02 दिसंबर, 2011

कुछ भी नहीं भूली ...



नहीं भूली हूँ उँगलियों पर कोयले से पड़ी दरारें
क्योंकि कभी उन दरारों से वाकिफ नहीं हुई थी ...
नहीं भूली गोद और आग की दूरी
जरा सी लापरवाही
मेरी अज्ञानता का द्योतक बनती
और मेरी माँ के दिए संस्कार और तरीके ....
कितने सारे प्रश्नों के घेरे में !
.....
नहीं भूली -
एक साथ तवे पर आठ दस रोटियाँ रखना
और एक बार में सबकी प्लेट में गर्म रोटी रखना ...
अब हँसी आती है
क्योंकि पी सी सरकार बनकर भी
कुछ हासिल नहीं हुआ !!
....
नहीं भूली कि कितनी हसरत थी परी बनने की
तभी तो खुद में खुद चाभी भरके
पुरवईया सी तेज हो जाती थी -
घड़ी की सूई १० तक पहुँचे
उससे पहले - घर सुव्यवस्थित
बच्चे तैयार
खाना तैयार
और माथे पर पसीने की एक बूंद भी नहीं ...
फिर भी सर्टिफिकेट मिला ' बेकार '
....
बड़े नाजों पली थी
पर इस पालन पोषण में
संस्कारों की घुट्टी थी
तो जो सामर्थ्य से परे था
वो भी किया .... और करते हुए नसीहतों के पाठ भी पढ़ती रही !
....
अब सोचती हूँ -
गलती सरासर अपनी थी ...
बचपन में beauty & the beast ' क्या पढ़ा
खुद को ब्यूटी मान लिया
और सोचा जो बीस्ट मिला हमें
तो राजकुमार बना देंगे सेवा से !
कहानियों में जीने की बुरी आदत ने
बीस्ट के इतने नज़ारे दिखाए
कि मानना पड़ा - 'सब झूठ है '
....
अब न बीस्ट से डर लगता है
न परियों से ख्याल आते हैं
संस्कारों की पिछली घुट्टी का असर भी नहीं रहा
.... अब तो खुद में ठहाके लगाते हैं
कि हम भी क्या क्या करते थे !
कुछ भी नहीं भूली हूँ ...

52 टिप्‍पणियां:

  1. नहीं भूली -
    एक साथ तवे पर आठ दस रोटियाँ रखना
    और एक बार में सबकी प्लेट में गर्म रोटी रखना ...
    अब हँसी आती है
    क्योंकि पी सी सरकार बनकर भी
    कुछ हासिल नहीं हुआ !!

    वाह वाह .
    जीवन में काफी कुछ करने के बाद भी आदमी को अंत में ऐसा महसूस होता है कि अभी तो बहुत कुछ करना बाकी रह गया.इसीलिए मैंने तो अपने latest ग़ज़ल संग्रह का शीर्षक ही "कुछ न हासिल हुआ " रक्खा है.मेरा एक शेर है:-
    वक्ते-रुख्सत 'कुँवर' देख लेना,
    कुछ न हासिल हुआ उम्र भर में.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कि हम भी क्या क्या करते थे !
    कुछ भी नहीं भूली हूँ ...
    vaakai kyaa kyaa karte they
    yaad kar
    khud pe hanste hein ,

    उत्तर देंहटाएं
  3. भई वाह!मानना पड़ेगा आपकी लेखनी को...शब्द आपके किन्तु बातें सबके मन की...बहुत बहुत बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब न बीस्ट से डर लगता है
    न परियों से ख्याल आते हैं
    संस्कारों की पिछली घुट्टी का असर भी नहीं रहा
    .... अब तो खुद में ठहाके लगाते हैं
    कि हम भी क्या क्या करते थे !
    कुछ भी नहीं भूली हूँ ...


    Zindgi ko nichoD diya aapne shabdon mein

    उत्तर देंहटाएं
  5. जो पल मन को गहन उदासी देते हैं ...उन बीते हुए पलों को भूलना ही श्रेयस्कर होता है ....स्मृति बहुत दिनों तक साथ नहीं चलती |जो बातें हम कल भूल ही जायेंगे उन्हें आज ही भुला दें तो ज्यादा अच्छा है न ...
    मन में बहुत गहरे उतर गयीं हैं ...
    बहुत अच्छा लिखा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. सोचा जो बीस्ट मिला हमें
    तो राजकुमार बना देंगे सेवा से !
    कहानियों में जीने की बुरी आदत ने
    बीस्ट के इतने नज़ारे दिखाए
    कि मानना पड़ा - 'सब झूठ है '..बहुत बढ़िया ....सबका सच.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब आंटी। कुछ भूलना बहुत मुश्किल ही होता है।

    सादर

    ----
    ‘जो मेरा मन कहे’

    उत्तर देंहटाएं
  8. बे कार थी - बेकार न थी
    घर कार आई - बेकार हूँ.
    गुल्लक था - झंकार न थी
    झंकार आई - बे-टंकार हूँ.

