13 जुलाई, 2011

क्षणिकाएं



कई बार एक क्षण लम्बी उम्र बन जाते हैं ... दुःख हो या सुख या प्यार या बचपन या .... कोई एक क्षण क्लिक हो जाता है , कुछ इस तरह ...
1-
सिगरेट के धुंए सी ज़िन्दगी
लगता है किसी ने आजमाइश के लिए
एक कश लिया
और उड़ा दिया
गोल गोल बेतरतीब सा ....
======================
2-
पेड़ के नीचे बैठा वह आदमी
शून्य में कुछ देखता है (जाने क्या )
कुछ बोलता है (जाने किससे)
हँसता है जोर से (जाने क्यूँ )
राह चलते लोग कहते हैं -
'पागल है'
कोई नहीं जानना चाहता
उसे दिखता क्या है
वह बोलता क्या है
वह हँसता क्यूँ है ....
यूँ 'पागल' कह देना हल तो नहीं !!!
================================
3-
प्यार करो तो कृष्ण की तरह
मित्रता करो तो कृष्ण की तरह
नफरत करो तो कृष्ण की तरह
किसी को राधा का मान दो
किसी को सुदामा सा साथ
किसी को कंस सी सज़ा
मन को शांत रखो
चेहरे पे मुस्कान
गीता तभी सुना सकोगे ...

42 टिप्‍पणियां:

  1. मन को शांत रखो
    चेहरे पे मुस्कान

    वाह ...बहुत खूब
    इन पंक्तियों ने तो जादू कर दिया ... मुस्‍कान का ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह तीनो क्षणिकाएं अपने आप में पूर्ण ........आभार रश्मि दीदी

    उत्तर देंहटाएं
  3. सभी क्षणिकायें बहुत ही सटीक बहुत सुन्दर.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. तीनो ही क्षणिकाएं बेहतरीन हैं.. बहुत सुन्दर....

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन को शांत रखो
    चेहरे पे मुस्कान
    गीता तभी सुना सकोगे

    बहुत सुंदर ...सार्थक क्षणिकाएं....
    आभार...!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिंदगी सिगरेट का धुंवा ...
    बेहतरीन हैं सभी ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी क्षणिकायें...तीनों एक से बढ़कर एक

    उत्तर देंहटाएं
  8. अद्भुत....पहली वाली खास पसंद आई.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज़िन्दगी धुँए के एक कश सी....बेतरतीब सी... तीनों क्षणिकाएँ बढ़िया....

    उत्तर देंहटाएं
  10. तीनो ही क्षणिकाएं बेहतरीन हैं....आभार...!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. मन को शांत रखो
    चेहरे पे मुस्कान
    गीता तभी सुना सकोगे ...

    bahut hi gahan baat keh di aapne Rashmi ji

    abhaar

    Naaz

    उत्तर देंहटाएं
  12. 1-क्षणिक नश्वर जिन्दगी।
    2-माया ग्रसित बुद्धि।
    3-कथनी से पहले करनी।
    क्षण मात्र में अद्भुत क्षणों से प्रत्यक्ष करती क्षणिकाएँ!! आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक से बढ़कर एक बेहतरीन क्षणिकाएं

    उत्तर देंहटाएं
  14. तीसरी क्षणिका गहनतम प्रभावित कर गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  15. यूँ 'पागल' कह देना हल तो नहीं !!!
    ekdam hi nahin.......

    उत्तर देंहटाएं
  16. मन को शांत रखो
    चेहरे पे मुस्कान

    अदभुत क्षणिकाएँ,सार्थक क्षणिकाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  17. ....गीता तभी सूना सकोगे....
    वाह दी... तीनों ही क्षणिकाएं लाज़वाब हैं....
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  18. सभी क्षणिकाएं बहुत अच्छी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. सभी क्षणिकायें बहुत ही सार्थक और सुन्दर है...

    उत्तर देंहटाएं
  20. सच है कृष्‍ण बनना आसान नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  21. राह चलते लोग कहते हैं -
    'पागल है'
    कोई नहीं जानना चाहता
    उसे दिखता क्या है
    वह बोलता क्या है
    वह हँसता क्यूँ है ....


    वाह !!

    उत्तर देंहटाएं
  22. लगता है किसी ने आजमाइश के लिए
    एक कश लिया
    और उड़ा दिया
    गोल गोल बेतरतीब सा ....

    Ye nayi prastutiyan bahut hi acchhi lagi... Badhai..

    उत्तर देंहटाएं
  23. मन को शांत रखो
    चेहरे पे मुस्कान
    गीता तभी सुना सकोगे ...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  24. किसी को राधा का मान दो
    किसी को सुदामा सा साथ
    किसी को कंस सी सज़ा
    मन को शांत रखो
    चेहरे पे मुस्कान

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  25. राह चलते लोग कहते हैं -
    'पागल है'
    कोई नहीं जानना चाहता
    उसे दिखता क्या है
    वह बोलता क्या है
    वह हँसता क्यूँ है ....
    बहुत ही अच्‍छा लिखती हैं आप ...।

    उत्तर देंहटाएं
  26. धुआं सा जीवन - बेतरबीत ...


    लेकिन ...


    मैं समझी नहीं - नफरत ?? कृष्ण की तरह ????

    उत्तर देंहटाएं
  27. तीनों क्षणिकाएं अच्‍छी लगीं परन्‍तु आखिरी वाली सबसे अच्‍छी है। वास्‍तव में क्षणिकाएं रचना अत्‍यन्‍त कठिन कार्य है, उसी प्रकार जैसे गद्य में लघुकथा लिखना। कम शब्‍दों में बात कहनी होती है और असर डालना होता है सामान्‍य कविता या कहानी सरीखा। आपने सफलतापूर्वक यह कार्य किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  28. किसी को राधा का मान दो
    किसी को सुदामा सा साथ
    किसी को कंस सी सज़ा
    मन को शांत रखो
    चेहरे पे मुस्कान
    गीता तभी सुना सकोगे ...

    तीनों क्षणिकाएं बहुत ही अच्‍छी हैं... कम शब्दों में बहुत बड़ी बात...रश्मि दी बहुत-बहुत आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  29. किसी को राधा का मान दो
    किसी को सुदामा सा साथ
    किसी को कंस सी सज़ा
    मन को शांत रखो
    चेहरे पे मुस्कान
    गीता तभी सुना सकोगे ...

    तीनों क्षणिकाएं बहुत ही अच्‍छी हैं... कम शब्दों में बहुत बड़ी बात...रश्मि दी बहुत-बहुत आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  30. तीनो ही क्षणिकाएं बेहतरीन हैं.. बहुत सुन्दर....
    अच्छी अभिव्यक्ति के लिए बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  31. तीनो ही क्षणिकाएं बहुत सुन्दर हैं,
    बधाई
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  32. क्षणिकाओं का जवाब नहीं...बेहद ख़ूबसूरत...

    उत्तर देंहटाएं
  33. bahut प्रभावशाली रचना, सोचने के लिए विवश करती हुई. शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...