21 फ़रवरी, 2014

इससे खूबसूरत पश्चाताप और कोई नहीं …



कहीं कुछ मेरे स्वभाव के विपरीत हुआ
मैंने ओढ़ ली चुप्पी की चादर
जबकि मुझे बोलना था
… मेरा मन बोल भी रहा था
बोलता ही है- समय-असमय
मैं सुनती रहती हूँ !!!
किसी स्पष्टीकरण की ज़रूरत भी नहीं
क्योंकि अपने सच के एक एक धागे को
मैं बखूबी पहचानती हूँ
कोई और समझेगा क्या ?
इतनी खुली समझ होती
तो दोराहे,तिराहे,चौराहे
आपस में उलझते नहीं !
जब दिशा ज्ञान ही भ्रमित हो उठा
तो शिकायत कैसी ?
किससे ?
कुछ नया तो हुआ नहीं है
जो शोर किया जाए !
ऊँगली उठाने का कोई अर्थ नहीं
अपने मन के धरातल को बखूबी देखना ज़रूरी है
कहाँ थी समतल भावनाएँ
कहाँ छोड़ दी गई काई
कहाँ रखे थे बातों के कंकड़
खुद का मुआयना कर लें
कुछ परिवर्तन ले आएँ
इससे खूबसूरत पश्चाताप और कोई नहीं  …
परिवर्तन का सूत्र उठाए
खड़ी हूँ रेगिस्तान में
धूल का बवंडर उठता है
तो रास्ते दुविधा में डाल देते हैं
कहाँ से चले थे
कहाँ जाना है - सब गडमड हो जाता है
पर मुझे पहुँचना तो है न तुम तक
 बाधाएँ कितनी भी हों
…… मुझे पहुँचना है उस मोड़ पर
जहाँ से अपने से एहसास की खुशबू आती है
....
मुझे खुद पर यकीन है
यकीन है कि मैं पछतावे की अग्नि शांत कर लूँगी
तुम्हारे चेहरे पर एक गाढ़ी मुस्कान दे जाऊँगी
तुम्हें भी यकीन है न ?-

26 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन अन्तर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस, गूगल और 'निराला' - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका मन आपका है
    मेरा मन मेरा है
    सुन आप भी रही हैं
    सुन मैं भी रहा हूँ
    अपने मन में
    ताज्जुब है आप
    कैसे दूसरों के
    मन के शोर को
    सुन लेती हैं
    और लिखते
    लिखते शांत
    भी कर देती है
    बहुत से शोर
    बहुत शाँति
    के साथ :)

    बहुत सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं
  3. "किसी स्पष्टीकरण की ज़रूरत भी नहीं
    क्योंकि अपने सच के एक एक धागे को
    मैं बखूबी पहचानती हूँ
    कोई और समझेगा क्या ?"

    दीदी, मैं भी हमेशा इसी मंत्र का पालन करता हूँ... मेरे अन्दर का सच मुझे पता है, कोई और समझे न समझे कहकर क्या होगा!! बेहतर है कि समय पर उसे ख़ुद समझ आ जाए! और न भी आए तो वो नासमझ!!

    खुद का मुआयना कर लें
    कुछ परिवर्तन ले आएँ
    इससे खूबसूरत पश्चाताप और कोई नहीं …

    और ये बात भी बहुत अच्छी लगी!! कुल मिलाकर एक "निर्मल आनन्द" हमेशा की तरह!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दी बचपन से एक quote पढ़ा है और बहुत पसंद है -
    Never explain - your friends do not need it and your enemies will not believe you anyway....
    स्पष्टीकरण देना ही है तो सिर्फ स्वयं को !!
    बहुत सुन्दर रचना ...
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझे खुद पर यकीन है
    यकीन है कि मैं पछतावे की अग्नि शांत कर लूँगी
    तुम्हारे चेहरे पर एक गाढ़ी मुस्कान दे जाऊँगी
    तुम्हें भी यकीन है न ?-
    bahut sunder socha ke saath sunder kavita
    badhai
    Rachana

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (22-02-2014) को "दुआओं का असर होता है" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1531 में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  7. जो अपने मन के सच को पहचानता है वही इतना आत्मविश्वास से भरा हो सकता है ! यकीनन यही भावना और हौसला बना रहा तो चहरे पर एक गाढ़ी मुस्कान का आ जाना तो लाजिमी है ! बहुत सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  8. परिवर्तन का सूत्र उठाए
    खड़ी हूँ रेगिस्तान में
    धूल का बवंडर उठता है
    तो रास्ते दुविधा में डाल देते हैं ---अति सुन्दर भाव रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. इसी यकीन पर ही चलती है जिंदगी.. है न..

    उत्तर देंहटाएं
  10. विपरीत परिस्थितियों में चुप रह पाना एक बड़ी ताकत है...

    उत्तर देंहटाएं
  11. जिंदगी का सबसे बड़ा सच तो यही है कि जो ह्मको समझते हैं उनको समझाने की जरूरत नहीं और जो हमको समझते ही नहीं उनको ह्म किसी भी तरह कुछ भी नहीं समझा सकते .... सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  12. जो समझे ही नाही उसे कैसे समझाया जा सकता है इससे अच्छा है चुप रहना तब हो सकता है वो समझ जाए। बेहतरीन भावनाए

    उत्तर देंहटाएं
  13. खुद पर यकीन ही मंजिल तक पहुंचाएगा .... धूल का बवंडर दुविधा में भले ही डाल डे पर शांत होने के बाद मार्ग स्पष्ट भी दिखाई देता है . बेहतरीन अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  14. खुद का मुआयना कर लें
    कुछ परिवर्तन ले आएँ
    इससे खूबसूरत पश्चाताप और कोई नहीं ….... यकीनन

    उत्तर देंहटाएं
  15. अपने को यथासंभव समझा लेता हूँ, शेष सब ईश्वर पर।

    उत्तर देंहटाएं
  16. यह यकीन दिला पाने से बेहतर पश्चाताप क्या हो सकता है !

    उत्तर देंहटाएं
  17. इसी यक़ीन की बुनियाद पर .... हर मुश्किल अपने आप संभलकर खड़ी हो जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  18. उसे तो यकीन है सौ प्रतिशत हम ही अपने यकीन पर यकीन नहीं कर पाते...

    उत्तर देंहटाएं

  19. बस यही विश्वास ज़रूरी है ......

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...