    जीवन को यथार्थ को संजीदगी से शब्दों में पिरोया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. और माथे पर पसीने की एक बूंद भी नहीं ...
    फिर भी सर्टिफिकेट मिला ' बेकार '

    kadva sach....

    उत्तर देंहटाएं
  10. कि हम भी क्या क्या करते थे !
    कुछ भी नहीं भूली हूँ ...

    बिल्‍कुल सच कहा .. तभी तो हर पल जीवंत आज भी ...गहरे उतरते शब्‍द ...आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बे कार थी-बेकार न थी
    घर कार आई -बेकार हूँ
    गुल्लक था-झंकार न थी
    झंकार आई-बे टंकार हूँ

    बहुत सुंदर बोल सुंदर रचना बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  12. जो यादें जलाती हों , उन्हें भुलाना ही ठीक है !
    फिर भी याद आती ही हैं !
    कविता की टीस अंतर्मन को भेदती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. कभी कभी किसी ख़ास भाव या दशा का वर्णन करने के लिये शब्द नहीं मिलते
    आज मैं भी नि:शब्द हूं

    उत्तर देंहटाएं
  14. नहीं भूली कि कितनी हसरत थी परी बनने की
    तभी तो खुद में खुद चाभी भरके...
    और माथे पर पसीने की एक बूंद भी नहीं ...
    फिर भी सर्टिफिकेट मिला ' बेकार '

    और भी सब कुछ... कुछ भी नहीं भूला जा सकता हैं...सोच रही हूँ आखिर क्यों होता है यह सब...कुछ हासिल क्यों नहीं होता?
    जीवन के यथार्थ को शब्दों में ढाल दिया है आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  15. ज़िन्दगी भर की टीस को समेट दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  16. अब सोचती हूँ -
    गलती सरासर अपनी थी ...
    बचपन में beauty & the beast ' क्या पढ़ा
    खुद को ब्यूटी मान लिया
    और सोचा जो बीस्ट मिला हमें
    तो राजकुमार बना देंगे सेवा से !
    कहानियों में जीने की बुरी आदत ने
    बीस्ट के इतने नज़ारे दिखाए
    कि मानना पड़ा - 'सब झूठ है

    UMDA PRASTUTI...MARMIK CHINTAN.

    उत्तर देंहटाएं
  17. ओह ओह ओह ...आजकल इतना सच सच क्यों लिख रही हैं आप...वह भी इतनी सुंदरता से.

    उत्तर देंहटाएं
  18. ठहाके का साथ मुस्कराहट से दे रही हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  19. और माथे पर पसीने की एक बूंद भी नहीं ...
    फिर भी सर्टिफिकेट मिला ' बेकार '...सही सटीक और सच को दर्शाती अनुपम अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  20. पी सी सरकार जादूगर क्या ?
    बहुत सुंदर मन को छू गई रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  21. नहीं भूली कि कितनी हसरत थी परी बनने की
    तभी तो खुद में खुद चाभी भरके
    पुरवईया सी तेज हो जाती थी -
    घड़ी की सूई १० तक पहुँचे
    उससे पहले - घर सुव्यवस्थित
    बच्चे तैयार
    खाना तैयार
    और माथे पर पसीने की एक बूंद भी नहीं ...
    फिर भी सर्टिफिकेट मिला ' बेकार '

    दिल को छूती बहुत सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  22. कि हम भी क्या क्या करते थे !
    कुछ भी नहीं भूली हूँ ...

    दिल को छू गई आपकी ये रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहूत हि गहरे जजबात और भावना को प्रस्तुत करती आपकी यह रचना
    बहूत हि सुंदर है...

    उत्तर देंहटाएं
  24. कहानियों में जीने की बुरी आदत ने
    बीस्ट के इतने नज़ारे दिखाए
    कि मानना पड़ा - 'सब झूठ है '

    बड़ी खूबसूरती से रचा है दी...
    पी सी सरकार वाली उपमा तो.... वाह!

    सुन्दर रचना....
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  25. नहीं भूली हूँ उँगलियों पर कोयले से पड़ी दरारें
    क्योंकि कभी उन दरारों से वाकिफ नहीं हुई थी ...
    नहीं भूली गोद और आग की दूरी
    जरा सी लापरवाही
    मेरी अज्ञानता का द्योतक बनती
    और मेरी माँ के दिए संस्कार और तरीके ....
    कितने सारे प्रश्नों के घेरे में !
    ....सच अच्छे-बुरे गुजरे क्षणों को भुलाना आसां नहीं ..
    ..समय के साथ कितना कुछ बदल जाता है.. लेकिन यादें नहीं बदलती....
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  26. तभी तो खुद में खुद चाभी भरके
    पुरवईया सी तेज हो जाती थी -


    आप इतना यथार्त कैसे लिख लेती है
    सब कुछ दिल मे उतर गया ..मेरे पास कोई शब्द नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  27. कुछ बी भूलना इतना आसान कहाँ होता है... दिल को छू हर एक पंक्ति.... हर बार की तरह.....

