10 सितंबर, 2011

सिर्फ अपना !!!



हकीकत... अक्सर खौफज़दा मोड़ से गुजरती है
क्योंकि उस मोड़ पे सिर्फ हम नहीं होते
बिना हमारे चाहे
नाम अनाम कई लोग
शुभचिंतक की लिबास में
मोड़ का निर्माण करते हैं
खुद को बेहतर बताने के क्रम में
पूरी हकीकत स्तब्द्ध बना देते हैं ...

वजूद के चीथड़े उड़ जाते हैं
सवालों के पोस्टमार्टम से
घर शमशान सा लगता है
घड़ी की टिक टिक इतनी तीव्र हो जाती है
कि और कुछ सुनाई नहीं देता
जो वेदना के सहचर होते हैं
उनका साथ भी उबाऊ लगने लगता है
........
ऐसे में ख्याल आता है -
बेहतर था ख्वाब देखना
झूठ ही सही - दिल तो बहलता है
कभी हकीकत होंगे ये ख्वाब
यह झूठा वहम तो पलता है
शाम हो या रात
हर वक़्त गुनगुनाने लगती है
नींद में भी चेहरे पर मुस्कान थिरकती है
सुबह का सूरज अपना लगता है ...
सिर्फ अपना !!!

50 टिप्‍पणियां:

  1. True... Sapne , sapne hi hote hai per sapne hi apne hote hai... ILu..!

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल में उठने वाले जजबातों को आपने सुंदर शब्दों मे ढाला है!...उत्तम रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  3. घड़ी की टिक टिक इतनी तीव्र हो जाती है
    कि और कुछ सुनाई नहीं देता
    जो वेदना के सहचर होते हैं
    उनका साथ भी उबाऊ लगने लगता है
    ....मन में गहराई तक उतरती भावप्रवण पंक्तियाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन की सच्चाई लिखी है ...तभी तो जीवन के मोड़ कठिन लगते हैं...सपने अपने लगते हैं ...और यही सपने देते हैं ताकत जीवन की सच्चाई से जूझने की ...
    बहुत सार्थक रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है
    कभी हकीकत होंगे ये ख्वाब
    यह झूठा वहम तो पलता है....

    दी , पूरे जीवन में सिर्फ़ यही अपना भी लगता है और सच्चा भी .....सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऐसे में ख्याल आता है -
    बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है
    कभी हकीकत होंगे ये ख्वाब
    यह झूठा वहम तो पलता है.................मन में उठे हर भाव अपने और सच्चे होते है. मन की गहराई से निकली सुन्दर रचना..आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है
    कभी हकीकत होंगे ये ख्वाब
    यह झूठा वहम तो पलता है....

    अक्सर कई बार ये ख्वाब ही जीने का अंतिम संबल बन जाते हैं. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बस खूबसूरत सपनों में जीना ही तो ज़िन्दगी की खूबसूरती है.. :) बाकि सब झूठ और बेमानी

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है
    कभी हकीकत होंगे ये ख्वाब
    यह झूठा वहम तो पलता है....
    बहुत ही प्यारी और सुन्दर पंक्तिया ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. ऐसे में ख्याल आता है -
    बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है

    सही कहा आपने सपनों का अपनापन क्षणिक ही सही पर सुकून देने वाला होता है।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. घड़ी की टिक टिक इतनी तीव्र हो जाती है
    कि और कुछ सुनाई नहीं देता
    जो वेदना के सहचर होते हैं
    उनका साथ भी उबाऊ लगने लगता है

    ....मन में गहराई तक उतरती भावप्रवण पंक्तियाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  12. bhaut hi gahri baat kahi apne... risto ke sach se avgat karati rachna....

    उत्तर देंहटाएं
  13. ऐसे में ख्याल आता है -
    बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है.... जो हम हमेसा ही करते है.... बहुत ही खुबसूरत रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  14. ऐसे में ख्याल आता है -
    बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है
    कभी हकीकत होंगे ये ख्वाब
    यह झूठा वहम तो पलता है

    रश्मि जी...वाह...बेहतरीन पंक्तियाँ...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत मर्मस्पर्शी ...बहुत सुन्दर ....

