15 सितंबर, 2011

गांठ नहीं खुलती ...




गुत्थियां सुलझती ही नहीं
इतनी गांठें हैं , इतनी कसी
कि खोलते खोलते उंगलियाँ दुखने लगी हैं
कहीं कहीं से छिल भी गई हैं ...
....................
शुरू से मुझे इन गुत्थियों से डर लगता रहा है
शायद इसीलिए गुत्थियां मेरा पीछा करती हैं
ताकि एक दिन मेरा डर ख़त्म हो जाए
मैं अपनी उँगलियों का ख्याल करने लगूँ
उदासीन हो जाऊँ गांठों से
या फिर इस सत्य को स्वीकार कर लूँ
कि कभी भी कोई गांठ नहीं खुलती ...

47 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर कविता दर्शन भी गुंथा हुआ है |

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर कविता दर्शन भी गुंथा हुआ है |

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह भावनायें पढ़कर जाने क्यूँ एक गीत याद आगया "यह जीवन है इस जीवन का यही है,यही है रंग रूप"
    शायद जिन भावनाओं को आपने अपनी रचना के द्वारा कहना चाहा है। जीवन उसी का नाम है।
    गहरे विचार लिए सुंदर अभिवक्ती....

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ गांठें होती हैं जो कसी हुई नहीं होतीं वो खुल जाती हैं आपसी सौहार्द से ... पर जो खींच कर कस दी गयी हों उनको खोलने में दुखती हैं उंगलियां भी और मन भी ..तब भी नहीं खुल पातीं ... अनुभव को कहती अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. गांठें खोलना आसान नहीं..दिल भी दरक जाता है..सब लहू लुहान हो जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. शायद इसीलिए गुत्थियां मेरा पीछा करती हैं
    ताकि एक दिन मेरा डर ख़त्म हो जाए
    मैं अपनी उँगलियों का ख्याल करने लगूँ
    उदासीन हो जाऊँ गांठों से
    या फिर इस सत्य को स्वीकार कर लूँ
    कि कभी भी कोई गांठ नहीं खुलती ...

    बहुत सुन्दर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  7. गुथ्थिया वाकई नहीं खुलती...दी....इसी जद्दोजहद का नाम शायद जिन्दंगी हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. कुछ भी हो, गाँठें तो सुलझानी होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. गुत्थियाँ सुलझाने की कोशिश करो तो और उलझने लगती हैं तब यही लगता है कि बेहतर है गांठे बंधी रहे .
    गहन चिंतन!

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं अपनी उँगलियों का ख्याल करने लगूँ
    उदासीन हो जाऊँ गांठों से
    या फिर इस सत्य को स्वीकार कर लूँ
    कि कभी भी कोई गांठ नहीं खुलती .

    हर शब्‍द में गहन भावों का समावेश ...बेहतरीन ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. behad sunder , bohot khoobsoorat likha hai aapne, ke gaath khulti nahi

    उत्तर देंहटाएं
  12. गाठों को खोल देना ही बेहतर होता है

    उत्तर देंहटाएं
  13. ताकि एक दिन मेरा डर ख़त्म हो जाए
    मैं अपनी उँगलियों का ख्याल करने लगूँ
    kitna achcha khyal hai......

    उत्तर देंहटाएं
  14. गाँठ खिलने की इच्छा लिए सही दिशा में आप चल रहीं हैं...!!ऐसे ही सतत प्रयास से बीतता जाता है जीवन ...बहुत सुंदर रचना .....उदास न हों और प्रयास जारी रखें ....!

    उत्तर देंहटाएं
  15. जाने कब और कैसे बंध जाती हैं ये गुत्थियां ! न खुलें तो एक उसी पर छोड़ देना होगा... भावपूर्ण कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  16. उफ़..पर गांठे तो सुलझानी ही होंगी..वर्ना बंधी गांठें देख देख कर जिया कैसे जायेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  17. अनुभव को कहती अच्छी भावपूर्ण रचना|

    उत्तर देंहटाएं
  18. अनुभव को कहती अच्छी भावपूर्ण रचना|

    उत्तर देंहटाएं
  19. ये गुथियाँ उलझी ही रहें
    तो बेहतर है
    सुलझे हुए ज़ज्बात कभी कभी
    उलझा जाते हैं खुद ही को ....khubsurat bhav...kuch sikhne ko mila naya.... thankuu dii

    उत्तर देंहटाएं
  20. takleefon ke bavjood
    Gutthiyaan bhi khulti hain..
    Humne dekha hai kai baar..

