22 सितंबर, 2011

शिवलिंग



समंदर के मध्य
दिशाओं के सार तत्वों से
बनाया है शिवलिंग
प्रत्येक लहरों में शिव को घोला है
ताकि कोई किनारा सुनामी न लाए ....

रेगिस्तान के मध्य
रेत कणों से बनाया है शिवलिंग
कोई प्यासा न रहे
एक छोटे से प्रयास में
छुपी गंगा मिल जाए ....

मन के मध्य
आती जाती साँसों से
बनाया है शिवलिंग
....... और हो गई हूँ समाधिस्थ
अब मेरी साँसों में गुंजायमान है
' ॐ नमः शिवाय '

46 टिप्‍पणियां:

  1. अब मेरी साँसों में गुंजायमान है
    ' ॐ नमः शिवाय '
    भावों का अनूठा संगम ....।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भक्ति रस से ओत-प्रोत सुन्दर कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन के मध्य
    आती जाती साँसों से
    बनाया है शिवलिंग
    ....... और हो गई हूँ समाधिस्थ
    अब मेरी साँसों में गुंजायमान है
    ' ॐ नमः शिवाय '
    वाह …………सांसो की माला पे जपूँ मै शिव का नाम्।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सब कुछ शिवमय ही तो है...ओम नमः शिवाय .

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन के मध्य
    आती जाती साँसों से
    बनाया है शिवलिंग
    ....... और हो गई हूँ समाधिस्थ
    अब मेरी साँसों में गुंजायमान है
    ' ॐ नमः शिवाय '

    अद्भुत भाव ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. मन के मध्य
    आती जाती साँसों में
    गुंथा है तुम्हें और
    बनाया है ... देव सरीखा
    ....... और हो गई हूँ समाधिस्थ
    अब मेरी साँसों में गुंजायमान हो
    तुम .... सिर्फ तुम ..... देव

    ओह कितनी अदभुत भक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऊं नम: शिवाय
    ऊं नम: शिवाय
    ऊं नम: शिवाय

    बस यही सर्वत्र गुंजायमान हो रहा है.
    आपने सच में समाधिस्थ ही कर दिया है.

    आभार, आभार,बहुत बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सत्यम,शिवम,सुंदरम .... ॐ नमः शिवाय....

    उत्तर देंहटाएं
  9. अब मेरी साँसों में गुंजायमान है
    ' ॐ नमः शिवाय '.......
    एक खूबसूरत दृश्य एवम ध्वनि बिम्ब !
    सार्थक कविता ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  10. शिव तो कल्याण का ही नाम है . सुँदर भाव ,

    उत्तर देंहटाएं
  11. जैसे पूरी दुनिया ही शिवमय हो गयी ... अनुपम रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. सागर की विशालता में शान्ति मिलती है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. रश्मि जी नमस्कार्। सुन्दर भाव प्रत्येक लहरों में शिव को घोला है।
    ताकि कोई किनारा सुनामी न लाए -------------

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्या बात है आज भक्तिरस की रचना सुंदर अतिसुन्दर ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. साँसों में गुंजायमान है
    ' ॐ नमः शिवाय '

    वाह दी...
    ॐ नमः शिवाय.

    उत्तर देंहटाएं
  16. मन का शिवलिंग और समाधिस्थ आत्मा..
    बेजोड़!

    उत्तर देंहटाएं
  17. शिव ही सत्‍य है और वही सुंदर है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. मन के मध्य
    आती जाती साँसों से
    बनाया है शिवलिंग
    ....... और हो गई हूँ समाधिस्थ

    मनोभावों की सुन्दर अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. मन के मध्य
    आती जाती साँसोसे
    बनाया है शिवलिंग
    और हो गई हूँ समाधिस्त
    अब मेरी साँसों में गुंजायमान है
    ॐ नम: शिवाय !
    सत्य है सुंदर है !

    उत्तर देंहटाएं
  20. शिव ही सत्य है शाश्वत है और कल्याणकारी है.....ॐ नमः शिवाय...बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  21. अब मेरी साँसों में गुंजायमान है
    ' ॐ नमः शिवाय '

    उत्तर देंहटाएं
  22. मन के मध्य
    आती जाती साँसों से
    बनाया है शिवलिंग
    ....... और हो गई हूँ समाधिस्थ
    अब मेरी साँसों में गुंजायमान है



    बम भोले

    उत्तर देंहटाएं
  23. ॐ नमः शिवाय ...सशक्त रचा है |

    उत्तर देंहटाएं
  24. दी , मैं तो नम: शिवाय के स्मरण से ही साँसें भी लेती हूँ ......सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  25. अब मेरी साँसों में गुंजायमान है
    ' ॐ नमः शिवाय '

    उत्तर देंहटाएं
  26. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है नयी-पुरानी हलचल पर 24-9-11 शनिवार को ...कृपया अनुग्रह स्वीकारें ... ज़रूर पधारें और अपने विचारों से हमें अवगत कराएं ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  27. ॐ नमः शिवाय
    परमात्मा शिव की याद दिलाती भक्ति रस से ओत - प्रोत सुन्दर कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. "namo namay
    om namah shiway"
    wahi satya hai
    wahi sundar bhee...
    bejod...

    उत्तर देंहटाएं
  29. मन के मध्य
    आती जाती साँसों से
    बनाया है शिवलिंग
    ....... और हो गई हूँ समाधिस्थ
    अब मेरी साँसों में गुंजायमान है
    ' ॐ नमः शिवाय '
    सुंदर रचना । मन शिवमय हो गया ।

    उत्तर देंहटाएं
  30. rashmi di
    bahut hi achha laga padh kar .sach hai jab tak man ko ekagrachitt nahi karenge tab tak kisi bhi kaam me saflta nahi milegi.
    aapne bhakti ke madhyam se yah sidhh kar diyya hai.
    di, main aapko pahle hi badhai dene wali thi par swasthya ki vajah se net par jaldi -jaldi nahi aa pa ra hi hun.
    Vat -Vrixh ka dusra ank padhne ko mila aur sabhi ki rachnaye padhne ko mili. bahut kuchh naya seekhne ko bhi mila .di, pahala ank kahan se milega kripya bataiye.
    aapko hardik badhai
    sadar naman
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  31. रेगिस्तान के मध्य
    रेत कणों से बनाया है शिवलिंग
    कोई प्यासा न रहे
    एक छोटे से प्रयास में
    छुपी गंगा मिल जाए ....
    bahut khoob....

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...