01 मई, 2011

है ना ?



मुझे लगता था मेरी खाई लम्बी है
पर तुम्हारी खाई
अंधे कुँए सी है .....
मुझे अपनी खाई के
उबड़खाबड़ रास्तों का तत्वज्ञान है
तो गिरकर निकलना सहज होता है ...
!!!!!!!!
सहज कहें या असहज
बार बार चोट लगी जगह की चोट
आंसू के एक उबाल से ठीक हो जाती है
आदत कहूँ या
जीने की एक सतत प्रक्रिया ...
जो भी हो !

खाई के अंधेरों का खौफ ...
निकलने की जद्दोजहद
ऐसे में
किसी और की खाई रास नहीं आती
बमुश्किल स्नेहिल मिट्टी से
मैं उसे भरने का अथक प्रयास करती हूँ
किसी और की सूनी सूखी आँखें
मुझे रास नहीं आती
झूठी हँसी आईने में देखते देखते
इस कदर उब चुकी हूँ
कि सामने उससे रूबरू होना
गवारा नहीं होता ...

पर दोस्ती के कुछ उसूल होते हैं
'बुरे वक़्त में ही दोस्त की अपनों की
पहचान होती है'
मैं अपनी पहचान कैसे खो दूँ
मैंने बुरे वक़्त को लम्हा लम्हा झेला है
उसकी टीस से वाकिफ हूँ
तो निःसंदेह मैं खाई में चलती
तुम्हारी साँसों से भी वाकिफ हूँ
और यकीनन तुम्हारे साथ हूँ !

साथ साथ चलते हुए
जब एक दूसरे की चोट पर
हम मरहम लगाते हैं (जो एक्सपाइरी नहीं)
कि 'कीचड़ में ही कमल की पहचान है'
तो उखड़ी उखड़ी साँसों के बीच भी
खिलखिलाने का सबब मिल ही जाता है
खाई में भी कुछ समतल सा मिल ही जाता है
..... और आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है
है ना ?

40 टिप्‍पणियां:

  1. झूठी हँसी आईने में देखते देखते
    इस कदर उब चुकी हूँ
    कि सामने उससे रूबरू होना
    गवारा नहीं होता ...

    मैं अपनी पहचान कैसे खो दूँ
    मैंने बुरे वक़्त को लम्हा लम्हा झेला है

    खाई में भी कुछ समतल सा मिल ही जाता है
    ..... और आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है
    है ना ?

    दुःख में ही पहचान होती है दोस्ती की ...बहुत अच्छी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब सच्चा दोस्त हो साथ तो टीस जाती रहती है ,पता ही नहीं चलता कि कब दर्द पी लिया । बहुत ही भावपूर्ण रचना..शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bhthtrin mlhm .bhtrin khaai lekin amirir gribi or dhrmon ke bich pehi khaai bhi hme paatnaa hai samaprdaayiktaa or bhrashtaachaar ke zkhmon par bhi mlham lgaana hai . akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपनी खाई सबको बड़ी लगती है...जिंदगी में समतल जमीन की कल्पना बेमानी लगती है...उतना तू उपकार समझ कोई जितना साथ निभा दे...जनम मरण का मेल है सपना ये सपना बिसरा दे...कोई न संग मरे...मन रे तू कहे न धीर धरे...

    उत्तर देंहटाएं
  5. gahan soch samjh kee upaj hai ye abhivykti

    बमुश्किल स्नेहिल मिट्टी से
    मैं उसे भरने का अथक प्रयास करती हूँ

    ati sunder prayas har khaee se ubhar aane ka.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. आँसुओं का अपना अभिमान होता है, बहुत सुन्दर भाव।

    उत्तर देंहटाएं
  7. खाई के अंधेरों का खौफ ...
    निकलने की जद्दोजहद
    रश्मि जी, आपकी सोंच को नमन , बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति,

    उत्तर देंहटाएं
  8. "साथ साथ चलते हुए
    जब एक दूसरे की चोट पर
    हम मरहम लगाते हैं (जो एक्सपाइरी नहीं)
    कि 'कीचड़ में ही कमल की पहचान है'
    तो उखड़ी उखड़ी साँसों के बीच भी
    खिलखिलाने का सबब मिल ही जाता है "

