07 जनवरी, 2013

IF NO ONE KILLED JESSIKA ...


IF NO ONE KILLED JESSIKA ...
तो उस रात कहीं कोई बस नहीं चली 
कोई हादसा नहीं हुआ 
कोई लड़की नहीं मरी !...
अरे कभी नहीं मरी !!!
... क्या नाम था उसका ?
क्या पहचान थी  उसकी ?
क्या कहा ? - इस देश की बेटी थी !!!
- तब तो बहस ही खत्म !
यहाँ जातीयता है 
धर्म की लड़ाई है 
यहाँ जिन महान हस्तियों का शासन है 
वे सब उस बस के यात्री हैं 
तो बस की शिनाख्त भी मत करो 
अँधेरे में बेहोश चेहरे भला गवाही देते हैं 
.........
याद रखो - चश्मदीद लोग अंधे होते हैं !

31 टिप्‍पणियां:

  1. हाँ दी ....अँधेरे ओर बेहोशी ....यही आज की बस को चला रहे है ......फिर किससे क्या पूछे .....कौन क्या बताए ...ओर जो बताए उसकी सच्चाई ....किस छलनी में छनेगी ....उफ्फ्फ............

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोग अंधे ही नहीं सवेंदनाविहीन भी होते है ...अभी अभी फेसबुक पे ये कमेन्ट पढ़ के आ रही हूँ
    Madan Mohan Saxena
    रेप के लिए खुद लड़की जिम्मेदारः आसाराम बापू
    ये कैसा बापू ,ये कैसा संत ..... घोर कलयुग


    और उस पर मेरा ये जवाब रहा .... आसाराम बापू....के लिए लड़की आज भी भोग्या ही लगती है |बेईज्ज़ती,दर्द और पीड़ा क्या है वो नहीं जानते ...इस लिए ऐसा कह रहें है



    सच में अपने ही देखते देखते वक्त के साथ लोगों की सोच में कितना बदलाव आ गया है ..हैरान हूँ मैं आज सच में :(

    उत्तर देंहटाएं
  3. यहाँ जिन महान हस्तियों का शासन है
    वे उस बस के यात्री हैं
    तो बस की शिनाख्त भी मत करो
    अँधेरे में बेहोश चेहरे भला गवाही देते हैं
    .........
    याद रखो - चश्मदीद लोग अंधे होते हैं !
    ....और इनके पास अपनी कोई जुबान भी तो नहीं होती हैं!!
    ....कटु यथार्थ है यह आज का ... ... ... जाने कितने चेहरे एक से हैं ... ...कौन करे पहचान !! सवाल ही सवाल खड़े हैं आज सामने ......

    उत्तर देंहटाएं
  4. Very Sad situation.Hoping for better.
    Very fine, fine and all meaningful presentation

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिल का दर्द है के कम नहीं होता.....
    क्या कहूँ ...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल का दर्द है के कम नहीं होता.....
    क्या कहूँ ...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या हुआ ,
    कुछ हुआ था क्या ,
    हुआ होगा ,
    हमें क्या ,
    आज थोडा बिजी हूँ ,
    कल वक्त हुआ तो पूरी बात सुनूंगा ,
    अपनी राय भी दूँगा ,
    क्या सही , क्या गलत ,
    ये भी बताऊंगा ,
    कुछ देर को दिल दुखा तो ,
    एक मोमबत्ती भी जला दूंगा ,
    क्या ?
    मैं कब सुधरूंगा ?
    मैं किसलिए सुधरूं ?
    मुझमें क्या खराबी है ?

    दुखद है पर ज्यादातर यही आलम है | :(

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. हम भी एक ऐसी बस में सवार हैं तो पता नहीं क्या होगा हमारा।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपने सही कहा,,,
    याद रखो-चश्मदीद लोग अंधे होते हैं,,,
    अंधे के साथ साथ संवेदनहीन भी होते है,,,

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये अन्धों , बहारों, गूंगों का देश है.जो सिर्फ हाथ जोड़कर बाबाओं को पूजना जानते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीते जी सड़क पर नंगी बदहवास आधे घंटे हमारी कज-नजरी पाती है मरने पर प्रधानमन्त्री का स्वागत. सच तो यही है....

    उत्तर देंहटाएं
  12. अंधेर नगरी में चौपट राजा का (कु)शासन हो तो चश्मदीद अंधे होते हैं और गवाह बेजुबान.. चश्मदीद कौन?? बनाया हुआ, खरीदा हुआ या डराकर तैयार किया हुआ??
    बस यही है सच!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये कैसा दर्द है जो खत्म नही होता...बार बार मन को छलनी कर जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस देश में अंधों और असंवेदनशील लोगों का बोलबाला है

    उत्तर देंहटाएं
  15. देश कब होगा संवेदनशील,
    सच है चश्मदीद अंधे होते है

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही अच्छा लिखा आपने | सच कहें तो आज बस की बात की ही नहीं बस करने की भी ज़रुरत है | बस करें अत्याचार सहना और चुप रहना | एक विद्रोह की ज़रुरत है आज अंधे और बहरों तक आवाज़ पहुचने के लिए | मुझे सच में आपकी कविता बहुत ही प्रभावित लगी |

    Tamasha-e-zindagi

    उत्तर देंहटाएं
  17. घर मे एक मै ही हूँ जो, इतनी दूर बैठी , भारत के गुण - गान करते नहीं थकती ...आज जब बेटी ने कहा अच्छा हुआ जो , हम दिल्ली मे नहीं रहते तो मेरी बोलती बंद हो गयी ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच कितना भयावह है ...
    बस आक्रोश ही एक किरण है जो सुलग रहा है धीरे धीरे ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. मार्मिक और आक्रोश से भरी पोस्ट ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. yahan jab tak andhere me chalti bas ke andhe chashmdid hai desh ki betiyan aise hi badhavas doudati rahengi,,aakrosh ki is chingari se ujala karne ki koshish jari rahna chahiye.
    marmik sach bayan karti post.

    उत्तर देंहटाएं
  21. अति सुंदर कृति
    ---
    नवीनतम प्रविष्टी: गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  22. अति सुंदर कृति
    ---
    नवीनतम प्रविष्टी: गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  23. याद रखो - चश्मदीद लोग अंधे होते हैं !ek bhayanak sach.....

    उत्तर देंहटाएं
  24. एक अभूतपूर्व परिवर्तन चाहिए मानसिकता में .. और इतनी बड़ी क्रांति में समय तो लगेगा .. वैसे जेसिका का केस तो सुलझ गया था http://www.youtube.com/watch?v=WzLXheUyWiw
    और 'अमानत'/'दामिनी' के भी सारे गुनाहगार पकडे गए .. इनको सजा मिलनी ही चाहिए, मगर इनकी सजा से कुछ ज्यादा परिवर्तन नहीं होगा .. परिवर्तन तो समाज को करना है, एकदम जड़ से।

    उत्तर देंहटाएं
  25. .........
    याद रखो - चश्मदीद लोग अंधे होते हैं !
    कटु सत्‍य
    ....

    उत्तर देंहटाएं
  26. चश्मदीद अंधे होते हैं ....
    एक वाक्य ही काफी है कई वाकयों के लिए !!

    उत्तर देंहटाएं
  27. याद रखो - चश्मदीद लोग अंधे होते हैं !

    ...आज की अवस्था पर बहुत सटीक टिप्पणी..सब कुछ देखते हुए भी हम अंधे ही तो हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  28. कोर्ट में केस का क्या हाल होगा पता नहीं ... पर चश्मदीद गवाह की बात पर भी प्रश्न उठाने लगे हैं ... अंधों का देश है ।

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...