05 जून, 2011

ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता



अनकहे दर्द को
अनकहे आंसू
बस विश्वास का सुकून देते हैं
वरना ख़ामोशी
ख़ामोशी संग नहीं बैठती ...
जब चलते चलते
किसी अनकहे से मुलाकात होती है
उसकी अनकही लहरों संग अपना अनकहा
कभी सीप कभी मोती कभी बालू में तब्दील होता जाता है
...... कितने हर्ष के साथ
उन नम बालुओं से तुम घरौंदे बनाते हो
सीप बटोरते हो
असली मोती लेकर गर्व से भर उठते हो ..
बालू की नमी को महसूस तो करो कभी
सीप को सुनो
मोती की असलियत का राज़ जानो ...
ये लहरें ये बालू ये सीप ये मोती
अपने अनकहे एहसासों से
बहुत करीबी रिश्ता जोड़ते हैं
इसकी अहमियत जान लो
तो हर रिश्ते मजबूत होंगे
कुछ ना कहकर भी कहते रहेंगे
.... ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
अटूट होता है
अपना होता है !

44 टिप्‍पणियां:

  1. अद्भुत अनाहत नाद ......!!
    बहुत गहराई से मिलती है ..!!
    अप्रतिम..रश्मि सी ... अनुपम ..प्रभा बिखेरती हुई रचना ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ ना कहकर भी कहते रहेंगे
    .... ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है
    अपना होता है !

    Loved these lines... :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बालू की नमी को महसूस तो करो कभी
    सीप को सुनो
    मोती की असलियत का राज़ जानो ...
    ये लहरें ये बालू ये सीप ये मोती
    अपने अनकहे एहसासों से
    बहुत करीबी रिश्ता जोड़ते हैं

    खामोशी से ख़ामोशी का अटूट रिश्ता ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब चलते चलते
    किसी अनकहे से मुलाकात होती है
    उसकी अनकही लहरों संग अपना अनकहा
    कभी सीप कभी मोती कभी बालू में तब्दील होता जाता है
    ...... कितने हर्ष के साथ

    bahut sunder khaamoshi se rishta .....bahut sunder hota hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ ना कहकर भी कहते रहेंगे
    .... ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है
    अपना होता है !

    भावुक...सुन्दर...मर्मस्पर्शी भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  6. .... ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है

    अद्भुत रचना ..!

    उत्तर देंहटाएं
  7. ख़ामोशी का ख़ामोशी से रिश्ता अटूट होता है...सुन्दर...अति सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  8. .... ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है
    अपना होता है !
    bahot sundar abhivyakti maa...

    उत्तर देंहटाएं
  9. ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता अटूट होता है ..
    क्या खूब बात कही ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच है ख़ामोशी की होती है अपनी जुबान कई समझे तो

    उत्तर देंहटाएं
  11. ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है
    अपना होता है !

    ग़ज़ब.
    क्या बात है ,रश्मि जी.

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahut sundar khamoshi ka khamoshi se rishta to hota hi hai , tabhi to ve ek doosare ke dard ko samajh kar baant leti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये लहरें ये बालू ये सीप ये मोती
    अपने अनकहे एहसासों से
    बहुत करीबी रिश्ता जोड़ते हैं
    इसकी अहमियत जान लो
    तो हर रिश्ते मजबूत होंगे


    बहुत सुन्दर बात कही है आपने दीदी ... काश लोग यह समझ पाए ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. अनकही खामोशी का मुखर होता रिश्ता!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर और दिल को छू लेने वाली रचना लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  16. khamoshi se khamoshi ka rishta atut hota hai ....vaah achhi rachna ....