    एक सच कहा आपने इस कविता में.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह रश्मि जी ! दोस्ती का यह स्वरुप जो बुरे वक़्त की खाई में भी समतल ला देता है.. आपकी रचना बहुत उम्दा है... सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक भावपूर्ण रचना, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. जब एक जैसे दुःख से गुजरने वाली भावनाएं साथ मिल कर चलती हैं तो जीवन के उबड़ खाबड़ रास्ते भी समतल हो जाते हैं ...दुःख साथ बाँट जाता है और हंसी में तब्दील हो जाता है, इससे आंसुओं का स्वाभिमान भी बचा रहता है ...
    गहन अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  12. साथ साथ चलते हुए
    जब एक दूसरे की चोट पर
    हम मरहम लगाते हैं (जो एक्सपाइरी नहीं)
    कि 'कीचड़ में ही कमल की पहचान है'
    तो उखड़ी उखड़ी साँसों के बीच भी
    खिलखिलाने का सबब मिल ही जाता है
    खाई में भी कुछ समतल सा मिल ही जाता है
    ..... और आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है
    है ना ?

    आंसुओं का स्‍वाभिमान बढ़ाने के लिये भावनाओं का योगदान भी समाहित है .... शब्‍द - शब्‍द एक सच कहता हुआ ...जीवंत ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. @ आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है
    *** बहुत सुंदर प्रयोग।
    कविता अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीया
    पूरी कविता ही बड़ी भावुक है......अच्छी है...
    मगर इस अंश की तारीफ जितनी की जाये उतनी कम है......

    किसी और की सूनी सूखी आँखें
    मुझे रास नहीं आती
    झूठी हँसी आईने में देखते देखते
    इस कदर उब चुकी हूँ
    कि सामने उससे रूबरू होना
    गवारा नहीं होता ...
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  15. झूठी हँसी आईने में देखते देखते
    इस कदर उब चुकी हूँ
    कि सामने उससे रूबरू होना
    गवारा नहीं होता ...bahut sunder...dard ki abhivaykti bhi sunder saral shbdon me.

    उत्तर देंहटाएं
  16. उम्दा रचना है............
    तो उखड़ी उखड़ी साँसों के बीच भी
    खिलखिलाने का सबब मिल ही जाता है
    खाई में भी कुछ समतल सा मिल ही जाता है ...........दोस्त साथ हों तो सच, कुछ यूँ ही हो जाता है कि खराब वक्त में भी मुस्कुराने का सबब मिल जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  17. सहज कहें या असहज
    बार बार चोट लगी जगह की चोट
    आंसू के एक उबाल से ठीक हो जाती है
    आदत कहूँ या
    जीने की एक सतत प्रक्रिया ...
    जो भी हो !

    बहुत भावमयी सुन्दर प्रस्तुति...बहुत मर्मस्पर्शी

    उत्तर देंहटाएं
  18. पर दोस्ती के कुछ उसूल होते है
    बिलकुल सही कहा
    सुंदर रचना .....

    उत्तर देंहटाएं
  19. .....आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है
    है न ?
    ****************************
    गहन भावो की सुन्दर अभिव्यक्ति

    आदरणीया रश्मि जी ,
    कृपया मेरे ब्लाग पर दुबारा आने का कष्ट करें | रचना दो बार पोस्ट हो गयी थी ,जिसमे एक अधूरी थी |
    अब सुधार कर दिया है |

    उत्तर देंहटाएं
  20. खाई में भी कुछ समतल सा मिल ही जाता है
    ..... और आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है
    है ना ?

    शायद यही दोस्ती होती है……………बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  21. di
    bahut hi gari baat ko bahut hi gahanta ke saath abhivykt kiya hai.

    साथ साथ चलते हुए
    जब एक दूसरे की चोट पर
    हम मरहम लगाते हैं (जो एक्सपाइरी नहीं)
    कि 'कीचड़ में ही कमल की पहचान है'
    तो उखड़ी उखड़ी साँसों के बीच भी
    खिलखिलाने का सबब मिल ही जाता है
    खाई में भी कुछ समतल सा मिल ही जाता है
    ..... और आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है
    है ना ?
    bilkul saty sambhavtah dosti ki sahi pahchaan bhi yahi hoti hai.
    bahut hi behatreen prastuti
    bahut abhut badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  22. sabdo ki itne khubsurti se piroti hai aap ki sabd nhi hote hai mere pas kuch kahne ke liye...

    उत्तर देंहटाएं
  23. दिल को छू जाने वाली अभिव्यक्ति!
    --
    पिछले कई दिनों से कहीं कमेंट भी नहीं कर पाया क्योंकि 3 दिन तो दिल्ली ही खा गई हमारे ब्लॉगिंग के!

    उत्तर देंहटाएं
  24. Rashmi ji...
    किसी और की सूनी सूखी आँखें
    मुझे रास नहीं आती
    झूठी हँसी आईने में देखते देखते
    इस कदर उब चुकी हूँ
    कि सामने उससे रूबरू होना
    गवारा नहीं होता ...

