24 जुलाई, 2011

जो असर कर जाए



1)
इतिहास के पन्नों से
हमारी कब्र तक आकर
किन तथ्यों की छानबीन कर रहे हो
कानून तो आज के फैसले में अंधा है
तो किस अदालत में यशोधरा , द्रौपदी,
कैकेयी, सीता .... को ले जा रहे हो ?
धरती में गुम सीता को
भरी सभा में चीरहरण से संतप्त द्रौपदी को
राहुल को भी पिता के हवाले करनेवाली यशोधरा को
तिल तिल रिसती कैकेयी को क्यूँ कुरेद रहे हो ?
राधा का सत्य , कृष्ण का दुःख
मीरा की दीवानगी
किसी अदालत के मुहताज नहीं !
वर्तमान में तो इनकी छवि ही गुम है
.... खोज करनी है तो करो खोज आज में
कोई ऐतिहासिक छवि कहीं है !

.....2)
कितना फर्क है इन दो पंक्तियों में -
'एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों'
और
'सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है '
इसी फर्क को समझना है
सरफरोशी की तमन्ना अपने दिल से होती है
पत्थर भी खुद उछालना होता है तबीयत से
परिवर्तन तभी संभव है

3)
सत्य आसान नहीं
सत्य प्रत्यक्ष होकर भी
खुद को तलाशता है
पूरी भीड़ सत्य से वाकिफ होती है
पर अनजान बन झूठा बना देती है
सत्य अपनी आग में तपता है
निखरता है
पर फिर भी उस सत्य को
कोई सत्य ही देख पाता है !

4)

जब जब मैंने किसी बंजर हिस्से को छुआ
किसी न किसी शक्ल में उसके पुश्तैनी हकदार
सामने आ गए ...

5)
मैं मेज पर रखा ख्वाहिशों का पंख हूँ
जब चाहो - उड़ सकते हो !
...............................................

43 टिप्‍पणियां:

  1. मैं मेज पर रखा ख्वाहिशों का पंख हूँ
    जब चाहो - उड़ सकते हो !


    बेहद उत्कृष्ट रचना है यह. आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. पांचो रचनाये उत्कृष्ट .. पहली और दुसरी खास हैं.. सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर रचना..स्वयं में कई तथ्यों को समाहीत किये हुये.....लाजवाब।

    उत्तर देंहटाएं
  4. 'सत्य प्रत्यक्ष होकर भी
    खुद को तलाशता है '
    बहुत खूब!
    सभी रचनाएँ अच्छी लगी.

    तीसरी और पांचवी बहुत प्रभावी लगीं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. पर फिर भी उस सत्य को
    कोई सत्य ही देख पाता है !
    gahan bahut khoobsoorat rachnayen..

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut khoob mausi...sabhi rachnaye apne aap mei amulya hain...abhar...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सभी रचानाये बहुत उत्कृष्ट ही है....

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपने दार्शिनिकता से ओत प्रोत सुन्दर प्रस्तुति की है,जो गहन भावों को अभिव्यक्त कर रही है.

    अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी सारी रचनायें गहन अर्थ को संजोये हैं ...

    सत्य वाली रचना ..बहुत पसंद आई ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. पत्थर भी खुद उछालना होता है तबीयत से
    परिवर्तन तभी संभव है !

    Bahut acchhi rachnayein..

    उत्तर देंहटाएं
  11. सभी क्षणिकाएं बहुत अच्छी लगीं । मेरी शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदरणीय रश्मि माँ
    नमस्कार !
    मैं मेज पर रखा ख्वाहिशों का पंख हूँ
    जब चाहो - उड़ सकते हो !
    ........वाह। क्या खुब कहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. वर्तमान में तो इनकी छवि ही गुम है
    .... खोज करनी है तो करो खोज आज में
    कोई ऐतिहासिक छवि कहीं है !
    सच है अदालतों से ऐसी छवि उभर भी नहीं सकती
    शायद अदालतें भी भीड़ का हिस्सा भर हैं या तसवीर जब तक वहाँ से निकलती है तो इतनी पुरानी हो चुकी होती है कि कोई असर नहीं रह जाता

    उत्तर देंहटाएं
  14. गहन अभिव्यक्ति .हर क्षणिका मन को छू गयी

    उत्तर देंहटाएं
  15. rasmi ji aapko apnee purani lay me padhkar behad sukhad anubhuti ho rahi hai, aap sadaiv urjawaan aivam swasth rahe aur sahitya ko samradhta pradaan karti rahe, shubhkamnaye

    उत्तर देंहटाएं
  16. गहन भावों को प्रकट करती...चिंतन हेतु प्रेरित करती रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. सभी क्षणिकाएं उत्कृष्ट हैं दी....
    ....पूरी भीड़ सत्य से वाकिफ होती है
    पर अनजान बन झूठा बना देती है....
    ज्वलंत तथ्य है... जाने सत्य को आज कुंदन होने के लिए कितना जलना/तपना होगा...
    सादर,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  18. सभी रचानाये बहुत उत्कृष्ट.

