01 अक्तूबर, 2011

समंदर को मीठा



मेरा दिल कर रहा है
खींच दूँ दीवारों पर
आड़ी तिरछी रेखाएं
उन रेखाओं को छूकर
कोई मेरे मन को पढ़ जाए
समंदर की लहरों तक खींच ले जाए
समंदर से कहे
'शोर को जब्त कैसे करते हैं सीख लो'
समंदर की लहरें कहें -
' इसे मेरी तरह चीखना सीखा दो
वरना धीरे धीरे सारी मिठास ख़त्म हो जाएगी
और खारापन रगों में बहने लगेगा ....
............
मैं चाहती हूँ ... वह कोई
समंदर को मीठा कर जाए !!!

32 टिप्‍पणियां:

  1. गहन भाव ... मन के समंदर से मिठास नहीं जानी चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. इसे मेरी तरह चीखना सीखा दो
    वरना धीरे धीरे सारी मिठास ख़त्म हो जाएगी !

    Aabhar....

    उत्तर देंहटाएं
  3. निशब्द... :) just want to say hats of to you mam.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. खारापन कम करने क लिए अन्दर का गुबार निकलते रहना चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह .. बेहतरीन काव्य बेहतरीन आकांछा .काश आपकी अभिलाषा पूरी हो

    उत्तर देंहटाएं
  7. समंदर की लहरें कहें -
    ' इसे मेरी तरह चीखना सीखा दो
    वरना धीरे धीरे सारी मिठास ख़त्म हो जाएगी
    और खारापन रगों में बहने लगेगा ....

    मैं चाहती हूँ ... वह कोई
    समंदर को मीठा कर जाए !!!

    मन के भावों को दबाकर रखने से तो खारापन ही पैदा होगा इसीलिये कविता रुपी नदी मिठास लिए बहती रहे ...शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  8. samunder to khara hi achha lagta hai rashmi , meethi to nadi hoti hai

    उत्तर देंहटाएं
  9. लहरों के चीखते रहने पर भी सागर का खारापन कम ना हुआ... मिठास आएगी भीतर की शांति से

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह दीदी, क्या बेहतरीन कविता है ! पर मैं रजनीश जी से सहमत हूँ ... मिठास मन की शांति से आती है ... नाकि उत्तेजना से ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिलों में खारापन ना रहे और मिठास भर जाये.

    मैं चाहती हूँ ... वह कोई
    समंदर को मीठा कर जाए !!!

    सुंदर विचार सुंदर कविता के माध्यम से. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  12. अद्भुत अहसासों भरी सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ख़ूब...कितने गहरे भाव हैं आपकी इस कविता में समंदर और दिल का सामंजस्य

    उत्तर देंहटाएं
  14. खारा होने से तो चीखना शुरू किया समुंदर ने!

    उत्तर देंहटाएं
  15. अत्यंत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  16. समंदर से कहे
    'शोर को जब्त कैसे करते हैं सीख लो'...

    वाह दी! अद्भुत अभिव्यक्ति है...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| सार्थक प्रस्तुति . धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  18. lagta hai bahut sara kshar ikattha ho gaya hai.....agar ab pahunch hi gayi ho samunder k pas to jaldi karo isme pravahit kar do apne kshaar ko aur bacha lo rago me behne se pahle us kharepan ko.

    उत्तर देंहटाएं
  19. समयानुसार ही समंदर का चीखना और लहरों की चुप्पी ठीक है!
    कभी कभी चिल्लाने में बुराई नहीं है , मवाद बह जाती है!
    सुन्दर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैं चाहती हूँ ... वह कोई
    समंदर को मीठा कर जाए !!!

    वाह...भावनाओं का एक सार यह भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. समुन्दर जैसा है तभी तो समुन्दर है...हम जैसे हैं तभी तो हम हैं...बस किसी को यह पता नहीं कि वह कैसा है...

    उत्तर देंहटाएं
  22. waah... bahut sundar...
    samandar ke andar mithaas aur ussey cheekhne ki kala seekhna... bahut khoob...

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह के साथ एक आह भी निकली मन से.काश ये खारापन कोई मिटा पाता.

    उत्तर देंहटाएं
  24. मैं चाहती हूँ ... वह कोई
    समंदर को मीठा कर जाए !!! bhaut hi sundar....

    उत्तर देंहटाएं
  25. zindgi ka kharapan kahan kaun mita paya hai kabhi...zindgi bas yun hin guzar jaati hai...

    उत्तर देंहटाएं

पुनरावृति

दिए जा रहे हैं बच्चों को सीख  ! "ये देखो वो देखो ये सीखो वो सीखो देखो दुनिया कहाँ से कहाँ जा रही है ! गांव घर में खेती थी ...