About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

13 अप्रैल, 2012

खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !



ज़िन्दगी से जुड़े दर्द को
जानलेवा हम बनाते हैं
कोई मोह नहीं होता
सब दिखावा रहता है ...
खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में
सहनशीलता की मूरत बने हम
आकाश से धरती
फिर धरती से पाताल में चले जाते हैं ...

धरती और आकाश का ज्ञान तो हमें है
पर पाताल से सिर्फ शाब्दिक नाता है
तो निःसंदेह पाताल को स्वीकारना संभव नहीं होता ...

फिर हम जो सुनते हैं
उससे अलग कुछ कहते हैं
और कह दिया तो सिद्ध करने की होड़
.....
संस्कार की दुहाई देते देते
हम हैवान बन जाते हैं !
खुद के सिवा कुछ भी
नज़र नहीं आता
बाकी सबकुछ हलक के बीचोबीच !
....
न निगलते हैं
न बाहर निकाल पाते हैं
उबजुब सी स्थिति
लाइलाज !
बीमार सी ज़िन्दगी
और आस पास कोई नहीं
.....
सब कहीं न कहीं
किसी न किसी तरह से आगे निकल गए हैं
सबको लगता है -
मंजिल मिल गई
और जश्न !
अकेले मनाने को रह गए हैं
बस .....
खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !

44 टिप्‍पणियां:

  1. खुद को दिखाने के लिए
    लोग क्या नहीं करते
    खुद के ज़मीर को
    मिट्टी में मिला देते
    चेहरे पर चेहरा चढाते
    बिना बात मुस्काराते
    मीठी बातों से लुभाते
    हर हथ कंडा अपनाते
    ना करे पसंद
    दिखा दे आइना कोई तो
    दुश्मन उसे समझते
    घमंड से भरे ऐसे लोग
    सबको बेवकूफ समझते हैं
    भूल जाते हैं
    हीरे को परखने वाले
    जोहरी भी दुनिया में होते हैं
    खुद को दिखाने के लिए
    लोग क्या नहीं करते

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. मंजिल मिल गई
    और जश्न !
    अकेले मनाने को रह गए हैं
    बस .....
    खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !
    बिलकुल सच ..पर यह समझता कौन है ..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. बेहतर यही है कि जो हम हैं वैसे ही दिखें, वही कहें, जो कहना चाहते हैं।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. सब कहीं न कहीं
    किसी न किसी तरह से आगे निकल गए हैं
    सबको लगता है -
    मंजिल मिल गई
    और जश्न !
    अकेले मनाने को रह गए हैं
    बस .....
    खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !

    सही कहा , किसी के लिए मुह में गर्म दूध हैं तो किसी के लिए खुशफहमी !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में
    सहनशीलता की मूरत बने हम
    आकाश से धरती
    फिर धरती से पाताल में चले जाते हैं ...
    खरा सच....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !

    सब झमेला यही और इसी के लिए है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. इसे कहते हैं...प्रतिष्ठे प्राण गंवायो...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में
    सहनशीलता की मूरत बने हम
    आकाश से धरती
    फिर धरती से पाताल में चले जाते हैं ...

    बस मैं ही मैं नज़र आता है
    सोचते ही नहीं कि किसी और से भी नाता है ... बहुत अच्छी प्रस्तुति

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. सबसे बेहतर साबित होने की की महत्वाकांक्षा क्या नहीं करवाती लोगों से , मगर आखिर के अकेलपन से अनजान है ये लोंग !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. और जश्न !
    अकेले मनाने को रह गए हैं
    बस .....
    खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !

    कितना सच कहा है …………मगर ये बात हर किसी को समझ नही आती।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. बिलकुल सच कह रही हैं - अपने को बेहतर दिखने के लिए सच ही हम पाताल चले जाते हैं - very true :(

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. सब कहीं न कहीं
    किसी न किसी तरह से आगे निकल गए हैं
    सबको लगता है -
    मंजिल मिल गई
    और जश्न !
    अकेले मनाने को रह गए हैं
    बस .....
    खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !sahi bat...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. और जश्न !
    अकेले मनाने को रह गए हैं
    बस .....
    खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !
    bilkul sahi kaha hai ....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. शायद ये ही सच है .....???
    बड़े-बड़े नंगे हो गए ,इस हरम में
    खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में ....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. खुद को बेहतर दिखाने के चक्कर में हम नीचे ..और नीचे गिरते ही जाते हैं .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. सच कहा खुद को बेहतर दिखने ्की दौड़ में क्खुया-क्दया नहीं करते और अंत में कितने अकेले रह जाते है..ये पता नहीं...सुन्दर सटीक रचना..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. गुलाब जब कमल बनने की कोशिश करने लगता है तो न तो वह कमल बन पाता है और न गुलाब रह जाता है.. गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने इसे स्व-धर्म कहा है..
    खुद को बेहतर दिखाने का अर्थ तो यह हुआ कि भगवान ने हमें जो बनाया हम उससे संतुष्ट नहीं हैं!! सच कहा दीदी, इससे बड़ा दुर्भाग्य क्या होगा!! पतन का मार्ग!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. कटु सत्य कहती रचना .....आवरण हटाना कितना मुश्किल है ....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. दिखने और दिखने के क्रम में बहुत कुछ करते हैं.
    विसंगतियाँ को अपनाने में भी चूकते नहीं

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. और जश्न !
    अकेले मनाने को रह गए हैं
    बस .....
    बहुत अच्छी भावाव्यक्ति , बधाई

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में
    सहनशीलता की मूरत बने हम
    आकाश से धरती
    फिर धरती से पाताल में चले जाते हैं ...

