About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

17 जुलाई, 2012

ख्वाब क्यूँ ?



पूछते हो - ख्वाब क्यूँ ?

ख्वाब ही तो संजीवनी हैं
जब भूख लगती है
और खाने को कुछ नहीं होता
तो ये ख्वाब रोटी बन जाते हैं
सुनाते हैं लोरियां परियों की
जो दे जाती हैं सुनहरी भोर कुछ कर दिखाने की !

ख्वाब आकाश को धरती पर ले आते हैं
चाँद से होती है गुफ्तगू
सितारे हथेलियों में छुप जाते हैं
देती हूँ आकाश को पानी
लेती हूँ आकाश से आशीष
पानी के एवज में एक मीठी नदी का
ख्वाब से ही तो नदी निकलती है
कह सकते हो इन ख़्वाबों को शिव की जटा
शिव का त्रिनेत्र
पार्वती का तप
राधा का समर्पण
कृष्ण की बांसुरी
सिद्धार्थ का निर्वाण ........ सब तुम्हारे हाथ में है
जो ये ख्वाब हैं !

ख्वाब ही शोध है
इतिहास है
इमारत से खंडहर
और खंडहर से इमारत है
बिना ख्वाब के तो चाय नहीं बनती
चिन्नी डालो
दूध डालो
पत्ती डालो
अदरक, इलायची , मसाले .....
एक चुटकी ख्वाब नहीं
तो चाय बड़ी फीकी होती है !

ख्वाब ही आजादी की निष्ठा देते हैं
इकबाल को कहते हैं -
' ज़रा नम हो तो यह मिट्टी बड़ी ज़रखेज़ है साकी '
ख्वाब ही न हो तो न कवि
न कहानीकार
न व्यंग्यकार ........ कुछ भी नहीं
ये ख्वाब ही तो आदम और हव्वा हैं
श्रद्धा और मनु हैं
धर्म के नाश के साथ
ये ख्वाब ही अवतार हैं

अब तुम कहो - ख्वाब के बिना जीवन क्या ?

36 टिप्‍पणियां:

  1. ख्वाब ही तो संजीवनी हैं
    ख्वाब आकाश को धरती पर ले आते हैं
    अक्षरश: सच कहा है आपने गहन भाव लिए लाजवाब करती अभिव्‍यक्ति ... आभार

    कल 18/07/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' ख्वाब क्यों ???...कविताओं में जवाब तलाशता एक सवाल''

    उत्तर देंहटाएं
  2. "ख्वाब ही तो संजीवनी हैं
    जब भूख लगती है
    और खाने को कुछ नहीं होता
    तो ये ख्वाब रोटी बन जाते हैं
    सुनाते हैं लोरियां परियों की
    जो दे जाती हैं सुनहरी भोर कुछ कर दिखाने की " पर फिर भी पेट की आग नहीं बुझती केवल ख्याव से ......
    अच्छी रचना के लिए आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिल्कुल सही
    सपने ना हों तो जीने का मकसद ही अधूरा है

    उत्तर देंहटाएं
  4. कमाल हो गया एक ही दिन दोनो ने एक ही शीर्षक से पोस्ट लगा दी है :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. ख्वाब ही शोध है
    इतिहास है
    इमारत से खंडहर
    और खंडहर से इमारत है
    बिना ख्वाब के तो चाय नहीं बनती
    चिन्नी डालो
    दूध डालो
    पत्ती डालो
    अदरक, इलायची , मसाले .....
    एक चुटकी ख्वाब नहीं
    तो चाय बड़ी फीकी होती है !..bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है ख्वाब ही जीवन को गति देता है..बहुत सार्थक

    उत्तर देंहटाएं
  7. ख्वाब संबल हैं , ख्वाब जीवन हैं. ख्वाब ही सबकुछ.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ख्वाब या विचार का ही फैलाव है संसार.....सुन्दर पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ख्वाब ना हो तो कवि तो हो ही नहीं सकता ....
    एकदम सच्ची !

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच है ... ख्वाब के बिना कैसा जीवन ... रेत में पानी की काना न होना ... कैसे चलेगा ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक चुटकी ख्वाब नहीं
    तो चाय बड़ी फीकी होती है !
    सच कहा .....सुंदर चिंतन !
    sapne jaruri hai ,

    उत्तर देंहटाएं
  12. ख़्वाबों का संजीवनी सबको आनंद दे रहा है..

