16 नवंबर, 2011

ओस से ख्याल



ओस की बूंदों को ऊँगली पे उठा
पत्तों पर लिखे हैं मैंने ख्याल
सिर्फ तेरे नाम ...
इन बूंदों की लकीरों को
तुम्हीं पढ़ सकते हो
तो सुकून है -
कोई अफसाना नहीं बनेगा .

.... प्यार में अफसानों का भय नहीं
पर कोई उन पत्तों को चीर दे
यह गवारा नहीं ...

इतिहास गवाह है मेरी ख़ामोशी का
होगा गवाह मेरी ख़ामोशी का
पर ....
अब तुम नहीं कह सकोगे
कि
तुम्हारी ख़ामोशी के आगे मैं क्या कहता !!!

क्योंकि मैंने लिख दिया है पत्तों पर
रख दिया है पत्तों पर
छोटे छोटे ओस से ख्याल !

51 टिप्‍पणियां:

  1. वाह दी...
    सचमुच, पांखुरी पर ठहरी हुई सुन्दर, कोमल, चमकती ओस सी रचना.... बहुत सुन्दर...
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्योंकि मैंने लिख दिया है पत्तों पर
    रख दिया है पत्तों पर
    छोटे छोटे ओस से ख्याल !

    आपके ओस से लिखे ख्याल
    सुंदरता से बता रहें है हाल

    सुन्दर प्रस्तुति से मन मग्न हो रहा है.
    हार्दिक आभार जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतिहास गवाह है मेरी ख़ामोशी का
    होगा गवाह मेरी ख़ामोशी का
    पर ....
    अब तुम नहीं कह सकोगे
    कि
    तुम्हारी ख़ामोशी के आगे मैं क्या कहता !!!

    बहुत अच्छी लगी यह पंक्तियाँ।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. ओस की बूंदों को ऊँगली पे उठा
    पत्तों पर लिखे हैं मैंने ख्याल
    सिर्फ तेरे नाम ...
    इन बूंदों की लकीरों को
    तुम्हीं पढ़ सकते हो
    तो सुकून है -
    कोई अफसाना नहीं बनेगा .
    bahu hi sunder khyaal....waah !

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्षणभंगुर ख़यालों में स्थायी रहने वाले भाव जैसी कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्षणभंगुर ख़यालों में स्थायी रहने वाले भाव जैसी कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर भावाभिव्यक्ति!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. इन बूंदों की लकीरों को
    तुम्हीं पढ़ सकते हो
    तो सुकून है -
    कोई अफसाना नहीं बनेगा .

    .... प्यार में अफसानों का भय नहीं
    पर कोई उन पत्तों को चीर दे
    यह गवारा नहीं ...
    कहीं गहरे उतरते शब्‍द ...और ये ओस से ख्‍याल नि:शब्‍द ही करते हैं ..।

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्यार में अफसानों का भय नहीं
    पर कोई उन पत्तों को चीर दे
    यह गवारा नहीं ...

    ओस पर लिखे ख़याल बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर ओस से ख्याल ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. ओस की बूंदों को ऊँगली पे उठा
    पत्तों पर लिखे हैं मैंने ख्याल....बहुत सुन्दर भाव...

    उत्तर देंहटाएं
  12. यह छोटी सी बूँद जब वाष्पित हो उड़ेगी, जीवन की महक बरसायेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  13. पत्तों पर ओस से ख्याल... सुन्दर दृश्य और किसी संवेदनशील हृदय तक ये ओस से ख्याल प्रेषित हो जाएँ तो क्या बात हो!
    सुबह सुबह ओस की बूंद सी यह कविता बड़ी प्यारी लगी!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बधाई!
    खूबसूरत भावनाएं ,खूबसूरत ख्याल !

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्योंकि मैंने लिख दिया है पत्तों पर
    रख दिया है पत्तों पर
    छोटे छोटे ओस से ख्याल !
    bahut khoob....

    उत्तर देंहटाएं
  16. क्योंकि मैंने लिख दिया है पत्तों पर
    रख दिया है पत्तों पर
    छोटे छोटे ओस से ख्याल !
    itni kalatmak soch......man khush ho gaya.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेहद नाजुक अहसास को पिरोया है आपने इस कविता में...

    उत्तर देंहटाएं
  18. क्योंकि मैंने लिख दिया है पत्तों पर
    रख दिया है पत्तों पर
    छोटे छोटे ओस से ख्याल !

    ....अद्भुत सोच....बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  19. सचमुच,बहुत सुन्दर, कोमल ओस जैसी ठंडक प्रदान करती रचना.... कितने सुन्दर ख्याल हैं मैं तो सोचती ही रह जाती हूँ इन्हें...
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  20. इतना कोमल ख्याल.....ओस सा ख्याल...वाह !!बहुत सुन्दर !!

