31 अक्तूबर, 2011

देखा अपना हश्र !!!



मकड़ी का जाल
हल्का हाथ लग जाए
तो अजीब सी गिजबिजाहट होती है
हटाने में छोटा सा जाला
इधर से उधर सटता है
शक्ल बन जाती है
.....
अब जरा सोचो
नहीं नहीं सोच के देखो
जाला
जैसा खंडहरों में होता है
उससे तुम टकरा जाओ
पूरे शरीर में वह चिपक जाए
चेहरा , हाथ .....
ओह !
........
कई बातें , कई रिश्ते
जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
छुड़ाते छुड़ाते
खंडहर से गुजरने की गलती का आभास होता है
शक्ल देखने लायक होती है !
अचानक लगता है ....
हम बुद्धिमान नहीं
रिश्तों की भोथरी दुहाई देते
मकड़ी का भोजन हैं
बस लजीज भोजन
जिसे मौका मिलते मकड़ी चट कर जाए
और कहे
देखा अपना हश्र !!!

46 टिप्‍पणियां:

  1. उफ़ कहाँ पहुँच गई आप ...अँधेरे रिश्तों की गुहा में ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कई बातें , कई रिश्ते
    जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
    छुड़ाते छुड़ाते
    खंडहर से गुजरने की गलती का आभास होता है
    गलती का अहसास ...हमें मन ही मन कचोटता रहता है ..।

    उत्तर देंहटाएं
  3. sach kaha kuch rishte makdi ke jaal ki tarah hi hote hain jinse nikalte nahi banta.

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम बुद्धिमान नहीं
    रिश्तों की भोथरी दुहाई देते
    मकड़ी का भोजन हैं
    बस लजीज भोजन
    जिसे मौका मिलते मकड़ी चट कर जाए
    और कहे
    देखा अपना हश्र !!!

    लाजवाब पंक्तियाँ हैं।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. कई बातें , कई रिश्ते
    जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
    छुड़ाते छुड़ाते
    खंडहर से गुजरने की गलती का आभास होता है
    शक्ल देखने लायक होती है !

    bhut sunder.

    उत्तर देंहटाएं
  6. wah...adbhut...behtareen

    bahot sundar prastuti...

    www.poeticprakash.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 01/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. कई बातें , कई रिश्ते
    जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
    छुड़ाते छुड़ाते
    खंडहर से गुजरने की गलती का आभास होता है
    शक्ल देखने लायक होती है !

    आपकी रचना पढते पढते मैं तो न जाने कितने मकड़ी के जालों में उलझ गयी ..सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. ओह... किसी हकिकत और कितनी भयावनी सच्चाई... गज़ब की प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  10. लोग इस मकड़ी के जाले को माया कहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मकड़ी के जाल की तरह बुने रिश्तों का सच....!
    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  12. यह मकड़ी का जाल ..
    जानते समझते हुए भी फँसते हैं लोग

    उत्तर देंहटाएं
  13. अचानक लगता है ....
    हम बुद्धिमान नहीं
    रिश्तों की भोथरी दुहाई देते
    मकड़ी का भोजन हैं
    बस लजीज भोजन
    जिसे मौका मिलते मकड़ी चट कर जाए
    और कहे
    देखा अपना हश्र !!!
    बहुत सुन्दर और गहरी पंक्तियाँ...पता नहीं कैसे लिख लेती है आप
    ........अतिसुंदर रचना ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. कई बातें , कई रिश्ते
    जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
    छुड़ाते छुड़ाते
    खंडहर से गुजरने की गलती का आभास होता है
    bahut khoob....aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  15. ये मकड़ी के जाल नही बस माया जाल है...सुन्दर अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  16. "यह जिन्दगी है या फिर किसी शिकारी का जाल
    जालिम छूटने की कोशिश में उलझता चला गया"

    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  17. कई बातें , कई रिश्ते
    जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
    छुड़ाते छुड़ाते
    खंडहर से गुजरने की गलती का आभास होता है

    Behatareen Prastuti.. Aabhar..

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  19. मकड़ी तो है ही ऐसी कलाकार ।
    बच कर चलना ही सही है ऐसे मकड़जाल रिश्तों से ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. मकड़ी का जाला...और रिश्ते...क्या तुलना है...चिपक जाएँ तो चाट डालते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  21. मकड़ी के जाल में एक बार फंस जाय तो निकलना मुश्किल होता है,शायद इसी को मकडजाल कहते है...सुंदर पोस्ट ....

