04 अक्तूबर, 2016

पुनरावृति का हस्ताक्षर




हम हर दिन न कुछ नया लिखते हैं,
न कहते हैं
सबकुछ पुनरावृति का हस्ताक्षर है !
बहुत सी बातें
जो आज हम लिख लेते हैं
कह देते हैं
उसमें पहले भी जीते थे
बस कहने का सलीका नहीं आया था
या यूँ कहें,
कह पाने की उम्र नहीं थी
नहीं बोलने' का दबाव था !
अनुभवों का दलदल
भंवर
तैरने का अथक प्रयास
किनारों को छूने की कोशिश
किनारों को छूने की ख़ुशी
सबकुछ बचपन से होता है
शहर बदलता है
रिश्ते बदलते हैं
...
सोच वही होती है
परिपक्वता आती जाती है
उम्र दर उम्र
हम हस्ताक्षर करते हैं
तब तक
जब तक हाथ न काँपने लगे
!!!

9 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभातयय
    सोच वही होती है
    परिपक्वता आती जाती है
    उम्र दर उम्र
    हम हस्ताक्षर करते हैं
    तब तक
    जब तक हाथ न काँपने लगे
    !!!
    अप्रतिम...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 06 अक्टूबर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कांपते हाथों से भी हस्ताक्षर करते हैं भले ही शब्द बेढंगे क्यों न लगें .

    उत्तर देंहटाएं
  4. अतीत के अनुभव और वर्त्तमान की अभिव्यक्ति को बहुत सुंदरता से रेखांकित किया है दीदी आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 6-10-16 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2487 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. बस कहने का सलिका नहीं आया....
    बहुत बढिया।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बस कहने का सलिका नहीं आया....
    बहुत बढिया।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच सलीका सीखते सीखते एक उम्र भी कम पड़ जाती हैं
    बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...