    उत्तर देंहटाएं
  21. कुछ न कह कर भी सब कुछ कह दिया..

    उत्तर देंहटाएं
  22. Behtareen...

    Wah, kya khayal hai
    ओस की बूंदों को ऊँगली पे उठा
    पत्तों पर लिखे हैं मैंने ख्याल
    सिर्फ तेरे नाम ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. कोमल अहसास लिए , सुन्दर सी प्यारी सी रचना के लिए आभार और बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  24. मेरा खयाल है अंतिम पंक्तियों को और अच्छे ढंग से लिखने की आवश्यकता है। 'पत्तों पर'... का दुहराव जम नहीं रहा।

    उत्तर देंहटाएं
  25. क्योंकि मैंने लिख दिया है पत्तों पर
    रख दिया है पत्तों पर
    छोटे छोटे ओस से ख्याल !

    .. रस्मी जी आप बहत अच्छा लिखती है
    मैं आपसे बहुत प्रभावित हूँ ...मुझे खुशी है
    कि आपसे जुडी

    उत्तर देंहटाएं
  26. ्सच अब कोई क्या कहेगा…………बस ओस को ही ना पी लेगा……………सुन्दर भाव समन्वय्।

    उत्तर देंहटाएं
  27. इस लाजवाब रचना के लिए बधाई



    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  28. ओस से लिक्खे ख्याल..हलकी तपिश में गुम हो जाते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  29. पत्तों पर रख दिए ओस से छोटे छोटे खयाल ...
    नाजुक एहसासों को थामने के लिए नाजुकी ही चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं
  30. हल्की तपिश से गुम ? ओस की नमी पत्तों में समा जाती है , ख्याल जज्ब हो जाते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  31. इन बूंदों की लकीरों को
    तुम्हीं पढ़ सकते हो
    तो सुकून है -
    कोई अफसाना नहीं बनेगा .

    .... प्यार में अफसानों का भय नहीं
    पर कोई उन पत्तों को चीर दे
    यह गवारा नहीं ..."

    पत्तों को चीर दे ......यह गवारा नही ,कितनी श्रद्धा, कितना प्रेम,कितना ख्याल ,उस ख्याल का .....अहसास से भरपूर ये रचना,......भाव है,सोच है ,सच यही है .....
    "प्रेम समंदर हो जाये तो हो जाता है निडर ,
    ओस मोती बन चमकती तपिश से बेखबर "

    उत्तर देंहटाएं
  32. ओस को शब्द देती ओस सी रचना ।


    अपने महत्त्वपूर्ण विचारों से अवगत कराएँ ।

    औचित्यहीन होती मीडिया और दिशाहीन होती पत्रकारिता

    उत्तर देंहटाएं
  33. sundar bhavnao se saji khubsurat rachana......
    ati sundar....

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत अच्छा लिखा आपने !
    इसके लिए आपको बहुत बहुत बधाई !
    अब आपके ब्लॉग को फोलो कर रह हूँ तो आपकी रचनाओं को पड़ने लके लिए ब्लॉग पर आना होता रहगा
    मेरे ब्लॉग पर आये
    manojbijnori12.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  35. क्योंकि मैंने लिख दिया है पत्तों पर
    रख दिया है पत्तों पर
    छोटे छोटे ओस से ख्याल !

    .... प्यार में अफसानों का भय नहीं
    पर कोई उन पत्तों को चीर दे
    यह गवारा नहीं ..."

    कोमल अहसास लिए रचना

    उत्तर देंहटाएं
  36. क्योंकि मैंने लिख दिया है पत्तों पर
    रख दिया है पत्तों पर
    छोटे छोटे ओस से ख्याल !

    .... प्यार में अफसानों का भय नहीं
    पर कोई उन पत्तों को चीर दे
    यह गवारा नहीं ..."

    कोमल अहसास लिए रचना

    उत्तर देंहटाएं
  37. ओस की पूंदों से लिखे नाज़ुक से ख्याल ... बहुत ही लाजवाब कल्पना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  38. बहुत ही खुबसूरत और भावपूर्ण अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  39. ओस की बूंदों सी ही बेहद नाज़ुक संवेदनायें और उनकी अभिव्यक्ति ! बहुत ही सुन्दर, शीतल, कोमल रचना ! वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  40. वाह, सच में ऐसी रचनाएं आपकी ही कलम से निकल सकती हैं। बहुत बढिया

    ओस की बूंदों को ऊँगली पे उठा
    पत्तों पर लिखे हैं मैंने ख्याल

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...