छुट्टियां
रसोई की खुशबू से आते हैं शब्द
.....
शब्द कभी नहीं विलीन होते
प्रेम हो , इंतज़ार हो, दुआ हो, मनुहार हो
वियोग हो , त्यौहार हो ....
शब्द साथ साथ चलते रहते हैं
कभी सिर्फ खिलखिलाते हैं शब्द
कभी बालों में घूमती माँ की उँगलियों से निकलते हैं शब्द
शब्द ............
जीवन के कई रंग होते हैं शब्द

40 टिप्‍पणियां:

  1. कभी सिर्फ खिलखिलाते हैं शब्द
    कभी बालों में घूमती माँ की उँगलियों से निकलते हैं शब्द
    आँखों में आंसू लाते हैं शब्द कभी सिर्फ रुलाते हैं शब्द !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाकई जीवन के रंग हैं शब्द... बेहतरीन कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  3. शब्द सदा ही संग रहे हैं,
    कर्मनिरत हैं, अंग रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शब्द ही शब्द है...
    हर सू कविता ही कविता.....
    वाह...
    क्या जीवन है..

    बहुत सुन्दर दी...
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिन साँस जीवन नहीं
    बिन शब्द अभिव्यक्ति नहीं
    जित देखूँ उत शब्द ही शब्द
    कहीं गंगा-सी पावन
    कहीं गंदले जल सा अपशब्द
    कहीं सच के परिधान में लिपटा
    कहीं झूठ की चाशनी में डूबा
    शब्द! शब्द ! शब्द!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बच्चे की तोतली ज़ुबान से लेकर
    युवा उड़ान तक माँ के आँचल की गांठ में
    चाभी के गुच्छे जैसे बंधते हैं शब्द !

    आज कल मेरे शब्द भी तोतली ज़ुबान में रहते हैं :):) बहुत सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  7. शब्द कभी नहीं विलीन होते
    प्रेम हो , इंतज़ार हो, दुआ हो, मनुहार हो
    वियोग हो , त्यौहार हो ....
    शब्द साथ साथ चलते रहते हैं
    कभी सिर्फ खिलखिलाते हैं शब्द
    कभी बालों में घूमती माँ की उँगलियों से निकलते हैं शब्द
    शब्द ............
    जीवन के कई रंग होते हैं शब्द

    सच कहा ,आपने.शब्द के अनेकानेक रंग होते हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  8. रंग रंग के शब्द खिले हैं ..सब भाते हैं..
    सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  9. शब्द शक्ति है,शब्द भाव है.
    शब्द सदा अनमोल,
    शब्द बनाये शब्द बिगाडे.
    तोल मोल के बोल,,,,,,,

    बहुत बेहतरीन रचना,,,

    RECENT POST -मेरे सपनो का भारत

    उत्तर देंहटाएं
  10. कौन सा भाग बताऊँ रश्मि दीदी...
    पूरी की पूरी कविता ही भा गई मन को.. छू गयी अन्दर तक...

    बहुत ही सुन्दर रचना.. और उसके साथ जो चित्र लगाया है आपने वो मुझे बहुत अच्छा लगा...

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. कौन सा भाग बताऊँ रश्मि दीदी...
    पूरी की पूरी कविता ही भा गई मन को.. छू गयी अन्दर तक...

    बहुत ही सुन्दर रचना.. और उसके साथ जो चित्र लगाया है आपने वो मुझे बहुत अच्छा लगा...

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  12. शब्द कभी नहीं विलीन होते
    प्रेम हो , इंतज़ार हो, दुआ हो, मनुहार हो
    वियोग हो , त्यौहार हो ....
    शब्द साथ साथ चलते रहते हैं

    बहुत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  13. शब्द ही जीवन है , कहे लिखे गये या अनकहे , अनलिखे भी !

    उत्तर देंहटाएं
  14. हमारे भी आस पास भी घूमते रहते है शब्द..