    आज के सच को दर्शाती सुंदर रचना...बेहतरीन पोस्ट .

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. फोटो कहाँ से खोजी...एकदम सटीक है...कविता के साथ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. होड लगी है..............दौड रहे हैं सब स्वर्ण पदक पाने को............
    अजीब स्थिति है....
    सादर.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. सबको लगता है -
    मंजिल मिल गई
    और जश्न !
    अकेले मनाने को रह गए हैं
    बस .....
    खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !

    Steek.... Bilkul Sach hai, Hote dekha hai aisa.....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में
    सहनशीलता की मूरत बने हम
    आकाश से धरती
    फिर धरती से पाताल में चले जाते हैं ....
    ****************************************************************************************************
    जानते हुए भी .... कभी कभी कोशिश करने पर भी दूसरा रास्ता नजर नहीं आता .... ??
    ****************************************************************************************************
    उबजुब सी स्थिति
    लाइलाज !
    बीमार सी ज़िन्दगी .....
    हकीकत है .... फिर भी .... ?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  26. मैंने कभी osho times में पढ़ा था :
    Be yourself
    and then
    you will be accepted by Nature,
    You will be accepted by God.

    सुन्दर दिखने की कोशिश तो करनी चाहिए, पर अपनी पहचान खोनी नहीं चाहिए.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  27. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  28. कभी कभी पूर्ण स्वार्थी हो जाने को जी करता है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  29. "सब कहीं न कहीं
    किसी न किसी तरह से आगे निकल गए हैं
    सबको लगता है -
    मंजिल मिल गई
    और जश्न !
    अकेले मनाने को रह गए हैं
    बस .....
    खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !
    हम आगे निकलने की जद्दोजहद में कितना कुछ (अपना और कीमती) पीछे छोड़ जाते हैं ! बहुत भावपूर्ण और सुंदर अभिव्यक्‍ति !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  30. खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में
    सहनशीलता की मूरत बने हम
    आकाश से धरती
    फिर धरती से पाताल में चले जाते हैं ...

    कटु सत्य अभिव्यक्ति

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  31. आदरणीय दीदी आपका ब्लॉग खुलने में बहुत समय लगता है ...नीचे दूसरे ब्लोगर्स के डिटेल आते रहते हैं या तो टिप्पणी वाले या फिर ब्लॉग सूची वाले ..इस तरह पूरी रचना को पढ़ने में काफी वक्त लगता है

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  32. न निगलते हैं
    न बाहर निकाल पाते हैं
    उबजुब सी स्थिति
    लाइलाज !
    बीमार सी ज़िन्दगी
    और आस पास कोई नहीं
    ..sach aisi esthiti mein sab saath dekhte bue bhi saath kahan hote hain..khud bhi bhugtna hota hai apna dard...
    ..veartman parishya ka sateek chintansheel prastuti..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  33. हम जो सुनते हैं
    उससे अलग कुछ कहते हैं
    और कह दिया तो सिद्ध करने की होड़

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति रश्मि जी... ज़िंदगी में बस अपने कहे को सिद्ध करने की होड़ में ही तो सब लगे हैं...ज़िंदगी एकसूत्री कार्यक्रम हो गयी है... ख़ुद को बेहतर सिद्ध करना, ख़ुद को साबित करना ...

    सादर
    मंजु

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  34. हम जो सुनते हैं
    उससे अलग कुछ कहते हैं
    और कह दिया तो सिद्ध करने की होड़

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति रश्मि जी... ज़िंदगी में बस अपने कहे को सिद्ध करने की होड़ में ही तो सब लगे हैं...ज़िंदगी एकसूत्री कार्यक्रम हो गयी है... ख़ुद को बेहतर सिद्ध करना, ख़ुद को साबित करना ...

    सादर
    मंजु

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  35. खुद को बेहतर दिखाने की ही तो कोशिश करते रहते हैं हम । सुंदर अलग सी रचना ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  36. खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में न जाने कितने मुखौटे बना लेते हैं, किंतु सच्चाई कुछ और होती है
    न निगलते हैं
    न बाहर निकाल पाते हैं
    उबजुब सी स्थिति
    लाइलाज !
    बीमार सी ज़िन्दगी
    और आस पास कोई नहीं

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  37. खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में
    सहनशीलता की मूरत बने हम
    आकाश से धरती
    फिर धरती से पाताल में चले जाते हैं ...
    बिल्‍कुल सच कहा है आपने ...आभार

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  38. महत्वाकांक्षा जो न करवाए.. अति सुन्दर..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  39. कल 17/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  40. और जश्न !
    अकेले मनाने को रह गए हैं
    बस .....
    खुद को बेहतर दिखाने के क्रम में !
    सबको पीछे छोड़ने की होड़ में जब इंसान बेतहाशा भागता है ......तो बहुत सी तिलान्जलियाँ देता जाता है ...और आखिरकार अकेला रह जाता है ..जीत की कगार पर !!!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं