01 अक्तूबर, 2016

गलत कौन होता है भला




जी गई कहानियों की पांडुलिपि
हर किसी के मन में होती है
कोई सुना देता है
कोई छुपा लेता है
कोई बीच के पन्ने फाड़ देता है  ...

पृष्ठभूमि सबकी
लगभग एक सी होती है
हादसे,रिश्ते,  ...
बस पृष्ठ की किस संख्या पर वह दर्ज है
इसीका फर्क होता है
आस्तिक नास्तिक हो जाता है
नास्तिक आस्तिक
जीवन चक्र सारे खेल दिखाता है !

गलत कौन होता है भला
अपनी जगह पर सब सही होते हैं
सारे दृश्यों के कान उमेठ दो
तो सबकुछ अपने पक्ष में होता है
तर्क,कुतर्क का महाजाल है
जितना बोलोगे
उतना फँसोगे  ...

बस मानकर चलो
कि होनी का पासा सबके लिए होता है
ईश्वर भी मजबूर
किंकर्तव्यविमूढ़
क्रोध में होता है
शिव का तांडव यूँ ही नहीं होता !!!

5 टिप्‍पणियां:

  1. सच गलत कोई नहीं होता है :)
    बहुत सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 03 अक्टूबर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. तर्क कुतर्क के साथ सब अपने को सही ही समझते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सब कोई अपनी बुद्धि के अनुसार ही व्यवहार करते हैं, इस हिसाब से देखा जाये तो कोई गलत नहीं है, क्योंकि जिसके पास जितना होगा उतना ही तो बरतेगा..

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति कादम्बिनी गांगुली और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...