28 फ़रवरी, 2014

मृत्यु के बाद



जन्म के बाद मृत्यु
तो निःसंदेह मृत्यु के बाद जन्म
कब कहाँ जन्म
और कहाँ मृत्यु
सबकुछ अनिश्चित   … !
कल्पना का अनंत छोर
जीने का प्रबल संबल देता है
साथ ही
मृत्यु की भी चाह देता है
चाह निश्चित हो सकती है
हो भी जाती है
पर परिणाम सर्वथा अनिश्चित
!!!
प्रयास के अतिरिक्त कोई विकल्प नहीं !!!
……………………
चलो एक प्रयास हम कल्पना से परे करें
मृत्यु के बाद का सत्य जानें
यज्ञ करें
विज्ञान की ऊँगली थाम आविष्कार करें
मृत शरीर की गई साँसों की दिशा लक्ष्य करें
सूक्ष्म ध्वनिभेद पर केन्द्रित कर सर्वांग को
…आत्मा में ध्यान की अग्नि जला
असत्य की आहुति दे
उस सूक्ष्मता को उजागर करें
…।
पाप-पुण्य की रेखा से परे
ईश्वरीय रहस्य को जाग्रत करना होगा
एक युग
एक महाकाव्य
एक महाग्रंथ का निर्माण करना होगा
जन्म-मृत्यु
इन दोनों किनारों को आमने-सामने करना होगा
संगम में मुक्ति है
तो उसी संगम में ढूंढना होगा
प्रेम का तर्पण
त्याग का तर्पण
मोह का तर्पण
प्रतिस्पर्धा का तर्पण
कुछ यूँ करना होगा
मृत्यु के पार सशरीर जाकर
आत्मा से रूबरू होना होगा -

23 टिप्‍पणियां:

  1. अद्भुत लेखन .... नमन आपकी लेखनी को दी

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप को पढ़ कर ,अहसासों की गहराई महसूस कर सकता हूँ ....
    टिप्पणी की औकात नही मेरी .......
    स्वस्थ रहें!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अद्भुत अभिव्यक्ति , शब्दों में भावों की अथाह गहराई !
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. गहन चिंतन ...
    चलो एक प्रयास हम कल्पना से परे करें
    मृत्यु के बाद का सत्य जानें

    उत्तर देंहटाएं
  5. जन्म, मृत्यु और निर्वाण... हम आदिकाल से जन्मोत्सव करते आए हैं... जन्म का अर्थ जश्न... अगर इसी पैमाने से देखा जाए तो मृत्यु तो इसी जन्म का उच्चतम शिखर है.. तो फिर इसके लिये शोक, अवसाद और मातम क्यों??
    न जन्म आरम्भ है न मृत्यु अंत... एक चक्र है.. कहाँ से शुरू - कहाँ पर समाप्त, हम केवल अनुमान लगाते हैं. इस चक्र से मुक्ति कम उलझाव अधिक है. एक बार निकल गए तो आत्मा का परमात्मा में विलय.. यही सत्य है!!
    दीदी, आपकी कविताएँ, कम से कम मेरी चिंतन -प्रक्रिया को गति प्रदान करती है!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. भाई के चिंतन को प्रवाह, तो मैं अपनी कलम की पूजा कर सकती हूँ

      हटाएं
  6. हृदय की अथाह गहराई से निकले शब्द !

    उत्तर देंहटाएं
  7. अद्भुत है आपका लेखन

    पर इसी जगह
    पर खुद को रख
    कर कुछ कहूँ
    बहुत हिम्मत
    है आप में
    इस जन्म
    में देख लिये
    हों जिसने
    कई जन्म
    उसके लिये
    उसी तरह बस
    जैसे दो के बाद
    तीसरा नहीं
    या लड़का हो
    या लड़की
    एक के बाद
    बंद कर ही
    डालनी चाहिये
    घर की खिड़की
    जिंदगी एक में
    ही जब दे
    देती है तृप्ती
    दूसरे की सोच
    होना ही दिखा
    देता है किसी के
    मन की शक्ति :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. मृत्यु के पार सशरीर जाकर
    आत्मा से रूबरू होना होगा -
    ...बहुत गहन अहसास...अद्भुत प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब दीदी ,
    पढ़कर लगा कि अपने अंतर्मन कि व्यथा को हरने के लिए एक लक्ष्य सुनिशित कर दिया गया ।
    आभार -
    आईंस्टीन कुँवर

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह, बहुत गहरी बात कही आपने

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (02-03-2014) को "पौधे से सीखो" (चर्चा मंच-1539) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  12. मृत्यु का सत्य अन्तिम है क्योंकि उसके बाद कोई सत्य ज्ञात करने की क्षमता खो जाती है, मृत्यु के उस पार कुछ भी हो पर इस पार भय न हो।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आध्यात्मिक पुट लिए सार्थक अभिव्यक्ति ...
    प्रेरक प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी इस प्रस्तुति को शनि अमावस्या और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  15. मृत्यु के पार सशरीर जाकर
    आत्मा से रूबरू होना होगा -

    बहुत सुंदर...ध्यान का सूत्र...

    उत्तर देंहटाएं
  16. जीवन के इस क्रम को भोगना ही होता है ... इसकी शुरुआत और अंत का पता नहीं चल पाता ... आत्मा से रूरू होने की चाह रहती है .. अपर इंसान समझ नहीं पाता ... देख नहीं ओपाता उस क्षण को ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. चलो एक प्रयास इस कल्पना से परे करें !
    आपकी कल्पनाशीलता को नमन !

    उत्तर देंहटाएं
  18. जन्म और मृत्यु के बीच जीवन को तलाशती पोस्ट |

    उत्तर देंहटाएं

प्रभु

देनेवाले, तेरा दिया तुझे ही देकर सब बहुत खुश हैं ! सोने से तुम्हें सजाकर डालते हैं एक उड़ती दृष्टि अपने इर्दगिर्द और मैं तोते की...