25 सितंबर, 2011

देवदार



देवदार कहूँ तुम्हें
तो अतिशयोक्ति नहीं होगी
बड़ी से बड़ी आँधियाँ भी
तुम्हारे व्यक्तित्व को धूमिल नहीं कर पातीं ...

पर तुम्हारे सामर्थ्य से परे
तुम्हारे खड़े होने के दर्द को
मैंने अपने पैरों में महसूस किया है
तुम्हारे उन्नत मस्तक के आगे नत
सूर्य के तेज के आगे
तुम्हारी अविचल छवि की गरिमा से अभिभूत
मैंने जीवन को जीवन बनाया है
तुम्हारी हर शाखाओं से प्रेरणा ली है ...

' देवदार बनो ' - यूँ ही नहीं कहते सब
बनना वही होता है
वही चाहिए
जो आसान नहीं होता
सरल सीधे रास्ते
व्यक्तित्व का निर्माण नहीं कर पाते
आँधियों से गुजरकर ही अडिग रहना आता है
विषम परिस्थितियाँ ही अनुकूल होना सिखाती हैं
.............
देवदार को खुद में समाहित कर
देवदार में खुद समाहित होकर
तुमने ऋषि मुनियों के तप का अर्थ बताया
तुम्हारी दृष्टि में तपस्वियों सा तेज
और 'एकला चलो' सा भाव
अनुकरणीय हैं ...
तुम्हारे पैरों के निशां
बहुत अहमियत रखते हैं उनके लिए
जो देवदार बनना चाहते हैं
और उनके लिए भी
जो कडवी ज़िन्दगी , कड़वे बोल को
अपनी पूर्णता मान लेते हैं !!!

43 टिप्‍पणियां:

  1. ' देवदार बनो ' - यूँ ही नहीं कहते सब
    bahut achchi vyakhya kar di......'devdar bano'ki....wah.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अहमियत रखते हैं उनके लिए
    जो देवदार बनना चाहते हैं
    और उनके लिए भी
    जो कडवी ज़िन्दगी , कड़वे बोल को
    अपनी पूर्णता मान लेते हैं !!!

    देवदार की विशेषताओं से सीख देती अच्छी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. "' देवदार बनो ' - यूँ ही नहीं कहते सब
    बनना वही होता है
    वही चाहिए
    जो आसान नहीं होता
    सरल सीधे रास्ते
    व्यक्तित्व का निर्माण नहीं कर पाते
    आँधियों से गुजरकर ही अडिग रहना आता है
    विषम परिस्थितियाँ ही अनुकूल होना सिखाती हैं "

    यह पंक्तियाँ विशेष अच्छी लगीं।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. हाँ बहुत मुश्किल होता है 'देवदार' हो के जीना.
    जिनकी जड़े गहरी होगी वो ही तो बन पायेगा देवदार.
    अच्छी रचना है देवदार जीवन दर्शन का प्रतीक बन गया.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ' देवदार बनो ' - यूँ ही नहीं कहते सब
    बनना वही होता है
    वही चाहिए
    जो आसान नहीं होता

    देवदार को खुद में समाहित कर
    देवदार में खुद समाहित होकर
    तुमने ऋषि मुनियों के तप का अर्थ बताया

    Aabhar....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सरल सीधे रास्ते
    व्यक्तित्व का निर्माण नहीं कर पाते
    आँधियों से गुजरकर ही अडिग रहना आता है
    विषम परिस्थितियाँ ही अनुकूल होना सिखाती हैं ....

    वाह दी! कमाल की रचना है.... अत्यंत प्रेरक...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 26-09-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अहमियत रखते हैं उनके लिए
    जो देवदार बनना चाहते हैं
    सुंदर भावाव्यक्ति बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. देवदार वृक्ष .....सुन्दर प्रतीक ... संवेदनशील रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. समय के न जाने कितने थपेड़े सह कर भी खड़ा देवदार।

    उत्तर देंहटाएं
  11. sochti hu kabhi-kabhi
    ki kyon na khud hi chal padu
    yunhi
    aviral-si
    fir kuch anjana sa vichar aat ahai
    aur mera pair wahi ruk jaat hai...
    aaj is devdaar ko dekh...
    mil gaya wo raasta bhi,
    jaha chalne se koi vichar nahi rok paega ab mujhe...