    उत्तर देंहटाएं
  16. खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  17. जीवन के यथार्थ को वैसा का वैसा कह देना एक कठिन कला है.इस कला में निपुणता इस रचना में स्पष्ट परिलक्षित है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. सपने ही तो हैं जो जीने की प्रेरणा देते हैं ... वरना तो हर कठिन मोड़ पर हिम्मत ही हार दें .. अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  19. khvaab khoobsoorat hote hain sach bhi na ho tab bhi khoobsorti barkaar rehti hai ,,,..lekin bharam vo hakikat hai jo kadva kar deti hai jindagi ke ras ko .....khvaab sahi hai jeene k liye magar vaham nahi :)

    aapko padhna ek khoobsoorat anubhooti hai :)

    उत्तर देंहटाएं
  20. ऐसे में ख्याल आता है -
    बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है
    कभी हकीकत होंगे ये ख्वाब
    यह झूठा वहम तो पलता है "
    सपने जब टूटने ही हैं
    सपने जब टूटने ही हैं
    क्यों ना
    दिन रात मन पसंद
    सपने ही देखूं
    स्वछन्द आकाश में
    उड़ता फिरूं
    समुद्र की गहराईओं में
    गोता लगाऊँ
    पहाड़ों पर बादलों से
    अठखेलियाँ करूँ
    जंगल की हरयाली को
    शेर चीतों के साथ देखूं
    ब्रम्हांड के
    हर ग्रह को देखूं
    जो बिछड़ गए रोज़
    उनसे मिलूँ
    जिन्हें चाहता उनसे
    दूर ना हूँ
    निरंतर हँसू सबको
    हँसाता रहूँ
    08-09-2011
    1463-35-09-11

    उत्तर देंहटाएं
  21. वजूद के चीथड़े उड़ जाते हैं
    सवालों के पोस्टमार्टम से

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  23. ऐसे में खयाल आता है बेहतर था ख्वाब देखना ...
    सच ही !

    उत्तर देंहटाएं
  24. नीद , ख्वाबों भरी नीद से अधिक सुकून भरा कुछ भी नहीं होता

    उत्तर देंहटाएं
  25. बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है ....

    वाह दी.... बहुत भावप्रवण...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  26. मजा तो तब है कि न झूठ के पास जांय न ख्वाबों में उलझें...वर्तमान में जीयें, हकीकत का सामना करं मगर ऐसा हो नहीं पाता।

    उत्तर देंहटाएं
  27. bilkul sahi sunder rachna .....
    subha ka suraj apna lagata hai sirf apna ..

    उत्तर देंहटाएं
  28. मन के गहरे समुंद्र से निकले मोती , बेशक कीमती ही होंगे. बेशकीमती.

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत बढ़िया रचना |

    मेरे भी ब्लॉग में पधारें |
    मेरी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  30. ऐसे में ख्याल आता है -
    बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है
    कभी हकीकत होंगे ये ख्वाब
    यह झूठा वहम तो पलता है

    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  31. बेहतर था ख्वाब देखना
    झूठ ही सही - दिल तो बहलता है
    कभी हकीकत होंगे ये ख्वाब
    यह झूठा वहम तो पलता है....

    यह भी एक सच है ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. sapno mei jeena bhi ak sukhdayi ahsaas hota hai, behad sunder prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  33. इसीलिए ख़्वाबों को कभी मरने नहीं देना चाहिए ..

    उत्तर देंहटाएं
  34. गहरे भाव लिये सुंदर रचना..!!

    उत्तर देंहटाएं
  35. झूठ ही सही - दिल तो बहलता है

    उत्कृष्ट रचना

    आपकी तारीफ़ करना हमेशा ऐसा लगा जैसे रोशनी में दिया जलाना

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...