01 जून, 2011

ख़ामोशी



तुम जब कुछ कहते हो
तो अनायास वह संवाद तुम्हारा
तुम्हारे स्व से होने लगता है
कथ्य भी तुम
जवाब भी तुम !
आश्चर्य की बात नहीं
बिल्कुल सहज बात है
तुम्हें भी पता है सही गलत
तुम जानते हो मेरी भी दृढ़ता
और अचानक तुम्हारे अन्दर
कुछ गिरने लगता है
वह कुछ तुम्हारा ही स्वत्व ....
मैं सहजता के लिए खामोश रहती हूँ
फिर मोड़ देती हूँ बातों की दिशा
क्योंकि मुझे अच्छा नहीं लगता
तुम्हारा खुद को खुद से सफाई देना !
तुम्हारी कमजोरी मुझे मालूम है
तुम्हारे हर बदलते तेवर की पहचान भी मुझे है
.... मुझे मालूम है विचलित शब्दों की
अन्यमनस्क दशा
तो मुझे सही लगता है अपना मौन
क्योंकि अगर कुछ भी कहा ..
तो तुम्हारे मन की ही शक्ल ले लूँगी
और तब बुरा होगा !
मन तो अन्दर ही अन्दर सवाल खड़े करता है
मन के लिबास में मैं
सुनाई देने लगूंगी
और तब तुम सारी चीजें पलट दोगे
गतांक से तुलना करने लगोगे
और मैं ... एक कतरा और खो जाऊँगी
क्योंकि मेरे किसी गतांक में तुम नहीं
तो मैं भी नहीं ...
.............
हमारे हिस्से तो महज पगडंडियाँ थीं
जिन्हें हम अर्थ नहीं दे सके
रास्ते बनाना मुमकिन नहीं हुआ ...
लेकिन पगडंडियों पर 'उसकी' कृपा रही
तभी
'वह ' अपनी हथेली की लकीरों में
उन पगडंडियों को लेकर आया
अब हमें उन लकीरों को रास्ते बनाने हैं
यानि 'उसकी' हथेली पर चलना है !
मेरे भीतर कोई सवाल नहीं
स्पष्ट हैं दिशाएं
प्रयोजन तो 'उसने' खड़े किये हैं
तर्क कैसा और किससे ?
तो अच्छी लगने लगी है
फिर ये ख़ामोशी .......
रास्ते बने तो बेहतर
वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं !!!


39 टिप्‍पणियां:

  1. क्योंकि मेरे किसी गतांक में तुम नहीं
    तो मैं भी नहीं ...

    ye rishte... bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  2. रास्ते बने तो बेहतर
    वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं !!!

    बस यही सत्य है………अपनी अपनी पगडंडी पर चलते रहना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. तर्क कैसा और किससे ?
    यह जीवन में जितनी जल्दी स्वीकार लें .............उतना बढ़िया रहता है......
    रास्ते बने तो बेहतर
    वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं !!!

    ये बहुत सकारात्मक विचार है.......
    बहुत ही अच्छी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्पष्ट हैं दिशाएं
    प्रयोजन तो 'उसने' खड़े किये हैं
    तर्क कैसा और किससे ?
    सच कहा है ... बेहतरीन ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. रास्ते बने तो बेहतर
    वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं !!!

    फिर कैसे सवाल कैसे तर्क ...
    लाजवाब !

    उत्तर देंहटाएं
  6. Rashmi ji! sarvpratham mera abhivadan swikaar karen... kafi samay baad blog me vapas aayi hun aur Deshboard par aapki rachnaa padh kar meri shuruvaaat behad sundar rahi ..kyoonki aapki rachnaa me hai hee khaas baat ... behad sundar aur bahut sashkt lekhan

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी सुन्दर प्रस्तुति गहन चिंतन को प्रेरित करती है.आपकी अभिव्यक्ति का अंदाज निराला है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुम्हारी कमजोरी मुझे मालूम है
    तुम्हारे हर बदलते तेवर की पहचान भी मुझे है
    .... मुझे मालूम है विचलित शब्दों की
    अन्यमनस्क दशा

    तो मुझे सही लगता है अपना मौन

    सटीक पहचान!! अद्भुत गहरी थाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. रास्ते बने तो बेहतर
    वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं !!!

    गहनचिंतन से परिपूर्ण अद्भुत प्रस्तुति..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक और गहरे भावो को सहजता से प्रस्तुत करती रचना....



    कुँवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  11. अद्भुत प्रस्तुति......बेहतरीन अंदाज

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन में घटती उथल पुथल का सहज चित्रण।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी रचना ने एक बार फिर मुझे अपने अन्दर झाँकने पर मजबूर कर दिया है

    उत्तर देंहटाएं
  14. मुझे मालूम है विचलित शब्दों की
    अन्यमनस्क दशा
    तो मुझे सही लगता है अपना मौन
    क्योंकि अगर कुछ भी कहा ..
    तो तुम्हारे मन की ही शक्ल ले लूँगी

    क्योंकि मेरे किसी गतांक में तुम नहीं
    तो मैं भी नहीं ...

    रास्ते बने तो बेहतर
    वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं !!!

    पगडंडियों पर चल कर भी मंजिल मिल जानी है ...गहन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  15. भावों का सघन अरण्य बुनती है दी, आपकी खामोशी.... लेकिन सघनता के बावजूद अरण्य भटकाता नहीं बल्कि तमाम लफ्ज़ स्वयम राहनुमाई करते हुए चलते हैं...
    खूबसूरती से बुनी हुई रचना.... सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  16. हमारे हिस्से तो महज पगडंडियाँ थीं
    जिन्हें हम अर्थ नहीं दे सके
    रास्ते बनाना मुमकिन नहीं हुआ ...
    लेकिन पगडंडियों पर 'उसकी' कृपा रही
    तभी
    'वह ' अपनी हथेली की लकीरों में
    उन पगडंडियों को लेकर आया
    अब हमें उन लकीरों को रास्ते बनाने हैं
    यानि 'उसकी' हथेली पर चलना है !

    हथेलियों की पुश्त पर लिखे भविष्य को कौन जानता है...मगर जो एहसास आपने पिरोये हैं, एकदम नगीने हैं. एक बार फिर बेहतरीन कविता. आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  17. पगडंडियां हमे हमारी मंजिल तक पहुंचा ही देती हैं क्योंकि उनपर दोराहे-चौराहे नहीं होते।

    उत्तर देंहटाएं
  18. वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं
    बस इतना ही काफी हैं ..है न...
    बहुत ही सुन्दर बात बहुत सुन्दर शब्दों में.

    उत्तर देंहटाएं
  19. कथ्य और कथाकार को लेकर आपने सुन्दर अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है!

    उत्तर देंहटाएं
  20. प्रयोजन तो 'उसने' खड़े किये हैं
    प्रयोजन? कोई नहीं खड़े कर सकता
    अपना ही मन है जो टूटते टूटते इससे बाहर निकलेगा

    उत्तर देंहटाएं
  21. .... मुझे मालूम है विचलित शब्दों की
    अन्यमनस्क दशा
    तो मुझे सही लगता है अपना मौन
    क्योंकि अगर कुछ भी कहा ..
    तो तुम्हारे मन की ही शक्ल ले लूँगी
    और तब बुरा होगा !

    बहुत खूब...अभिव्यक्ति का निराला अंदाज़

    ------देवेंद्र गौतम

    उत्तर देंहटाएं
  22. रश्मि जी क्या कहूँ? आपकी कलम पर माँ सरस्वती का वास है...ऐसी अप्रतिम रचनाएँ बह निकलती हैं के मन आनंदित हो जाता है...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  23. तर्क कैसा और किससे ?
    तो अच्छी लगने लगी है
    फिर ये ख़ामोशी .......

