05 अक्तूबर, 2009

तूफ़ान और मंद हवाएँ............




सोच के तूफानों ने कहा
-क्या जीकर करना !
चलो,
इन तूफानों में ही दम तोड़ लें ....
मैं अवाक !
मेरी कलम-
मेरी ऊर्जा,मेरी जिजीविषा बन साथ है....
सुनते ही,
तूफानों ने रुख मोड़ लिया
मंद हवाएँ बहने लगीं !

40 टिप्‍पणियां:

  1. Mom...... bahut achchi kavita ...prernadaayak.... tufaanon ne rukh mod liya ......... bahut achcha lga.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर, अतिसुन्दर |
    सोच सकारात्मक हों तो विपरीत परिस्थितयों से झूझने और काबू पाने के रास्ते निकाल ही आते है |

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद खूबसूरत रचना। तूफानो ने रुख मोड़ लिया, लाजवाब अभिव्यक्ति.......

    उत्तर देंहटाएं
  4. kalam mei shakti hai toofano ko मोड़ देने kee!
    वाह बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  5. kalam ki takat hr toofan se takra jaaye,sunder aashapurn kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जी सही कहा आपने मनुष्य यदि ठान ले तो फिर क्या है....!हर मुसीबत पर पार पाया जा सकता है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जी हमें तो कोई संदेह नहीं कि आप तूफ़ानों का रुख मोड सकती हैं...आपके ब्लोग के सौवें अनुसरणकर्ता बनने जा रहे हैं जी...

    उत्तर देंहटाएं
  8. तूफानों ने रूख मोड लिया .. मंद हवाएं बहने लगी .. मन में किसी चीज की चाहत हो तो ऐसा ही होता है .. सुंदर रचना के लिए बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. kalm hi nirasha ke andhkar se ak nai kirn ki subh lati hai .aapki chand panktiyo ne bhkhubi abhivykt kae diya hai .
    abhar

    उत्तर देंहटाएं
  10. सकारात्मक पहलू जीवन जीने के लिए ,आपकी कविता में परिलक्षित है अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  11. रश्मि जी
    सादर अभुवंदन.
    आप की अभिव्यक्ति तो सदैव प्रभावित करती रही है.
    वाह , कितना प्रेरक लिखा हैं आपने -------

    मेरी कलम-
    मेरी ऊर्जा,मेरी जिजीविषा बन साथ है....
    - विजय

    उत्तर देंहटाएं
  12. wah..........ati sundar bhav....isi ko kahte hai jijivisha....bahut bahut badhai

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये सोच का तूफ़ान जिस दिन दम तोड़ देगा, हम सब का अस्तित्व भी ख़त्म हो जाएगा... आशावादी अभिव्यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. shobhna ji mere blog par aapki rachana ki tarif ki aur utsukta vash main jhankne chali aai aur itni sundar rachana unki wazah se padhne ko mili .shobhna ji ki aabhari hoon .wo nek dil insaan hai jo unki rachana darshati hai .saath hi achchha likhati bhi hai .

    उत्तर देंहटाएं
  15. सोच के तूफानों ने मंद हवाओं का रुख ले लिया ....जिजीविषा का चमत्कार है ये ...कम शब्दों में बहुत शानदार अभियक्ति ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. man shakti ke samaksh sach hee koi nahee tik sakata
    Itanee sunder rachana kee badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  17. TOOFAN SE DARNE E BAJAY AAPNE USKO JAWAB DIYA... SAKARATMAK SOOCH... SAKARATMAK ABHIVYAKTI !

    उत्तर देंहटाएं
  18. kini taqat hai apki kalam me toofano ne muh modh liya..warna toofano me jeena mushkil hai...namumkin nahi....

    उत्तर देंहटाएं
  19. behtreen bhavon se saji rachna.............adbhut ,,,,,,,,,,,,badhayi

    उत्तर देंहटाएं
  20. क्या खूब लिख दिया आपने
    वाह !!

    उत्तर देंहटाएं
  21. रश्मि जी संत जी टिप्पणी चोरी कर रही हूँ......

    सुन्दर, अतिसुन्दर |

    सोच सकारात्मक हों तो विपरीत परिस्थितयों से झूझने और काबू पाने के रास्ते निकाल ही आते है |

    और हाँ पहली बार एक बेटे को माँ के लिए यूँ तारीफ शब्द देख ख़ुशी हुई ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपकी सोच, आपकी कल्पना कभी कभी अचम्भित सी कर देती है।
    इस सुंदर भाव को पढकर भी ऐसा ही एहसास हुआ।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  23. waah didi
    kya baat hai
    padhkar aannad aur josh aa gaya
    jeevan ek yuddh hai aur aapki saral abhivyakti ne apne shabdo dwra ek jyot jaga di hai ..

    mera pranaam sweekar kare..

    regards
    vijay
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. अरे वाह!!!इतने कम शब्दों में इतनी गहरी बात!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत गहरे कही जीवन से जुडी है इस कविता की तार ...............तुफान भी इंसानी जज़्बे से हार जाते है .........बहुत ही खुब!

    उत्तर देंहटाएं
  26. aapki soch..aapki urja....aapki kalam aur uski jijivisha kabhi ast na ho.....jeevant shabd!

    उत्तर देंहटाएं
  27. उर्जा से भरी जिजीविषा और आपके शब्दों का सकारात्मक साथ अच्छे - अच्छे तुफानो को मोड़ सकता है ...ILu..!

    उत्तर देंहटाएं
  28. didi .aap bahut achha likhti hai ...
    mai aapki sabhi kavitaye padti hu or aanand leti hu....

    उत्तर देंहटाएं
  29. didi,
    aap bahut achha likhti hai mai hamesha aapki rachan padti hu or aanand leti hu ..

    उत्तर देंहटाएं
  30. इतनी प्रेरणादायक रचना ...इसी जुझारू प्रवृति की जरूरत है सबको....गागर में सागर समेटे हुए हैं ये पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  31. रश्मी जी,
    आपकी हर रचना बहुत सुन्दर होती है| कम शब्दों में गहरी अभिव्यक्ति... जीवन के प्रति सकारात्मक सोच को प्रेरित करती रचना केलिए बधाई स्वीकारें|

    उत्तर देंहटाएं
  32. superb...... aapke liy kuch bhi kahna .....munasib nhi hamare liy ..... aapki kalam ... bahut umda chalti hai

    उत्तर देंहटाएं
  33. वाह! इसे कहते हैं घनघोर आशावाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  34. तुफ़ानों में कुछ बदल सकने की ताकत होती है.. मंद हवाय़ें सिर्फ़ कुछ पल का सकून दे पाती हैं..
    आपकी रचना के भाव सुन्दर हैं ... परन्तु
    यह पंक्ति
    मेरी ऊर्जा, मेरी जिजीविषा बन साथ है...
    एक विरोधाभास सा प्रकट कर रही है..

    हो सकता है मेरी समझ का ही फ़ेर हो..
    क्योंकि सभी ने.. वाह वाह कही है

    उत्तर देंहटाएं
  35. सही कहा है..मन के हारे हार है मन के जीते जीत..सोच अपनी जगह बना लेती है..हवा हो या तूफ़ान.

    उत्तर देंहटाएं

ये तो मैं ही हूँ !!!

आज मैं उस मकान के आगे हूँ जहाँ जाने की मनाही थी सबने कहा था - मत जाना उधर कमरे के आस पास कभी तुतलाने की आवाज़ आती है कभी कोई पु...