27 जुलाई, 2008

स्वयं का आह्वान...........


हम किसे आवाज़ देते हैं?
और क्यूँ?
क्या हम में वो दम नहीं,
जो हवाओं के रुख बदल डाले,
सरफरोशी के जज्बातों को नए आयाम दे जाए,
जो -अन्याय की बढती आंधी को मिटा सके...........
अपने हौसले, अपने जज्बे को बाहर लाओ,
भगत सिंह,सुखदेव कहीं और नहीं
तुम सब के दिलों में हैं,
उन्हें बाहर लाओ...........
बम विस्फोट कोई गुफ्तगू नहीं,
दुश्मनों की सोची-समझी चाल है,
उसे निरस्त करो,
ख़ुद का आह्वान करो,
ख़ुद को पहचानो,
भारत की रक्षा करो !...........

21 टिप्‍पणियां:

  1. vakai bhut sundar soch ke sath kavitao ki rachana karti hai aap. alag si baat hai rachana me. ati uttam. jari rhe.

    उत्तर देंहटाएं
  2. BAHUT HI ACHHA LAGA PADH KAR,
    PAR SIRF PADH KAR COMMENT BHEJ DENE SE HI KYA HUM SABKA DAAYITV KHATAM HO JATA HAI?
    YAHI SOCHTA REHTA HU KI KAB HOSH ME AAYENGE HUM SAB?
    JOSH TO MUJHE DIKH JATA HAI CRICKET MATCH WALE DIN..
    PAR HOSH BHI TO DIKHE..

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह आह्वान आवश्य सफल होगा! शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut himmat detee huyee kavita bahut bahut achha laga padh ke

    Anil

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमारी संस्कृति के मूल में है-- सहिष्णुता ..और आज वही कमजोरी बन गयी है अति सहिष्णुता के रूप में...

    उत्तर देंहटाएं
  6. bhaut sahi baat kahti hui kavita...ye sab julm mitane ke liye ham sabko milke kaam karna hogaa dushman jo hamme chhipe hai unko dekhna hoga ..pahchanna hogaa aur unko apne se door karna hogaa...
    bahut acha laga yaisi kavita padke..

    उत्तर देंहटाएं
  7. कविता माध्यम मात्र है इन पंक्तीयो से आपकी संवेदनशीलता और देशप्रेम के दर्शन होते है !!आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. ek kranti apne astitva ko jagane ke liye.....
    bahut hi prernadayak rachna....

    उत्तर देंहटाएं
  9. बम विस्फोट कोई गुफ्तगू नहीं,
    दुश्मनों की सोची-समझी चाल है,


    बिल्कुल ठीक कहा अपने.. सशक्त रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut khub ek ek sahbdo ko piro diya aapnai aap ko mera parnaam

    उत्तर देंहटाएं
  11. Di Namashkar!
    ek dam sahi kaha, jagna to hame hai, kisi aur ko nahi!
    ye dhamako ki gunj hamare antarman ke liye hai,
    manavta ki chiktakaar ke liye nahi......
    masoom to apne khoon se likh gaye ek aur darindo ki namardangee ki taza ibaarat....
    par unke bilakhte bhavishy ki aankhon se behte aansoon..hamari kayarta ko dhone ke liye hai,
    un par taras khane ke liye nahi....!!

    ....aapki kalam shashkt hai di par ham log shanti ke naam par kayar ho gaye....kaash aapke ye shabdon ki goonj har jaroorat mand aankh tak pahunche....

    ...Apka Ehsaas!

    उत्तर देंहटाएं

ये तो मैं ही हूँ !!!

आज मैं उस मकान के आगे हूँ जहाँ जाने की मनाही थी सबने कहा था - मत जाना उधर कमरे के आस पास कभी तुतलाने की आवाज़ आती है कभी कोई पु...