05 फ़रवरी, 2012

सबकुछ सतह से ही दिखता है ...



लोग कहते हैं
जी हाँ लोग -
कुछ मेरे जैसे
कुछ आपके जैसे , कुछ उनसे ...
हाँ तो कहते हैं कि
सतह से देखोगे तो समझोगे नहीं ... "

अजीब बात है
सतह पर ही तो हम पैदा हुए हैं
खेलकर बड़े हुए हैं !

अपने को श्रेष्ठ बना
हमें ' सतही ' कहकर
जाने किसने इसके मायने बदल दिए !

मैं यानि मेरे जैसे लोग
सतह पर ही आए और सतह पर ही हैं
तो ख्याल ये बना - कि
सतह पर होना और वहाँ से देखना ही उपयुक्त है !

आकाश की उंचाई
सूरज का असीम तेज
चाँदनी का उतरना
ओस का टपकना ....
सबकुछ सतह से ही दिखता है .

आप असाधारण हैं
तो आप क्या चाहते हैं ?
आपको असाधारण मानने के लिए
हम सतह से ऊपर हो जाएँ
पाँव को हवा में टिका दें
गिर ही जायेंगे न !

आप ही सोचिये
आकाश , चाँद तक पहुंचकर
उनको जानने में हमने क्या किया
चाँद के सौन्दर्य से अलग
उसे पत्थर साबित कर दिया
कहानियों से मामा खो गए
बच्चे सतह की बात समझने से इन्कार करने लगे !
अब ... सब सर पे हाथ धरे बैठे हैं
और आजिजी से कह रहे हैं
'सतह पर दिमाग रखो '
................................
काश ! सतह से ऊपर उठने की बात ही न हुई होती !

42 टिप्‍पणियां:

  1. vaah ek anokhi addbhut soch jitni khoj karte jaate hain prakartik sundarta par prashn chih lag jata hai.sundar prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ज़मीं पर पांव जमाए रखना भी कोई कम बात नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  3. "सतही" सच मूल सतह को छोड़ कर इस शब्द को कुछ ज्यादा ही सतही बना दिया सबने ........ सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. सतह ही जीवन का आधार हैं .....और उसे जीना एक कला ....और इस कला में हर कोई माहिर नहीं हो सकता ......दीदी आपकी इस बात से कि
    ''चाँद के सौन्दर्य से अलग
    उसे पत्थर साबित कर दिया
    कहानियों से मामा खो गए ''............एक बात और याद आती हैं ...बचपन में हम चाँद को ''मामा'' कहते हैं और जवानी में उसी चाँद को ''महबूबा'' का नाम क्यूँ दे दिया जाता हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप असाधारण हैं
    तो आप क्या चाहते हैं ?
    आपको असाधारण मानने के लिए
    हम सतह से ऊपर हो जाएँ
    पाँव को हवा में टिका दें
    गिर ही जायेंगे न !

    वाह क्या बात है...एकदम से सहमत होने जैसा...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सतह को ही मूल बना दिया आपने, साहित्यिक तर्क श्रंखला

    उत्तर देंहटाएं
  7. आकाश की उंचाई
    सूरज का असीम तेज
    चाँदनी का उतरना
    ओस का टपकना ....
    सबकुछ सतह से ही दिखता है

    बहुत गहरी बात!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सब के लिये सतह पर बने रहना भी मुश्किल है. सतह पर रहना उनके लिये नाकामयाबी से कम नहीं.

    सही सन्देश देती सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सतह पर रहकर ही सतह से ऊपर उठता है आदमी।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 06-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  11. सराहनीय प्रयास, शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  12. कहानियों से मामा खो गए
    बच्चे सतह की बात समझने से इन्कार करने लगे !
    अब ... सब सर पे हाथ धरे बैठे हैं
    और आजिजी से कह रहे हैं
    'सतह पर दिमाग रखो '
    एक माँ अपने बच्चे को बहलाने के लिए चाँद को मामा बुलाती है ,
    जवानी में एक माँ नागवार गुजरती है तो दो मा+मा....... !!
    इसलिए...... !!!!
    जिनके पैर सतह पर टिके होते है ,गिरते नही ,
    जो लोग हमें सतही समझते है ,उनके पैरो तले जमीं नहीं होती.... !!

    उत्तर देंहटाएं
  13. सतह जिसने अपने मूल अर्थ को खो दिया.... हर चीज का वास्तविक अर्थ खोजने की होड़ में हम सच में सतह से बहुत दूर हो गए है हम....... ये रचना यार्थार्थ की स्थिति को बखूबी प्रस्तुत करती है.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. सतह के नीचे भी बहुत कुछ हो सकता है...beauty is skin deep...सतह से सागर की गहराई को नहीं नापा जा सकता...

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर रश्मि दी....
    आपके मन का हल्का सा आक्रोश झलका इस कविता में...
    शायद स्वाभाविक हैं..