    उत्तर देंहटाएं
  17. khamoshi se khamoshi ka rishta atut hota hai ....vaah achhi rachna ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. ये लहरें ये बालू ये सीप ये मोती
    अपने अनकहे एहसासों से
    बहुत करीबी रिश्ता जोड़ते हैं
    इसकी अहमियत जान लो
    तो हर रिश्ते मजबूत होंगे
    वाह ... यहां तो बहुत ही नाजुक अहसासों को

    आपने शब्‍दों में पिरो दिया खामोशी के अटूट रिश्‍तों के साथ ... लाजवाब ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. भावुक...सुन्दर...मर्मस्पर्शी भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  20. bade alag alag drishtikon dikhte hain is khamoshi ko lekar....gulzar saab ne kaha tha

    "khamoshi ka haasil bhi ik lambi see khamoshi hai"

    aur yahaan khamoshi ka khamoshi se rishta hai...acchli lagi nazm..:)

    उत्तर देंहटाएं
  21. एक अलग एहसास ....उस ख़ामोशी का ....जो सकून देती है

    उत्तर देंहटाएं
  22. ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है
    अपना होता है !
    सच कहा…………बस यही रिश्ता अटूट होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता वाकई बहुत खूबसूरत होता है.
    बहुत प्यारी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  24. ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता ही असल में रिश्ता होता है... बहुत सुंदर भावयुक्त कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  25. ह्रदय के कोमल एवं गहन भावों को जिस तरह से सुन्दर शब्द संयोजन कर ... आपने एक ह्रदयश्पर्शी कविता को बुना है ..'.ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता '.......अप्रतिम है |

    उत्तर देंहटाएं
  26. आज तो टिप्पणी मे यही कहूँगा कि बहुत उम्दा रचना है यह!

    एक मिसरा यह भी देख लें!

    दर्देदिल ग़ज़ल के मिसरों में उभर आया है
    खुश्क आँखों में समन्दर सा उतर आया है

    उत्तर देंहटाएं
  27. Nice .

    हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  28. . ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है
    अपना होता है

    बिलकुल सच कहा....

    उत्तर देंहटाएं
  29. ख़ामोशी का एक अलग एहसास .....
    बहुत सुंदर भावयुक्त कविता

    उत्तर देंहटाएं
  30. उन नम बालुओं से तुम घरौंदे बनाते हो
    सीप बटोरते हो
    असली मोती लेकर गर्व से भर उठते हो ..
    बालू की नमी को महसूस तो करो कभी
    सीप को सुनो
    मोती की असलियत का राज़ जानो ...

    बहुत बढ़िया, लाजवाब!

    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  31. शब्दों का जादू जैसे इस रचना पे चढ़ कर बोल रहा है .... बहुत लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  32. कुछ ना कहकर भी कहते रहेंगे
    .... ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है
    अपना होता है !
    adbhut ,anupam

    उत्तर देंहटाएं
  33. सबसे अच्छा और प्यारा रिश्ता तो ख़ामोशी से ख़ामोशी का ही होता है ......सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत गहरे उतर रिश्तों को समझानें की खुबसूरत कोशिश जो सच में मन में गहरे उतर कर ही समझा जा सकता है | हमेशा की तरह खुबसूरत रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  35. सच को कहती भावात्मक रचना ...ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता

    उत्तर देंहटाएं
  36. सच को कहती भावात्मक रचना ...ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता

    उत्तर देंहटाएं
  37. .. ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है


    ख़ामोशी को केवल ख़ामोशी ही समझ सकती है
    शब्दों की जरुरत ही क्या
    बहुत अच्छे

    उत्तर देंहटाएं
  38. .. ख़ामोशी से ख़ामोशी का रिश्ता
    अटूट होता है


    ख़ामोशी को केवल ख़ामोशी ही समझ सकती है
    शब्दों की जरुरत ही क्या
    बहुत अच्छे

    उत्तर देंहटाएं
  39. ख़ामोशी से ख़ामोशी का सुन्दर रिश्ता .....

    उत्तर देंहटाएं
  40. निदा साहब याद आ गए...
    "मैं हूँ खामोश जहां, मुझको वहाँ से सुनिए..."

    खामोशी से खामोशी का रिश्ता...
    बहुत सुन्दर दी... गहन चिंतन...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं

मैं तुमसे कभी नहीं मिलना चाहूँगी

मैं तुमसे कभी नहीं मिलना चाहूँगी फिर भी, गर मिल गए तो मेरी खामोश नफरत को कुरेदना मत क्योंकि उससे जो आग धधकती है उस चिता में तुम्...