    उत्तर देंहटाएं
  22. waah Badi Maa... aajkal to ekdam...
    khair... par ky aaisa nahi ho skta ki ham waqt-waqt pe us jagah ki safai karte rahen, aur use na khandhar banne de na waha jaale lagne de...
    na khandhar, na jale... bas har waqt ek sarsarati si hawa... pyaari-si mahak liye hue...

    उत्तर देंहटाएं
  23. रिश्तों का मकड़जाल ऐसा ही होता है, कभी-कभी तो जितना सुलझाओ..उतना ही उलझे..

    सुन्दर रचना.

    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है..
    www.belovedlife-santosh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. सचमुच आप मान्यवर पन्त जी से विरासत में मिली शब्दों एवं भावों का निधि पाई हैं ! रिश्तो के ताने बाने में तो हर कोई फसता है ठीक इसी मकड़ी के जाल की तरह जो जितना सुलझाने की कोशिश करता है वो और ही उलझता जाता है !

    उत्तर देंहटाएं
  25. कई बातें , कई रिश्ते
    जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
    anoothe hain aapke bhaw.....bahut pasand aayee.

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुन्दर रश्मिप्रभा जी ...कई बातें , कई रिश्ते
    जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
    छुड़ाते छुड़ाते
    खंडहर से गुजरने की गलती का आभास होता है .
    रिश्तों,बातों की जाले से तुलना बहुत अच्छी लगी

    उत्तर देंहटाएं
  27. अचानक लगता है ....
    हम बुद्धिमान नहीं
    रिश्तों की भोथरी दुहाई देते
    मकड़ी का भोजन हैं...
    रिश्तों का मकडजाल ऐसा ही है ...जिनमे उलझे हम गोल गोल घूमते जाते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  28. rupak alankar ka sahi prayog kiya hai apne... uttam prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  29. कई बातें , कई रिश्ते
    जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
    छुड़ाते छुड़ाते
    खंडहर से गुजरने की गलती का आभास होता है

    हाँ होते हैं कुछ ऐसे रिश्ते मकड़ी के जालों की तरह...

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत कुछ कह दिया……………इस मकडजाल मे फ़ंस कर मकडी ही कहाँ बचती है एक दिन इसी मे सिमट जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  31. तभी तो कहा है किसी ने, बाबूजी धीरे चलना प्यार में जरा सम्भलना...

    उत्तर देंहटाएं
  32. अचानक लगता है ....
    हम बुद्धिमान नहीं
    रिश्तों की भोथरी दुहाई देते
    मकड़ी का भोजन हैं
    बस लजीज भोजन
    जिसे मौका मिलते मकड़ी चट कर जाए
    और कहे
    देखा अपना हश्र !!!

    दीदी रिश्ते होते ही क्यों हैं ..क्या जरूरत है इनकी
    दीदी मेरे पास आजकल प्रश्न कुछ ज्यादा ही हो गए हैं ...क्या करूँ मैं अपना !

    उत्तर देंहटाएं
  33. रिश्ते और जले .... वाह क्या नया बिम्ब बुना है ... रिश्तों का जाल निकलने नहीं देता ...

    उत्तर देंहटाएं
  34. कई बातें , कई रिश्ते
    जाले की तरह जाने अनजाने चिपक जाते हैं
    छुड़ाते छुड़ाते
    खंडहर से गुजरने की गलती का आभास होता है
    और अंत में सिवाय पछतावे के और कुछ हाथ नहीं रहता रिश्तों के मकड़ जाल से बुनी मन के अंदर कई प्रश्न उठती पोस्ट ....

    उत्तर देंहटाएं
  35. आपकी भावनाओं को व्यक्त करने की प्रतिभा कविता पढने से ही पता चलती है,सबसे बड़ी बात है की आप उसका सदुपयोग करती हैं और ये भी एक सच्चे कवि या कवियत्री की पहचान है,आप ना भी बताएं तो भी आप पन्त साहब के यहाँ की लगती हैं,आप ब्लॉग पे आयीं और लिंक दियें उसका ह्रदय से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  36. अति सुन्दर पंक्तियाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  37. अति सुन्दर पंक्तियाँ !

    उत्तर देंहटाएं

मृत्यु को जीने का प्रयास

मौत से जूझकर जो बच गया ... उसके खौफ, इत्मीनान, फिर खौफ को मैं महसूस करती हूँ ! कह सकती हूँ कि यह एहसास मैंने भोगा है एक हद तक ...