    उत्तर देंहटाएं
  28. काश हम अपने स्वप्नों से बाहर आ जीवन का सत्य समझ पाते।

    उत्तर देंहटाएं
  29. आधुनिक जीवन में नारी कि स्थिति बयां करती सुन्दर रचना. भूलना नहीं चाहिए, यादों से बेहतर करने की और गलतियाँ न दुहराने की सीख मिलाती है.

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  30. अब तो खुद में ठहाके लगाते हैं
    कि हम भी क्या क्या करते थे !
    कुछ भी नहीं भूली हूँ ...

    ....जीवन की सच्चाई का बहुत सटीक चित्रण..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  31. जीवन की मुश्किलों या कहिए मुश्किल से होने वाली असहनीय पीडा को भी आपने जिस तरह से गूंथा है कि वो उस दर्द को कम करता नजर आ रहा है।
    बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  32. beauty & best ki bajaay beautiful & bold bane hote to rajkumari hi rahte.

    bahut bahut sunder dil ko chhooti abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  33. सच ऐसे भाव भी मन में कहीं न कहीं छुपे ही रहते हैं...... बहुत बढ़िया रचना

    उत्तर देंहटाएं
  34. कल शनिवार ... 03/12/2011को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  35. सच ही नहीं भूलीं आप कुछ भी ..तभी न सब कुछ समेट लिया इन पंक्तियों में ..सच्चाई से रु ब रु कराती रचना जो मन में एक असीम टीस भर जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  36. कभी कभी लगता है संस्कार विहीन आदमी मनमानी करके तो जी लेता है .....

    उत्तर देंहटाएं
  37. वाह ..बेजोड़ भावाभिव्यक्ति...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  38. संस्कारों के नाम पर...हम वाकई पता नहीं क्या-क्या करते हैं...अपने आप को झूठी दिलासा देते हुए...करो वही जो दिल करे...

    उत्तर देंहटाएं
  39. achhi rachna hai.......beauty ne baad mein beast ki harkat yaad karke jo thahake lagaye vo majedaar the... pari banane ki hasrat bhi khusnuma thi.... jo bhi beauty -beast ke is jhagre se nikal gaya use us 'bekar' ke bekaar certificate se kya lena dena....... beauty ne beast ko sikha diya hoga..........
    unke sitam ab lagte hain bachkane...
    hum abaad huye, majboot huye dard sahte sahte...
    koi to unki chaal unpar hi ajmata hoga
    ankhain to bharti hongi, vo sabh yaad karte karte

    उत्तर देंहटाएं
  40. जीवन में जब अति हो जाती है तो मन विद्रोही हो जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  41. कहीं न कहीं ये टीस हम सभी के मन में रहती है, इतना कुछ के बाद भी जाने क्यों बेकार करार कर दी जाती है...अच्छे बनने की हर मुमकिन कोशिश और अंत में हताश मन...बहुत अच्छी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  42. क्या लिख दिया आपने...
    इनती गहरे में कैसे चले जाते हो आप

    परी की तरह तो मैं भी पली
    ... पाल भी रही हूँ
    संस्कारों की चाभी तो मुझे में भी भरी गयी
    ..... भर भी रही हूँ
    पर मैं भी हूँ .... हाँ मैं हूँ
    ये ना जाने क्यूँ .. कभी भूल ही ना पाई
    अब तो याद भी नहीं कि
    किसने क्या कहा ... क्या सिखाया
    पर खुद को हमेशा जाना .. हमेशा समझा
    खुद का होना शायद दुनिया के
    ना चाहते हुए भी उन पर
    ज़बरदस्ती थोपा
    और आज मैं हूँ .. हाँ मैं हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  43. नारी जीवन के अहम पहलों को चित्ररार्थ करती रचना यही तो है नररी जीवन जिसे केवल एक नारी ही समझ सकती है दूसरा और कोई नहीं ....

    उत्तर देंहटाएं
  44. नहीं भूली -
    एक साथ तवे पर आठ दस रोटियाँ रखना
    और एक बार में सबकी प्लेट में गर्म रोटी रखना ...
    अब हँसी आती है
    क्योंकि पी सी सरकार बनकर भी
    कुछ हासिल नहीं हुआ !!

    दीदी !

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...