About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

04 अक्तूबर, 2011

मन को पता होता है



तुम्हें डर था
पढ़ लूँगी मैं चेहरे को
तो तुमने चेहरे को व्यस्त बना लिया
.... मुझे हँसी आई
उम्र होने पर भी बच्चों वाली कोशिश पर !
चेहरा व्यस्त हो , शांत हो
लम्बी सी मुस्कान ओढ़े हुए हो
पर वह मन से अलग नहीं होता ....
अगर मन से अलग चेहरे की भाषा होती
तो शिव ने भस्मासुर की मंशा नहीं जानी होती
यमराज के आगे सती की निष्ठा की जीत नहीं होती
सत्य तो यही है ... कि
प्रहलाद के मन ने ही होलिका को जलाया
........
रिश्ते अनगिनत होते हैं
रक्त , जाति, धर्म , देश के
पर ठहराव मन के रिश्तों में होता है
और मन
चेहरे से विलग नहीं होता ...
........
मन से अलग होना रूह से अलग होना
और जब शरीर खाली होता है
तो उस भटकती रूह को तुमने भी देखा और सुना है
फिर कैसे सोच लिया
तुम्हारी रूह मुझसे नहीं मिलेगी
कुछ नहीं कहेगी
....
खनकती हँसी
बेजान गूंजती हँसी का फर्क
मन को पता होता है -
!!!

42 टिप्‍पणियां:

  1. कितने भाव छिपे रहते हैं इन चेहरों में,
    कितने तीर बिंधे रहते हैं इन चेहरों में।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Haaaaa ... ठहराव मन के रिश्तों में होता है...! Ilu..!

    उत्तर देंहटाएं
  3. खनकती हँसी
    बेजान गूंजती हँसी का फर्क
    मन को पता होता है -
    बिल्‍कुल सच ...हमेशा की तरह एक बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ..आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन से अलग होना रूह से अलग होना
    और जब शरीर खाली होता है
    तो उस भटकती रूह को तुमने भी देखा और सुना है
    फिर कैसे सोच लिया
    तुम्हारी रूह मुझसे नहीं मिलेगी
    कुछ नहीं कहेगी

    बहुत ही बढि़या ..भावमय करते शब्‍दों का संगम है यह अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन से अलग होना रूह से अलग होना
    और जब शरीर खाली होता है
    तो उस भटकती रूह को तुमने भी देखा और सुना है
    फिर कैसे सोच लिया
    तुम्हारी रूह मुझसे नहीं मिलेगी
    कुछ नहीं कहेगी
    sabse sundar... sach yahi to rooh hai aur yahi to man hai... yahi to rishta hai...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सही कहा.. मन का हर भाव चेहरा बता ही देता है.. ..चेहरा मन का कार्बन कापी है..
    लाख छुपाओ.छुप न सकेगा....

    उत्तर देंहटाएं
  7. sach mein...man padh leta hai khanaktii,sachchii hansii aur bejaan goonjtii hansii ka fark ...bahut achchha likha hai,aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ठहराव मन के रिश्तों में होता है
    और मन
    चेहरे से विलग नहीं होता ...........



    Incredible... Regards...

    उत्तर देंहटाएं
  9. चेहरा व्यस्त हो , शांत हो
    लम्बी सी मुस्कान ओढ़े हुए हो
    पर वह मन से अलग नहीं होता ....

    सहही बात है, चेहरा तो मन का आइना है ... पर कई माहिर खिलाडी चेहरे को मन से अलग करने में सफल हो पाते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. रिश्ते अनगिनत होते हैं
    रक्त , जाति, धर्म , देश के
    पर ठहराव मन के रिश्तों में होता है
    और मन
    चेहरे से विलग नहीं होता ...
    ........

    बहुत सटीक और सार्थक अभिव्यक्ति..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. tora man darpan kahlaaye re ....aur chehra to man ka bhi darpan hai ...
    bahut sunder rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  12. चेहरा कभी मन से अलग नहीं होता...
    गहरी सोच... सार्थक चिंतन दी..
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  13. और मन
    चेहरे से विलग नहीं होता ...

    सही कहा जी आपने .

    उत्तर देंहटाएं
  14. आह!!!!! सच कहा हँसी के अर्थ भी बदले होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. नजर पढ़ लेती है दिल की जुबान.

    उत्तर देंहटाएं
  16. खनकती हँसी
    बेजान गूंजती हँसी का फर्क
    मन को पता होता है -
    ekdam......

    उत्तर देंहटाएं
  17. खनकती हँसी
    बेजान गूंजती हँसी का फर्क
    मन को पता होता है -
    ekdam......

    उत्तर देंहटाएं
  18. खनकती हँसी
    बेजान गूंजती हँसी का फर्क
    मन को पता होता है -
    ekdam......

    उत्तर देंहटाएं
  19. मन से क्या छिपता है , ऐसा मन भी तो हो जो दूसरों को पढ़ सके, तब ही तो !
    प्यारी सी कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  20. रिश्ते अनगिनत होते हैं
    रक्त , जाति, धर्म , देश के
    पर ठहराव मन के रिश्तों में होता है
    और मन
    चेहरे से विलग नहीं होता ...


    सच है

    उत्तर देंहटाएं
  21. एक यथार्थ,
    मन की बोली
    साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  22. और मन
    चेहरे से विलग नहीं होता ...
    ........
    मन से अलग होना रूह से अलग होना

    कितनी अच्छी बात कही है..पर मन तक सबकी पहुँच कहाँ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. एक बार फिर गहराई से निकली मन को गहरे तक छूती रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  24. चेहरा मन का दर्पण होता है ..बेहद सुन्दर भाव पूर्ण प्रस्तुति....सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. सच है रिश्ते मन के हो होते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत अच्छी बात कही है....
    आभार
    विजय पर्व "विजयादशमी" पर आप सभी को ढेर सारी शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत अच्छी बात कही है....
    आभार
    विजय पर्व "विजयादशमी" पर आप सभी को ढेर सारी शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  28. मन से अलग होना रूह से अलग होना
    और जब शरीर खाली होता है
    तो उस भटकती रूह को तुमने भी देखा और सुना है
    फिर कैसे सोच लिया
    तुम्हारी रूह मुझसे नहीं मिलेगी
    कुछ नहीं कहेगी


    भाव व अर्थ से परिपूर्ण !!

    उत्तर देंहटाएं
  29. खनकती हँसी
    बेजान गूंजती हँसी का फर्क
    मन को पता होता है -
    मन का अंतर्मन विस्तृत होता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत ही सुन्दर और प्रभावशाली रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  31. तुमने जो देखी होती ..... जो सुनी होती
    मेरे मन की आवाज़
    तो ये रूहें कभी न भटकतीं
    तुम और मैं कभी यूँ ना जी रहे होते
    खाली भीगे-से शरीर को लिए हुए
    अब इन होठों पर कैसी भी हँसीं खेले
    वो बेज़ान तो होनी ही है ..... सिली-सिली सी

    उत्तर देंहटाएं
  32. खनकती हँसी
    बेजान गूंजती हँसी का फर्क
    मन को पता होता है -
    haan sach...man ko pata hota hai...bilkul pata hota hai...

    उत्तर देंहटाएं
  33. bahut hi sundar
    sach apke blog par aakar man
    prasanna ho jata hai
    bahut hi accha likhti hai aap..

    उत्तर देंहटाएं
  34. सच... चेहरे से झलक जाते हैं मन के भाव!

    उत्तर देंहटाएं