    बहुत अच्छी रचना.
    स्नेह और आदर सहित.
    -विद्या

    उत्तर देंहटाएं
  16. सही कहा आपने सतह से ऊपर उठे तो गिर जायेंगे... जरुरी है सतही बनकर रहना... सादर

    उत्तर देंहटाएं
  17. सतह पर पैर रख आसमा को देखे तो सब कुछ ठीक है वरना भावो का कही गुम हो जाना संभव है ,ऐसे में चाँद- मामा से पत्थर तो बन ही जायेंगे .आपकी यह रचना वर्तमान की स्थिति भी कहती है और एक सार्थक सन्देश भी देती है ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. सतह से जुड़ाव के भी अपने मायने हैं...... गहरी बात लिए रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. सतह का विवेचन करती बहुत सुन्दर रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  20. आकाश की उंचाई
    सूरज का असीम तेज
    चाँदनी का उतरना
    ओस का टपकना ....
    सबकुछ सतह से ही दिखता है .
    sateek ...satah par gahari jaden ....
    bahut sunder rachna ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपको पढ़कर राहत सी होती है और आत्मावलोकन भी हो जाता है . हार्दिक आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  22. आकाश की उंचाई
    सूरज का असीम तेज
    चाँदनी का उतरना
    ओस का टपकना ....
    सबकुछ सतह से ही दिखता है .

    लेखन का जादू..
    यर्थाथ का चित्रण। सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  23. हकीकत से रूबरू कराती रचना.सही भी है ..बात तो तब ही हैं..ऊंचे भले ही उठे पर पाँव सतह पर ही टिके रहे .

    उत्तर देंहटाएं
  24. कहानियों से मामा खो गए
    बच्चे सतह की बात समझने से इन्कार करने लगे !
    अब ... सब सर पे हाथ धरे बैठे हैं
    और आजिजी से कह रहे हैं
    'सतह पर दिमाग रखो '

    satah ko chhodana parivartan ka amantran hai....aur parivartan prti kshan shaswt hai.....filhal kalpana ki sanjeedgi se bhari rachana ....bahut hi sundar hai.

    उत्तर देंहटाएं
  25. गहरी सोच लिए सार्थक सन्देश देती सुंदर प्रस्तुति रश्मि जी..

    उत्तर देंहटाएं
  26. दीदी,
    सतह पर होना और वहाँ होने का सुख भोगना, आनंद उठाना और प्रकृति का अवलोकन करना बड़ी अच्छी बात है, बहुत अलौकिक अनुभव है.. लेकिन शायर का कहना है कि
    बाहर से देखते हैं तो समझेंगे आप क्या,
    कितने ग़मों की भीड़ है इस आदमी के साथ!
    और सतह से उठने पर सतह पे पैर टिके होना ज़रूरी है और सतह के अंदर, इंसानी सतह के अंदर जाकर ही इंसानी फितरत का पता चलता है!!
    रश्मि दी, बहुत अच्छी कविता है यह!!

    उत्तर देंहटाएं
  27. अपने को श्रेष्ठ बना
    हमें ' सतही ' कहकर
    जाने किसने इसके मायने बदल दिए !

    waah..in panktiyon men aapne kuch naa kahte hue bhi bahut kuch kah diya...aapki rachnayen srijan ko prerit kartin hain..bahut bahut abhaar

    उत्तर देंहटाएं
  28. .शब्दों का संस्कार समझाती अच्छी रचना .कुछ लोग हवा में उड्तें हैं ,आसमान पे थूकतें हैं ,पाँव इनके सतह से ऊपर ही रहतें हैं ,ज़मीं पे नहीं रहते ये लोग .

    उत्तर देंहटाएं
  29. गहरी सोच को व्यक्त करती अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  30. गहरे भाव लिए बेहतरीन रचना।
    बढिया सीख।

    उत्तर देंहटाएं
  31. बच्चे सतह की बात समझने से इन्कार करने लगे !
    अब ... सब सर पे हाथ धरे बैठे हैं
    और आजिजी से कह रहे हैं
    'सतह पर दिमाग रखो '
    ................................
    काश ! सतह से ऊपर उठने की बात ही न हुई होती !
    bahut hi gahre bhav
    bahut sunder
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  32. काश ! सतह से ऊपर उठने की बात ही न हुई होती !
    अक्षरश: सही कहा है आपने इस अभिव्‍यक्ति में ..सार्थक संदेश लिए उत्‍कृष्‍ट रचना ..आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  33. अजीब बात है
    सतह पर ही तो हम पैदा हुए हैं
    खेलकर बड़े हुए हैं !

    अपने को श्रेष्ठ बना
    हमें ' सतही ' कहकर
    जाने किसने इसके मायने बदल दिए !

    हैं कुछ लोग दीदी जो अध्यात्म और ज्ञान के ठेकेदार हैं ...जिनकी नज़र में सारी दुनिया ही अधम सोंच से ग्रसित है !

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...