    खाई में भी कुछ समतल सा मिल ही जाता है
    ... और आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है,

    bahut hi behatreen prastuti..jitni tareef ki jaaye kam hai.choo gayi dil ko aapki ye abhivyakti.
    Badhai sweekar karen.
    http://neelamkashaas.blogspot.com/2011/05/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  25. दीदी....आपकी खायी .....पता नही क्यों मुझे भी अपनी खायी से ज्यादा सुगम लग रही है...हो सकता है ये विश्वाश आपकी खायी तक पहुँच जाए...आपके मार्ग के एक दो कंकड़ दूर हो जाएँ
    ..
    मैं अपनी पहचान कैसे खो दूँ
    मैंने बुरे वक़्त को लम्हा लम्हा झेला है
    उसकी टीस से वाकिफ हूँ
    तो निःसंदेह मैं खाई में चलती
    तुम्हारी साँसों से भी वाकिफ हूँ
    और यकीनन तुम्हारे साथ हूँ !
    मगर ....दीदी ये भले ही केवल सम्भावना मात्र हो मगर आप हो तो किसी के साथ कोई अहसास है तो आपके साथ
    मुझे तो प्रकाशित दिखाई देती है आपकी खायी....
    शायद अब मैं उसे आपकी राह कह सकता हूँ !
    (दीदी जरूरी नही की मेरे कहने का कोई मतलब हो ही....मुझे कभी कभी...अपने आप से बातें करना भी अच्छा लगता है )

    उत्तर देंहटाएं
  26. ........ और आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है
    है ना ?
    गहन अभिव्यक्ति से भरी मर्मस्पर्शी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  27. मैं अपनी पहचान कैसे खो दूँ
    मैंने बुरे वक़्त को लम्हा लम्हा झेला है
    बहुत खूब ... सच है की अपनी पहचान कभी नही खोनी चाहिए .... वैसे दोस्ती की समझ भी तो तभी होती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. खाई में भी कुछ समतल सा मिल ही जाता है
    ..... और आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है

    शायद आप सही कह रही हैं दीदी ... कविता मन को छुं गई

    उत्तर देंहटाएं
  29. पता नहीं लोग क्यूँ दोस्ती को बुरा कहते है
    विश्वास कि अनदेखी डोर से बंधे रिश्ते ही
    जीवन में सजीव बन जाते है ...और अपने ही खुद को
    जीवन से भटकाते है ...................((अंजु...अनु..))
    .बहुत अच्छा लिखा है आपने दीदी
    हर दिल के आवाज़ बन जाती है आप की लेखनी

    उत्तर देंहटाएं
  30. मैं अपनी पहचान कैसे खो दूँ
    मैंने बुरे वक़्त को लम्हा लम्हा झेला है
    उसकी टीस से वाकिफ हूँ
    तो निःसंदेह मैं खाई में चलती
    तुम्हारी साँसों से भी वाकिफ हूँ
    और यकीनन तुम्हारे साथ हूँ !....

    आंसुओं का स्वाभिमान. gahri baat.

    उत्तर देंहटाएं
  31. मनोवस्था का भावपूर्ण चित्रण...

    सुन्दर प्रभावशाली अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  33. दिल को छू जाने वाली अभिव्यक्ति बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  34. 'बुरे वक़्त में ही दोस्त की अपनों की
    पहचान होती है'
    वाह ! सजीव चित्रण !

    उत्तर देंहटाएं
  35. तो उखड़ी उखड़ी साँसों के बीच भी
    खिलखिलाने का सबब मिल ही जाता है
    खाई में भी कुछ समतल सा मिल ही जाता है
    ..... और आंसुओं का स्वाभिमान बढ़ जाता है
    है ना ?

    behad acchi rachna Rashmi Prabha ji.. ye panktiya khas pasand aayi...

    उत्तर देंहटाएं
  36. सहज कहें या असहज
    बार बार चोट लगी जगह की चोट
    आंसू के एक उबाल से ठीक हो जाती है
    आदत कहूँ या
    जीने की एक सतत प्रक्रिया ...
    जो भी हो !



    कभी कभी हम अपने दर्द के एहसास में सामने वाले को पहचान नहीं पाते
    और यही तो रिश्तों की असली अग्नि परीक्षा होती है

    उत्तर देंहटाएं

शीशम में शीशम सी यादें

छोड़ कैसे दूँ उस छोटे से कमरे में जाना जहाँ पुरानी शीशम की आलमारी रखी है धूल भले ही जम जाए जंग नहीं लगती उसमें  ... ! न उसमे...