    :-) khamoshi bhi asi vaisi nahi 'muskurati hui' khamoshi... bahut sunder!!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. एक अति सुंदर ओर लाजवाब प्रस्तुति!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. मेरे भीतर कोई सवाल नहीं
    स्पष्ट हैं दिशाएं
    प्रयोजन तो 'उसने' खड़े किये हैं
    तर्क कैसा और किससे ?
    तो अच्छी लगने लगी है
    फिर ये ख़ामोशी .......
    रास्ते बने तो बेहतर
    वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं !!! kya khu shabd nhi hai sayad main bhi kuch aisa hi likhna chahti thi par mujhe shabd nhi mile..apki rachna padne ke baad pta chala kyu nhi mile. kyu ki jo apne likha hai vo anubhav hai jiven ka.. jise mujhe samjhne me bhut waqt lagega... koi comments nhi mere pas.. universal panktiyta...

    उत्तर देंहटाएं
  26. और मैं ... एक कतरा और खो जाऊँगी
    क्योंकि मेरे किसी गतांक में तुम नहीं
    तो मैं भी नहीं ... क्या करें, कमेंट्स के लिए शब्द ही नहीं मिलते.. बस यही कहता हूँ... अति सुंदर ओर लाजवाब रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  27. हथेली पर पगडंडियाँ उसकी ही बनाई हैं...तो राह भी वो ही दिखायेगा...

    उत्तर देंहटाएं
  28. दी, लगता है मेरे मन में झाँक कर ही लिखा है ........ सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  29. रास्ते बने तो बेहतर
    वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं !!
    तो मुझे सही लगता है अपना मौन
    क्योंकि अगर कुछ भी कहा ..
    तो तुम्हारे मन की ही शक्ल ले लूँगी
    bahut sundar baaten hain aapki is rachna me

    उत्तर देंहटाएं
  30. तर्क कैसा और किससे ?
    तो अच्छी लगने लगी है
    फिर ये ख़ामोशी .......
    रास्ते बने तो बेहतर
    वरना पगडंडियाँ तो आज भी अपनी ही हैं !!!

    आज की कविता में मन और बुद्धि दोनों का मिश्रण है |इसलिए बेमिसाल बन गयी है |बहुत सुंदर तर्क हैं ...!!बहुत अच्छी रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  31. तो तुम्हारे मन की ही शक्ल ले लूँगी
    और तब बुरा होगा !


    हम्म, बहुत गहरी बात है ये ... किसी के लिए भी यह बहुत बड़ी बात हो जायेगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  32. मुझे मालूम है विचलित शब्दों की
    अन्यमनस्क दशा
    तो मुझे सही लगता है अपना मौन
    क्योंकि अगर कुछ भी कहा ..
    तो तुम्हारे मन की ही शक्ल ले लूँगी
    और तब बुरा होगा !bahut achche bhaav ukere hain aapne is rachna me.kabhi kabhi khaamoshi hi sab kuch kah jaati hai.atiuttam rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  33. varna pagdandiya to aaj bhi apni hai!
    bahut sunder ....

    उत्तर देंहटाएं
  34. मुझे लगता है अप कवयित्री होने के साथ-साथ एक मनोवैज्ञानिक भी हैं, मन के हर कोने को खंगाल कर कैसे खोज लती हैं उन प्रश्नों के उत्तर जो हमने कभी पूछे भी नहीं थे पर पढ़कर भीतर से निकलता है, हाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत दिलचस्प .... बहुत रोचक ....

    उत्तर देंहटाएं
  36. एक ऐसी अभिव्यक्ति जो र्वामान में अतीत को ढूँढने पर मज़बूर कर दे। बहुत अच्छा

    उत्तर देंहटाएं
  37. एक और भावुक करती सुंदर अभिव्यक्ति |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  38. अद्भुत प्रस्तुति............|बधाई

    उत्तर देंहटाएं

ये तो मैं ही हूँ !!!

आज मैं उस मकान के आगे हूँ जहाँ जाने की मनाही थी सबने कहा था - मत जाना उधर कमरे के आस पास कभी तुतलाने की आवाज़ आती है कभी कोई पु...