    उत्तर देंहटाएं
  19. जब जब मैंने किसी बंजर हिस्से को छुआ
    किसी न किसी शक्ल में उसके पुश्तैनी हकदार
    सामने आ गए ...

    अक्षरश: सत्‍य कहा है ...गहन भावों का समावेश सभी रचनाओं के लिये बधाई ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैं मेज पर रखा ख्वाहिशों का पंख हूँ
    जब चाहो - उड़ सकते हो !

    Awesome !

    bahut sundar !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  21. पर फिर भी उस सत्य को
    कोई सत्य ही देख पाता है !
    ekdam sahi likhi hain.....khwahishon ka pankh.....bahut khoobsurat hai.

    उत्तर देंहटाएं
  22. कितना फर्क है इन दो पंक्तियों में -
    'एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों'
    और
    'सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है '
    इसी फर्क को समझना है
    सरफरोशी की तमन्ना अपने दिल से होती है
    पत्थर भी खुद उछालना होता है तबीयत से
    परिवर्तन तभी संभव है

    iss kavita ka jabab nahi di...:)

    उत्तर देंहटाएं
  23. कितना फर्क है इन दो पंक्तियों में -
    'एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों'
    और
    'सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है '
    इसी फर्क को समझना है
    सरफरोशी की तमन्ना अपने दिल से होती है
    पत्थर भी खुद उछालना होता है तबीयत से
    परिवर्तन तभी संभव है

    iss kavita ka jabab nahi di...:)

    उत्तर देंहटाएं
  24. बेहद गहन भाव संजोये है रचना…………हर पल बदलती मगर अपनी सी लगती।

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सुंदर कविताएँ उपहार में दी हैं हमको, क्या बात है? तारीफ करने के लिए शब्द नहीं है सभी तो सीधे दिल में उतारती चली गयी.
    सत्य को परिभाषित करने वाली सबसे अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  26. सारी की सारी बहुत सुंदर कविताएँ, सत्य पर आधारित विशेष भायी!

    उत्तर देंहटाएं
  27. पत्थर भी खुद उछालना होता है तबीयत से
    परिवर्तन तभी संभव है

    सही कहा दीदी
    परिवर्तन के लिए तबियत से कुछ करना होगा
    सभी रचनाएँ बहुत सुन्दर हैं

    उत्तर देंहटाएं
  28. सत्य अपनी आग में तपता है
    निखरता है
    पर फिर भी उस सत्य को
    कोई सत्य ही देख पाता है !
    --------------------------------

    आपकी सारी रचनाएँ इतनी प्रभावशाली है और इतना सारा दर्शन समेटे हुए हैं कि उनकी तारीफ़ करना आसान नहीं है.

    आभार
    फणि राज

    उत्तर देंहटाएं
  29. पर फिर भी उस सत्य को
    कोई सत्य ही देख पाता है !

    अप्रतिम रचनाएं...आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  30. Satya ko satya hi pahchan sakta hai....bilkul sahi kaha hai mam apne::::::::
    jai hind jai bharat

    उत्तर देंहटाएं
  31. खोज करनी है तो करो खोज आज में
    कोई ऐतिहासिक छवि कहीं है !
    bahut sunder rachna

    उत्तर देंहटाएं
  32. १. ये सभी चरित्र इतिहास में नहीं...वर्तमान में भी मिल जायेंगे...नज़र चाहिए...

    २. परिवर्तन के लिए...ज़रूरी है...
    हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में,
    हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए...

    ३. भीड़ का सत्य और अकेले का सत्य...अलग है...

    ४. जैसे आईपीएल और मोदी...

    ५. ख्वाहिशों के पर निकल आये हैं...उड़ने पे आमादा दिखाते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  33. ''जब जब मैंने किसी बंजर हिस्से को छुआ
    किसी न किसी शक्ल में उसके पुश्तैनी हकदार
    सामने आ गए ...'' behad umda, sabhi rachnaayen utkrisht.

    उत्तर देंहटाएं
  34. bahut hi nageenedaari se buni hui bhavya Bhavan ki eentein apne nirmaan ki sakshi bahi hui hai Rashim ji
    Appko jitni badhayi doon vah kam hai. Har prayas ,,lajawaab!
    Devi Nangrani
    dnangrani@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...