17 अक्तूबर, 2011

वो जिंदादिल है !



वो जिंदादिल है
जिंदादिली से जीता है
जिंदादिली की ज़िन्दगी देता है ...
एक हँसी की सौगात में
प्राणप्रतिष्ठा करते हुए
वह कुछ भी बोलता जाता है
मन के बेसुरे सुरों को सुर देने के लिए
शब्दों के अनगिनत वाद्य यन्त्र इकट्ठे करता है
और फिर
दूसरों के लिए उगाहे शब्दों में
बुरी तरह फंस जाता है ....
खाली समय से खेलते हुए
वह खुद से ही अजनबी होता है !
कभी इस शहर
कभी उस शहर
वह ढूंढता है कुछ लम्हें
जो उसका हाल बयां कर सके
कभी इस सड़क
कभी उस सड़क
गैरों में ठहाके लगाता
वह खुद को ढूंढता है !
कितनी अजीब बात है न
रिश्तों को गहराई से जीता हुआ
प्रेम की चाक पर मन के प्याले गढ़ता हुआ
वह बेदिली से प्याले तोड़ता है
चीखता है निःशब्द ....
सुबह होते फिर इकट्ठी करता है
ओस से नम मन की मिट्टी
प्रेम की चाक पर प्याले गढ़ता है
और सहज हो उठता है
फिर से जीने के लिए
जिंदादिली की ज़िन्दगी देने के लिए
मन के बेसुरे सुरों को सुर देने के लिए !!!

37 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत तकलीफदेह होता है सचमुच
    जिंदादिली से जीना
    कितना कुछ छुपाता है सबसे
    खुद से लड़ता है अकेले.
    किसी कृष्ण को भी नही आने देता अपने पास
    भीतर झाँक न ले,
    जान न ले कहीं भीतर के घमासान को
    अकेला लड़ता है अपना युद्ध
    वो ही सारथि
    वो ही अर्जुन
    थक जाता है अकेले लड़ते लड़ते
    पर.... यही उसकी ताकत है मित्र
    जो भीतर से भर देती है उसे अक्षय ऊर्जा से
    शुष्क आँखे उसमे भरती रहती है जीवन की नमी
    समंदर सा जीता है
    ऊपर चंचल लहरें
    भीतर गहन गंभीरता
    पर....यही तो है उसकी असली ख़ूबसूरती
    एकदम समंदर -सी
    भले लगते हैं ये समन्दर से लोग
    इसी लिए बहुत प्यार करती हूँ अपने आप से मैं
    बाबु! लिखती क्या हो पत्थर को कवि बना देती हो कभी कभी हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुबह होते फिर इकट्ठी करता है
    ओस से नम मन की मिट्टी
    प्रेम की चाक पर प्याले गढ़ता है
    और सहज हो उठता है
    फिर से जीने के लिए
    जिंदादिली की ज़िन्दगी देने के लिए
    नये दिन का स्‍वागत करने के लिए ...ऐसा ही करना होता है न ...बहुत ही अच्‍छा लिखा है ..।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कितनी अजीब बात है न
    रिश्तों को गहराई से जीता हुआ
    प्रेम की चाक पर मन के प्याले गढ़ता हुआ
    वह बेदिली से प्याले तोड़ता है
    चीखता है निःशब्द ....
    सुबह होते फिर इकट्ठी करता है
    ओस से नम मन की मिट्टी
    प्रेम की चाक पर प्याले गढ़ता है
    और सहज हो उठता है
    फिर से जीने के लिए
    जिंदादिली की ज़िन्दगी देने के लिए
    मन के बेसुरे सुरों को सुर देने के लिए !!!

    जिंदादिल अकेले होकर भी दूसरों का एकांत भरते हैं ...
    रो -रो कर दुखड़ा सुनाने वाले क्या जाने कि मुस्कुराती आँखों में भी आंसुओं के सैलाब होते हैं!
    अपना युद्ध खुद लड़ते हैं , बस बखान करने से ही रह जाते हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दी ,
    जिंदादिली हो शायद तभी ज़िन्दगी जी जा सकती है .... सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बधाई!
    सच! बस...इसी को जिंदादिली कहते है !!!
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  6. और सहज हो उठता है
    फिर से जीने के लिए
    जिंदादिली की ज़िन्दगी देने के लिए
    नये दिन का स्‍वागत करने के लिए ...
    इसी का नाम ज़िंदगी है... गहन भाव

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रेम की चाक पर मन के प्याले गढ़ता हुआ
    वह बेदिली से प्याले तोड़ता है
    चीखता है निःशब्द ....
    सुबह होते फिर इकट्ठी करता है
    ओस से नम मन की मिट्टी
    ________________
    और फिर बनता है प्याले
    सहेजता है रिश्तों की
    गंध को
    और नि:शब्द चीख भी
    दबा लेता है अपने
    कंठ में
    खुद पर ही
    लगाता है ठहाका
    लोग समझते हैं कि
    कितना जिंदादिल है
    यह इंसान ....

