14 नवंबर, 2011

पतिव्रता (?) नारियाँ !



दो तरह की पतिव्रताएं देखने को मिलती हैं ....
एक - जो पति का जीना हराम रखती हैं
जीभर के गालियों से नवाजती हैं
हिकारत से देखते हुए
तीज और करवा चौथ करती हैं
चेहरा कहता है भरी महफ़िल में कि" मान मेरा एहसान .
जो मैं ये ना करूँ तो लम्बी आयु को तरस जाओगे ..."
और इस कमरे से उस कमरे गाती चलती हैं -
" भला है बुरा हैजैसा भी है , मेरा पति मेरा देवता है "
और इस तर्ज के साथ कई पति गुल !
...........................................................
दूसरी - जो हर वक़्त नज़ाकत में कुछ नहीं करती ...
एक ग्लास पानी तक नहीं देती
पर लोगों के बीच कहती हैं ,
" चलती हूँ , इनके आने का वक़्त हो चला है
- दिन भर के थके होते हैं
तो उनकी पसंद का कुछ बनाकर
चाय के संग देना अच्छा लगता है ..."
और लम्बे डग भरती ये चल देती हैं
घर में पति के आते ये एक थकी हारी मुस्कान देती हैं
नज़ाकत की बेल का हाथ थाम पति पूछता है -
" अरे , क्या हुआ ? "
पत्नी एहसान जताती कहती है -
" कुछ नहीं , पूरे दिन सर भारी भारी लगता रहा है ...
खैर छोड़ो , चाय बनाती हूँ ..."
बेचारा पति ! सारी थकान भूल कहता है -
' नहीं मेरी जान , मैं बनाता हूँ " .....
चाय पीकर फिर बाहर चलने का प्रोग्राम बनता है
लिपस्टिक और लम्बी सी मुस्कान लिए
हिम्मत दिखाती ,प्यार जताती पत्नी चल देती है
और पति कुर्बान !
.......... असली पतिव्रता को कुछ भी दिखाने की ज़रूरत नहीं पड़ती , .... वे तो बस होती हैं !

45 टिप्‍पणियां:

  1. स्त्री विमर्श के दौर में एक अलग तरह कि कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक दम x - ray ही खींच लिया है . बहुत ही अच्छा लिखा है .

    उत्तर देंहटाएं
  3. सार्थक सत्य कहती है रचना
    बढ़िया ........

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढिया.. मुझे तो लगता है कि ये रचना जितनी ज्यादा से ज्यादा महिलाओं तक पहुंचे, बढिया है। हमलोगो के बारे में तो आपकी राय बढिया ही है कि दिन भर के थके हारे होने के बाद भी चाय बनाने को तैयार बैठे हैं।
    इतना ही नही जेब हल्का करने के लिए भी...हाहाहाहा

    खैर..

    बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ... बहुत खूब कहा है आपने इस रचना में ...।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यर्थाथपरक व विनोदपरक अच्छी प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. व्यंग में सच या सच में व्यंग ...
    जो भी है सटीक है !
    खुश रहें !

    उत्तर देंहटाएं
  8. पतिव्रता का अलग अलग सुंदर चित्रण...
    अच्छी पोस्ट ,...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. हा हा हा हा....
    इस बार बड़ी गहरी डूब कर मोती लाई हैं दी... :)))

    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बड़ी गहरी तांक -झाँक की है :):)

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह... बहुत सही कहा है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  13. .......... असली पतिव्रता को कुछ भी दिखाने की ज़रूरत नहीं पड़ती , .... वे तो बस होती हैं !
    well said!

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीदी ! हंसी आगई, कितना सुंदर मनोविश्लेषण आपही कर सकते हो बस !
    यहाँ तो टाइम टेबल फिक्स है...इतने बजे तक पहुंचे तो चाय मिलेगी नहीं तो डिनर का इंतज़ार करो !
    करवा चौथ से भी मुक्ति !
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  15. हा हा हा ...क्या मारा है...पर इसे अभी और विस्तार दिया जा सकता था :)

    उत्तर देंहटाएं
  16. पतिव्रता की अच्छी व्याख्या की है.............