    उत्तर देंहटाएं
  13. ख्वाब तो जीने की वजह है......
    रातों की नींद की सार्थकता है ख्वाब.....
    इनके बिना सोना और जीना दोनों बेकार..........

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  14. कितना सुन्दर सोच लेती हैं आप. एक ख्वाब ही तो वो जगह है जहाँ हमारी मनमानी चल सकती है. मैं तो सब उल्टा कर देती हूँ वहां, आकाश में चलती हूँ बहुत अच्छा लगता है. सचमुच ख्वाब हैं तो जीवन है. ख्वाब न हो तो कुछ भी नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  15. लाजवाब .....बहुत सुंदर ....

    उत्तर देंहटाएं
  16. जब दिल होता है बेताब
    तो देता है सहारा खाब
    इसके बिना जीवन में गति नहीं
    इसके बिन जीवन की गति नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  17. ख़्वाब देखे बिना,जीवन लगे अधूरा
    मंजिलें मिलती,ख़्वाब हो जाता पूरा,,,,,

    भावमय बेहतरीन प्रस्तुति,,,,,

    RECENT POST ...: आई देश में आंधियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच कहा आपने ख्याब के बिना ये जिंदगी अधूरी हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. ख्वाब!! वाह...
    कुछ पल हकीकत से दूर...खूबसूरत एहसास !!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. ख्वाओं की बहुत ही सुन्दर व्याख्या ....सच में ख्वाब कितने ज़रूरी हैं .......शायद यही दुनिया की धुरी हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. ख्वाब ही हमारे स्थूल जीवन में चेतना का कार्य करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  22. ख्वाब एक सुन्दर अहसास दिलाता है..
    ख्वाब विचारों का आकाश है..
    जो बहुत विस्तारी है और ऐसे खुले आकाश में विचरण करना.बहुत सुखदायक होता है ..बहुत सुन्दर बेहतरीन रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  23. जो सामने है वो तो है ही पर जो नहीं है उसकी ही ख़्वाहिश रहती है और उसको पाने का ही ख्वाब ... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  24. ek ek shabd ekdum sateek..khwaab hi to zindagi hain....bauhat acche nazm h!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. ज़रा नम हो तो यह मिट्टी बड़ी ज़रखेज़ है साकी '
    ख्वाब ही न हो तो न कवि
    न कहानीकार
    न व्यंग्यकार ........ कुछ भी नहीं
    .... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  26. ये ख्वाब ही ना हों तो शायद जीना भी दुरूह हो जाये..सदैव की तरह एक उत्कृष्ट प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  27. एक चुटकी ख्वाब नहीं
    तो चाय बड़ी फीकी होती है ! bahut khoob! bade din ke baad blogs pad rahi hoon… par aapki rachnayen sabse alag hoti hain, mano ishwar ke sandesh jaisi… saadar

    उत्तर देंहटाएं
  28. ख्वाब ही तो संजीवनी हैं

    सच में ख्वाब ही तो पुल बनाते हैं , खाई पाटते हैं असंभव और संभव के बीच की !

    बेहद प्रेरक रचना. शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  29. सच कहा. बहुत अहम हैं ख्वाब जिंदगी में

    उत्तर देंहटाएं
  30. ख्वाब ही तो वो बीज हैं जो हकीकत का पौधा बनेंगे । सुंदर ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. आपने भी क्या खूब ,ये पंक्तियां पढवाई हैं ,
    सुंदर शब्दों का चयन , संयोजन कर के लाई हैं ,
    दिल से निकली ,रचना ये मन को हमारे भाई है ..
    बहुत बहुत शुभकामनाएं ।


    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  32. इकबाल को कहते हैं -
    ' ज़रा नम हो तो यह मिट्टी बड़ी ज़रखेज़ है साकी '
    ख्वाब ही न हो तो न कवि
    न कहानीकार
    न व्यंग्यकार ........ कुछ भी नहीं
    ये ख्वाब ही तो आदम और हव्वा हैं
    श्रद्धा और मनु हैं
    धर्म के नाश के साथ
    ये ख्वाब ही अवतार हैं

    bahut sahi kaha.......khwab hai, kalpna hai to hi jeevan hai....!

    उत्तर देंहटाएं
  33. ख्वाब के बिना जिन्दगी कुछ भी नहीं
    ख्वाब टूटते ही जिन्दगी मौत बन जाती है

    उत्तर देंहटाएं