    उत्तर देंहटाएं
  15. कभी बालों में घूमती माँ की उँगलियों से निकलते हैं शब्द
    शब्द ............
    जीवन के कई रंग होते हैं शब्द
    पूरी की पूरी पोटली ले आये ये शब्‍द
    जहाँ माँ का आंचल हो
    वहॉं इनका अनूठा संगम होता है

    उत्तर देंहटाएं
  16. जीवन के कई रंग होते हैं शब्द

    प्रणव का नाद होते हैं शब्द

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्रेम जब शिशु बन माँ कहता है
    माँ की नींद शिशु की नींद से जुड़ जाती है
    तब पालने में झूलते हैं शब्द
    दुआओं के बोल
    काजल का टीका बन जाते हैं शब्द-bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रेम जब शिशु बन माँ कहता है
    माँ की नींद शिशु की नींद से जुड़ जाती है
    तब पालने में झूलते हैं शब्द
    दुआओं के बोल
    काजल का टीका बन जाते हैं शब्द-bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  19. बच्चे की तोतली ज़ुबान से लेकर
    युवा उड़ान तक माँ के आँचल की गांठ में
    चाभी के गुच्छे जैसे बंधते हैं शब्द !
    बच्चों का बाहर जाना
    माँ की आँखों में चिंता जैसे तैरते हैं शब्द
    बच्चों की छुट्टियां
    रसोई की खुशबू से आते हैं शब्द

    बहुत सुंदर अहसास..आपकी कविता एक शब्दचित्र बन क्र सामने आ गयी...

    उत्तर देंहटाएं
  20. शब्द की तारीफ के लिए शब्द नहीं है :-)

    उत्तर देंहटाएं
  21. शब्द ही हमारी जान है और पहचान भी..बहुत अच्छी लगी आपकी सुन्दर शब्द-कृति..

    उत्तर देंहटाएं
  22. शब्दों का क्या खुबसूरत वर्णन किया है...
    आपकी तो हर एक रचना लाजबाब होती है..
    किसी एक की क्या तारीफ करुं

    उत्तर देंहटाएं
  23. शब्दों का क्या खुबसूरत वर्णन किया है...
    आपकी तो हर एक रचना लाजबाब होती है..
    किसी एक की क्या तारीफ करुं

    उत्तर देंहटाएं
  24. निशब्द है जी शब्द महीमा पढ़कर....
    लाजवाब!
    मेरे साथ तो इन्होने कबड्डी भी खेली है!खूब पटखनिया दी,खायी भी!
    कुँवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  25. जीवन के कई रंग होते हैं शब्द....jo jeevan men rang bharte hain......

    उत्तर देंहटाएं
  26. साथ चलते चलते मुखर हो ही jate hai shbd
    behtrin

    उत्तर देंहटाएं
  27. जीवन के कई रंग होते हैं शब्द
    vastav me ...
    shabd hi to bharte hain rang jeevan me ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. मैं तो शब्दों के साथ खूब खेलता हूँ, कहीं साथ छोड़ गए तो गूंगा न हो जाऊं..
    बहुत ही प्रभावशाली रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. Gehre shabd... :)

    come and join the group...it would be pleasure to see you there...

    http://www.facebook.com/#!/groups/424971574219946/

    उत्तर देंहटाएं
  30. जीवन के कई रंग होते हैं शब्द.....

    सही कहा..बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  31. बच्चों का बाहर जाना
    माँ की आँखों में चिंता जैसे तैरते हैं शब्द
    बच्चों की छुट्टियां
    रसोई की खुशबू से आते हैं शब्द
    behtrin rachna vakai sundar ...

    उत्तर देंहटाएं
  32. कभी सिर्फ खिलखिलाते हैं शब्द
    कभी बालों में घूमती माँ की उँगलियों से निकलते हैं शब्द
    शब्द ..
    जीवन के कई रंग होते हैं शब्द ...

    सच है शब्द ही अभिव्यक्ति है ... शब्द ही अनुभूति है ... सब्द ही आदि है शंड ही अंत है ...

    उत्तर देंहटाएं
  33. शब्द ..शब्द ..शब्द
    मुझे निशब्द करते ये शब्द ...

    उत्तर देंहटाएं
  34. "कभी बालों में घूमती माँ की उँगलियों से निकलते हैं शब्द"
    इस पंक्ति ने एक बार फिर सारा अतीत आँखों के सामने ला दिया, बहुत करीब है ये हमारे मन के, आज भी ऐसे ही महसूस करती हूँ माँ को...

    उत्तर देंहटाएं
  35. शब्द ही शब्द को पुकारते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  36. सभी एहसासों का दूसरा नाम है शब्द जो कभी शब्द बनकर बोलते हैं तो कभी मन के एहसास बन आँखों से छलक़ते हैं शब्द....बेहतरीन भावभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  37. बेहतारीब रश्मि जी. कितने सुन्दर "शब्द" है आप्नकी इस रचना में.

    निहार रंजन

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...