    असली पतिव्रता को कुछ भी दिखाने की ज़रूरत नहीं पड़ती , वे तो बस होती हैं !बहुत सार्थक...

    उत्तर देंहटाएं
  17. हास्यपूर्ण लेकिन सार्थक रचना


    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  18. सारी सार्थक टिप्‍पणी? सारे ही शस्‍त्र कहाँ गए? आज तो आश्‍चर्य हो रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. आजकल के समय में पतिव्रता महिलाओं के जीवन-दर्शन की सुन्दर विवेचना.

    मैं सोंच में हूँ कि किस 'CATEGORY' की संख्या ज्यादा है??

    सार्थक प्रस्तुति!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. baut sahi jahan log naari vadi hone ka jhandaa liye ghumte hain wahan aapne yh kavitaa likh kar dil khush kar diya abhaar :-)

    उत्तर देंहटाएं
  21. bahut sunder chitran kiya..mana ki tasveer k do rukh hote hain...lekin is tasveer ke 2 rukh abhi aur baki hain vo bhi chitran kar hi dijiye.

    @mahender srivastav ji chinta n kare sabhi istriya padh rahi hain ise.

    sach hai ye bhi ek roop hai nari ka.

    behad la-jawab prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  22. पतिव्रता होना ही काफी नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. पतिव्रता की भावना अपने आप में काफी पवित्र है...पर दिखावे के लिए ऐसा करना कतई उचित नहीं है...

    उत्तर देंहटाएं
  24. असली पतिव्रता को कुछ भी दिखाने की ज़रूरत नहीं पड़ती , .... वे तो बस होती हैं बहुत ही रोचक और खुबसूरत अंदाज़ की रचना..... पढ़ कर होटों पे हल्की सी मुस्कान ना आये ऐसा हो ही नही सकता..... हर बार एक अलग अंदाज़ देखने को मिलता है आपका.....

    उत्तर देंहटाएं
  25. ......... असली पतिव्रता को कुछ भी दिखाने की ज़रूरत नहीं पड़ती , .... वे तो बस होती हैं
    रस्मी जीई बहत बहुत बधाई ..अच्छी व्यंग रचना

    उत्तर देंहटाएं
  26. मजेदार।
    आपकी पोस्‍ट पढकर एक एसएमएस मुझे याद आ गया जो मेरे एक मित्र ने पिछले दिनो मुझे भेजा था।
    एसएमएस कुछ इस तरह था,
    'भगवान हर घर में जाकर हर व्‍यक्ति को स्‍नेह नहीं दे सकता इसलिए उसने मां बनाया। इसी तरह भगवान हर घर में जाकर हर किसी को सजा नहीं दे सकता इसलिए उसने पत्‍नी बनाई।'

    उत्तर देंहटाएं
  27. असली पतिव्रता को कुछ भी दिखाने की ज़रूरत नहीं पड़ती , .... वे तो बस होती हैं !

    Sab kuchh kahati hai yah pankti... Bahut Sunder

    उत्तर देंहटाएं
  28. :):)
    बहुत मज़ेदार विवेचना और विवरण

    उत्तर देंहटाएं
  29. जिन रूपों का वर्णन किया है वो हमें अपने आस पास दिखाई देते हैं ..विचारणीय रचना .

    लेकिन ऐसा केवल नारियों के साथ ही नहीं है ..

    उत्तर देंहटाएं
  30. आये गज़ब ...रश्मि प्रभा जी...

    उत्तर देंहटाएं
  31. वाह: बहुत कुछ कह डाला..रश्मि जी..सटीक रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  32. इस बार तो आपने ऐसी बात कह दी की तारीफ़ के लिए शब्द तलाशना मुमकिन नहीं हो रहा है ..नि:शब्द कर दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  33. मधुर हास्य.....शशिकला, बिंदु और मीनाकुमारी के कैरेक्टर याद आ गये.

    उत्तर देंहटाएं
  34. दुसरी वाली ज्यादा उपयुक्त है, कई फायदे एक साथ.

    उत्तर देंहटाएं

पुनरावृति

दिए जा रहे हैं बच्चों को सीख  ! "ये देखो वो देखो ये सीखो वो सीखो देखो दुनिया कहाँ से कहाँ जा रही है ! गांव घर में खेती थी ...