    Aabhar....

    उत्तर देंहटाएं
  21. 'या फिर इस सत्य को स्वीकार कर लूं
    कि कभी भी कोई गाँठ नहीं खुलती '
    ......मगर गाँठ खोलने का प्रयास तो जारी ही रहेगा
    ...............गहन .भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  22. Jab swikar hota hai to gathen (knots) khulane lagti hai.
    This is my experience.

    उत्तर देंहटाएं
  23. गाँठ तो खोलना ही होगा रश्मि जी.....गहन अनुभूति.सुन्दर रचना...आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  24. "जिन्दगी में गांठों का, भी अपना स्थान.
    सुलझाने की शक्ति का, हमें कराते भान"

    सुन्दर चिंतन दी...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  25. जिंदगी की गुत्थियों ओ तो कोई नहीं सुलझा पाया ।
    बेहतरीन ।

    उत्तर देंहटाएं
  26. यह अनुभव है आपका जिसे आपने जिया है और पंक्तियों में गुथा है.... ये समझना मुस्किल है हमारे लिए इशी अनुभव को तो जीना है हमें....

    उत्तर देंहटाएं
  27. गांठ अगर खुल गई, तो वह फिर गांठ कहां रही। अच्‍छा तो यही है कि गांठ पड़ने ही न दी जाए।

    उत्तर देंहटाएं
  28. ताकि एक दिन मेरा डर ख़त्म हो जाए...
    और फिर खुल जाएगी हर गाँठ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. गाँठें वाकई नहीं खुलती प्रयास तो जारी रखना ही पड़ेगा....बहुत सटीक अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  30. गांठ खुले न खुले ... गुत्थियों को खोलना जरूरी है ..

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत ही उम्दा रचना है मा, आपकी rachnayein बहुत kuch कह् जाती हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. गाँठ बिना जीवन कैसा , जीवन का उत्कर्ष गाँठ
    गाँठ बिना फेरे ना होते और न मनती वर्ष गाँठ.

    जुल्फों में जब पड़ जाये, प्रेमी सु-अवसर समझे
    सदा बुराई साथ न लाती , देती भी है हर्ष गाँठ.

    गाँठ ही बड़ी बहू के पल्लू में चाबी संग साजे
    मंझली-छोटी बहुरिया खातिर होती है संघर्ष गाँठ.

    मन में कभी न आने पाये-गाँठ बाँध कर रखिये
    सम्बंधों में पड़ जाये तो करती है अपकर्ष गाँठ.

    देखिये गाँठ की महत्ता -टिप्पणी करने आये थे कविता लिख कर चल दिये. प्रेरणा हेतु आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  33. आपने अपनी कविता के कैनवास पर भावों का रंग बिखेर दिया है....

    या फिर इस सत्य को स्वीकार कर लूँ
    कि कभी भी कोई गांठ नहीं खुलती ...


    मर्मस्पर्शी एवं भावपूर्ण काव्यपंक्तियों के लिए कोटिश: बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  34. har gaanth khul jayegee...
    har subah dhul jayegee...
    :)
    ham saath-saath hain...
    yahi gaanthe jo hame hamari y=aur hamare apno ki pahchaan karati hai... :)

    उत्तर देंहटाएं
  35. प्रयास जारी रहना चाहिए...अगर गांठें तकलीफ देतीं हों...वर्ना इतनी लम्बी रस्सी में कुछ गांठों की परवाह भी नहीं करानी चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  36. एक गांठ खोलते-खोलते दूसरी लग जाती है कभी-कभी ...

    उत्तर देंहटाएं
  37. इधर तो कुछ गांठे इतनी कसी हुई हैं की लगता है कभी खुलेंगी ही नहीं, नाही कभी काटेंगी वो..

    उत्तर देंहटाएं
  38. गांठ खोलने के चक्कर में
    कभी-कभी और भी उलझ जाती है !
    बहुत बढ़िया रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  39. शायद ऐसा ही होता है..सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  40. "इतनी गांठें हैं , इतनी कसी.."
    गांठो को सुलझाते हुए
    कभी-कभी जिन्दगी खुद ही उलझ जाती है

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...