    उत्तर देंहटाएं
  12. भावपूर्ण सुन्दर अभिव्यक्ति..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. तुमने ऋषि मुनियों के तप का अर्थ बताया
    तुम्हारी दृष्टि में तपस्वियों सा तेज
    और 'एकला चलो' सा भाव
    अनुकरणीय हैं ...
    बढ़िया है .

    उत्तर देंहटाएं
  14. बनना वही होता है
    वही चाहिए
    जो आसान नहीं होता
    सरल सीधे रास्ते
    व्यक्तित्व का निर्माण नहीं कर पाते

    ....सार्थक सोच दर्शाती बहुत प्रेरक प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहद गहन और सशक्त अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बढिया रचना है बधाई स्वीकारे।

    उत्तर देंहटाएं
  17. सच देवदार बनो...यूँ ही नहीं कहते सब..
    इतने सारे gun samaavisht हैं....dvdaar me

    उत्तर देंहटाएं
  18. आँधियों से गुजरकर ही अडिग रहना आता है
    विषम परिस्थितियाँ ही अनुकूल होना सिखाती हैं
    बहुत अच्छी और सच्ची बात बताई है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सच देवदार बनो...यूँ ही नहीं कहते सब..सशक्त रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  20. सरल सीधे रास्ते
    व्यक्तित्व का निर्माण नहीं कर पाते

    उत्तम प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  21. सरल सीधे रास्ते
    व्यक्तित्व का निर्माण नहीं कर पाते

    उत्तम प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  22. जो कडवी ज़िन्दगी , कड़वे बोल को
    अपनी पूर्णता मान लेते हैं !!!
    bahut sahee vyakhyaa ,bhaavpoorn
    kuchh logon kee fitrat hee kadvee hotee

    उत्तर देंहटाएं
  23. कवि अपनी प्रेरणा का स्रोत निरंतर खोजता रहता है...देवदार पर ये पहली रचना पढ़ी है...मैंने...

    उत्तर देंहटाएं
  24. देवदार बनने की कला आ जाए तो क्या कहना...प्रेरणादायक कविता

    उत्तर देंहटाएं
  25. सरल सीधे रास्ते
    व्यक्तित्व का निर्माण नहीं कर पाते
    आँधियों से गुजरकर ही अडिग रहना आता है
    विषम परिस्थितियाँ ही अनुकूल होना सिखाती हैं

    So true!

    उत्तर देंहटाएं
  26. सुन्दर विचार ..
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  27. "' देवदार बनो ' - यूँ ही नहीं कहते सब

    एक सच कहा है ... इस अभिव्‍यक्ति में ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. सच..बहुत मुश्किल है देवदार बनना .सही कहा आपने ...आसान नहीं है विषम परिस्थितियों से गुज़रना और अडिग रहना

    उत्तर देंहटाएं
  29. देवदार के बिम्ब पर गहन विचारों वाली बहुत सुन्दर अभिव्‍यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  30. देवदार बनना कम मुश्किल नही फिर भी जो है ,वह तो है ही ...
    और सबका प्रेरणास्त्रोत भी!
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  31. एक बार फिर आपके शब्द कौशल ने मन्त्र मुग्ध कर दिया...नमन है आपकी लेखनी को...अद्भुत

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं




  32. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  33. आपको नवरात्रि की ढेरों शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  34. देवदार बनो ' - यूँ ही नहीं कहते सब
    बनना वही होता है
    वही चाहिए
    जो आसान नहीं होता
    सरल सीधे रास्ते
    व्यक्तित्व का निर्माण नहीं कर पाते
    आँधियों से गुजरकर ही अडिग रहना आता है
    विषम परिस्थितियाँ ही अनुकूल होना सिखाती हैं
    hamesha yaad rakhungi mausi ji....aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  35. सच, बहुत सुंदर भाव और संदेश देती रचना

    तुम्हारे पैरों के निशां
    बहुत अहमियत रखते हैं उनके लिए
    जो देवदार बनना चाहते हैं
    और उनके लिए भी
    जो कडवी ज़िन्दगी , कड़वे बोल को
    अपनी पूर्णता मान लेते हैं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत ही सुन्दर भाव भर दिए हैं पोस्ट में........शानदार| नवरात्रि पर्व की शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  37. Ati sunder Rashmi ji... Your posts are always inspiring. This post is very much beautiful and i shared it on my twitter account. twitter.com/kapil_dev

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...