02 जुलाई, 2008

अतीत का दर्द.........


जब दर्द के शीशे गहरे चुभते हैं,

तो हर उपचार के बाद,

उसके निशान,

प्राकृतिक,शारीरिक चुभन रह जाते हैं!

अति सरल है,

'भूल जाने का परामर्श' देना!

इमारत जिंदगी की अतीत के खंडहर पर होती है...........

अतीत भूत बनकर इन कमरों में घुमा करते हैं,

नींद में भी एक दहशत ताउम्र होती है!

पागलपन कहो या-

मनोविज्ञान का सहारा लो.....

बातें ख़त्म नहीं होतीं,

खुदाई यादों की चलती ही रहती है,

कभी खुशी,कभी दुर्गन्ध बन

साथ ही रहती है!

गूंजते सन्नाटों की भाषा वही जानते हैं,

जो सन्नाटों से गुजरते हैं ,

अतीत का दर्द - दर्द का मारा ही जान पाता है!

16 टिप्‍पणियां:

  1. खुदाई यादों की चलती ही रहती है,

    कभी खुशी,कभी दुर्गन्ध बन

    साथ ही रहती है!


    bahut achha hai
    Anil

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत गहरी.. और सच्ची... संवेदनाएं हैं.. "दर्द" ना जाने कोए
    फिर वही बात के .. बाज़ार में अजान सिर्फ उस फ़कीर को ही सुनाई दे सकती है...
    आपके एक एक शब्द मरहम की तरह लग रहे हैं.... बहुत प्यारी रचना है.. करीब है..अपनी है....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह.. बहुत खूब दी..
    दर्द को जी कर शब्दों में पिरो दिया है आपने दर्द को..
    बधाई..!!



    दर्द तब तक ही
    दर्द देता है..
    जब तक हम उसे
    पराया समझते हैं..
    जब उसे
    सहते सहते..
    उसके आदी हो जाते हैं तो
    वही दर्द
    हमे प्यारा भी लगने लगता है..
    क्यूंकि..
    वो दर्द बेवफा तो नहीं होता..
    खुशियों की तरह..
    जो जरा जरा सी बात पर
    रूठ जाती है..
    चली जाती है तन्हा छोड़ कर..
    बिलकुल तन्हा..
    जहां अपनी परछाई भी साथ न दे..
    ऐसे अन्धकार में धकेल कर..
    कब तक?
    आखिर कब तक भागूं ?
    इन खुशियों के पीछे..??
    जो हमे देख कर भी रहती है..
    अपनी आँखें मीचे..
    इन खुशियों से अच्छी तो ये दर्द हैं..
    जो बिना बुलाये आ जाती हैं..
    वो भी अपने पुरे परिवार के साथ..
    निभाने को साथ
    दिन हो या रात..
    जो कभी बेवफाई तो नहीं करती
    दिल में आबाद रहती है..
    शायद जिंदगी भी यही कहती है..
    कि सुख दुःख तो जीवन का अंग है..
    सबके अपने-अपने जीने का ढंग है..
    कहीं अँधेरा कहीं उजाला
    यही तो जिंदगी का रंग है..!!
    --GOPAL K DAS

    उत्तर देंहटाएं
  4. 'भूल जाने का परामर्श' देना!

    satay hi kaha aapne
    kahna aasan hota he
    par us kahe par amal karna kathin

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut sahi baat kahi,jis par gujarti hai,wo hi janta hai,atit ke nishan bhar jate hai magar nishan nahi mitate.sundar kavita badhai

    उत्तर देंहटाएं
  6. खुदाई यादों की चलती ही रहती है,


    कभी खुशी,कभी दुर्गन्ध बन


    साथ ही रहती है!


    गूंजते सन्नाटों की भाषा वही जानते हैं,


    जो सन्नाटों से गुजरते हैं ,


    अतीत का दर्द - दर्द का मारा ही जान पाता है!

    sachchai ko prabhavshali andaj me beya kiya hai aapne. Simply excellent expression of bittar truth.

    उत्तर देंहटाएं
  7. haaan didi...
    aaapne sahi kaha main bahut chhota hoon... lekin kuch aise dour maine bhi dekhe hain jinki... gandh aate hi sirhan doud jaati hai jism me...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बातें ख़त्म नहीं होतीं,


    खुदाई यादों की चलती ही रहती है,


    कभी खुशी,कभी दुर्गन्ध बन


    साथ ही रहती है!
    इससे बड़ा सच शायद नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिल्कुल सही..एक गहरी रचना के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. रश्मि जी आपकी रचना ''अतीत का दर्द''..... शानदार है ...........'' गूंजते सन्नाटों की भाषा वही जानते हैं, जो सन्नाटों से गुजरते हैं '',....... प्रभाव शाली पंक्तियाँ है ..... शुभकामनाएं......

    उत्तर देंहटाएं
  11. Goodh kavita di......dard ka hridaysparsh chitran....

    ..Ehsaas!

    उत्तर देंहटाएं
  12. very well said maasi...but we should try to forget bad moments and recall pleasent moment again and again...

    उत्तर देंहटाएं
  13. गूंजते सन्नाटों की भाषा वही जानते हैं,


    जो सन्नाटों से गुजरते हैं ,


    अतीत का दर्द - दर्द का मारा ही जान पाता है!
    bahut hi aasan dhang se bahut hi sacchi baat khedi aapne ji haan atit ka dard dard ka maara hi jaan sakta hai hum humdardi jaroor de sakte hain magar us dard ko jaan nahi sakte na koi hamare dard ko juaan sakta sirf sahanbhuti hi de sakta hai aur kuch nahi..........

    उत्तर देंहटाएं
  14. गूंजते सन्नाटों की भाषा वही जानते हैं,
    जो सन्नाटों से गुजरते हैं....

    सच कहा दी...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...