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  8. कभी इस सड़क
    कभी उस सड़क
    गैरों में ठहाके लगाता
    वह खुद को ढूंढता है !
    khoob pasand aayee......

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिंदादिली की ज़िन्दगी देने के लिए
    मन के बेसुरे सुरों को सुर देने के लिए !!!
    ...........यही तो असली जिंदादिली माँ

    उत्तर देंहटाएं
  10. यही है ज़िंदादिली……………रोज खुद को मिटाकर फिर जिला देना हर किसी को कहाँ आता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. जिंदादिली की ज़िन्दगी देने के लिए
    मन के बेसुरे सुरों को सुर देने के लिए

    आपने एकदम सही कहा दीदी ... ये दुनिया ऐसी ही है !

    उत्तर देंहटाएं
  12. जिंदादिल एहसासों को खूब पिरोया है!

    उत्तर देंहटाएं
  13. जीना आवश्यक है, जिन्दादिली से जीना कर्त्तव्य !
    हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  14. गैरों में ठहाके लगाता
    वह खुद को ढूंढता है !
    कितनी अजीब बात है न
    रिश्तों को गहराई से जीता हुआ
    प्रेम की चाक पर मन के प्याले गढ़ता हुआ
    वह बेदिली से प्याले तोड़ता है
    चीखता है निःशब्द ....

    वाह...अद्भुत रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  15. जिंदादिल ऐसे ही होते हैं।..बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह ! जिन्दादिली हो तो ऐसी..

    उत्तर देंहटाएं
  17. कितनी अजीब बात है न
    रिश्तों को गहराई से जीता हुआ
    प्रेम की चाक पर मन के प्याले गढ़ता हुआ
    वह बेदिली से प्याले तोड़ता है
    चीखता है निःशब्द ....
    ....और फिर....
    सुबह होते फिर....
    .........
    और सहज हो उठता है
    ....
    दीदी आसान नहीं है ऐसे जीना बड़ा सीखना पड़ता है ... और मैं सीख रहा हूँ
    कहानी पहचानी सी लगी
    सादर नमन
    भरत

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुबह होते फिर इकट्ठी करता है
    ओस से नम मन की मिट्टी
    प्रेम की चाक पर प्याले गढ़ता है
    और सहज हो उठता है
    फिर से जीने के लिए....

    वाह! दी.... सुगढ़ चिंतन...
    सादर बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    शहर की भाग दौड़ में जिंदादिल इन्सान अब कम ही मिलते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच की जी रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  21. जिन्दादिली और हौसले की आत्मकथा ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. jindadili se jina hi to jivan hai varna murde kya khak jite hai !
    bahut sunder rachna ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुबह होते फिर इकट्ठी करता है
    ओस से नम मन की मिट्टी
    प्रेम की चाक पर प्याले गढ़ता है

    Behad khubsoorat lines hain

    उत्तर देंहटाएं
  24. कल 19/10/2011 को आपकी कोई एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  25. कितनी अजीब बात है न
    रिश्तों को गहराई से जीता हुआ
    प्रेम की चाक पर मन के प्याले गढ़ता हुआ
    वह बेदिली से प्याले तोड़ता है
    चीखता है निःशब्द ....
    ..antarman ko jakjhorti sundar rachna...

    उत्तर देंहटाएं
  26. जीने के लिए जिंदादिली दिखानी पढ़ती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत व्यस्त था ! बहुत मिस किया ब्लोगिंग को ! बहुत जल्द सक्रिय हो जाऊंगा !

    सुबह होते फिर इकट्ठी करता है
    ओस से नम मन की मिट्टी
    प्रेम की चाक पर प्याले गढ़ता है
    और सहज हो उठता है
    फिर से जीने के लिए

    जिंदादिल अभिव्यक्ति.. आभार

    उत्तर देंहटाएं
  28. जिंदादिली से जिंदगी जीना और देना...बहुत कठिन है पर जो कोई कर ले फिर तो...बहुत भावपूर्ण रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...