About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

21 फ़रवरी, 2012

एक कान से दूसरे कान



" कहने दो कोई कुछ फालतू कहता है तो
एक कान से सुनो दूसरे से निकाल दो "
मैंने अपनी छोटी बेटी की डबडबाई आँखों को
चूमकर कहा ...

उसने जो कहा
वह सुनकर मैं ठिठक सी गई
" माँ , इतना आसान नहीं
दोनों कान के बीच एक दिमाग भी तो होता है
जो इसे कैच कर लेता है ..."
छोटी होकर वह बड़ी बात सीखा गई
" सच तो ये है "

एक कान से दूसरे कान से निकालने की बात कहना
जितना सहज है उतना सरल नहीं
अगर सरल होता तो
बौखलाने की नौबत ही नहीं आती
खुद में बड़बड़ाने के हालात नहीं होते
......

हम भी न -
कई बार यूँ हीं माहौल को कूल रखने के लिए
बात को आई गई करने के लिए
कुछ भी कह देते हैं ...
....
जो बातें हर्ट करती हैं
वे आई गई नहीं हो पातीं
न एक कान से दूसरे कान तक जाती हैं
वो जो बीच में एक दिमाग है
और एक ज़ुबान है
वह भी वर्क करता है
ज़बरदस्त वर्क -
सोचके देखिये
सारे नतीजे उसी के हैं ....

45 टिप्‍पणियां:

  1. वो जो बीच में एक दिमाग है
    और एक ज़ुबान है
    वह भी वर्क करता है
    ज़बरदस्त वर्क -
    अक्षरश: सही कहा है आपने इस अभिव्‍यक्ति में ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही कहा आपने ! ये मुहावरा ही गलत बनाया गया है ! कायदे से होना ये चाहिए था कि कान से सुनो और मुह से निकाल दो !

    उसके बाद मन भी हल्का हो जाता है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिलकुल सही कहा ,आपने.एक कान से सुन के दूसरे कान से निकाल पाना आसान नहीं...क्यूंकि दिमाग होता है...बीच में.
    दिमाग होता है...तभी तो दिल तक घुस जाती हैं वो बातें जो हर्ट करती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेकार बातों को 'एक कान से सुनकर ,दुसरे कान से निकाल देना ' ही उचित है ..
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  5. " माँ , इतना आसान नहीं
    दोनों कान के बीच एक दिमाग भी तो होता है
    जो इसे कैच कर लेता है ..."
    छोटी होकर वह बड़ी बात सीखा गई
    " सच तो ये है "
    आपने बिलकुल सही कहा,...अच्छी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. मेरी बात ..डॉ.निधि टंडन जी ने कह दी ...!
    और वो भी बिल्कुल सच्ची ! डॉ.जो ...हैं!
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही कहा दी...
    बात कान में ना पड़े तभी आराम है वरना...
    दिमाग में खलल तो होकर रहेगा..

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही कहा बेटी ने ...
    इतना आसान नहीं होता किसी का कुछ कहा भूल जाना ...कई बार दिल दुखाने वाले तो कुछ शब्द पूरी जिंदगी साथ चलते हैं ...ये हैं कि कुछ समय बाद हम अच्छी यादों से बुरी यादों को बदलने की कोशिश जरुर करते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक कान से सुनों और दूसरे से निकाल दो ... बहुत मुश्किल काम है ... दिमाग वर्क करता है ... बस उसका वर्क ऐसा हो कि अनचाही बातों पर तवज्जो न दे ॥:):)

    उत्तर देंहटाएं
  10. यही तो मुश्किल है...
    दिमाग कमबख्त बीच में आ जाता है...

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिमाग में उथल पुथल मचती है, तब दिल का सहारा लिया जाता है और फिर फैसला कि बात दूसरे कान तक पहुंचानी है या नहीं..

    उत्तर देंहटाएं
  12. sach kaha...
    aapki beti ne jo tark diya, yah tark ham bhi dete hain...
    very practical and true...
    but, forgetting and forgiving is definitely relieving!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. रश्मि दी!
    आपकी छोटी बहन मेरी भी बहन हुई.. सच कहती है वो.. बातों के चेन रिऐक्शन होते हैं.. दो कानों के बीच दिमाग ही नहीं, दिमाग की सुनने वाला दिल भी होता है.. सब समझते बूझते भी उसे चोट तो लगती ही है.. दिल को लोग भले ही पागल कहें, मेरा मानना है कि हर समझदार को दुनिया पागल कहती है..
    बड़ी समझदार है हमरी छोटी बहन, समझती है कि मुश्किल ही सही, एक कान से सुनकर दूसरे से निकालना तो होगा ही!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. " माँ , इतना आसान नहीं
    दोनों कान के बीच एक दिमाग भी तो होता है
    जो इसे कैच कर लेता है ..."

    पर हकीकत यह है कि हम लोगों का स्वभाव नहीं बदल सकते.....यहाँ कुछ लोग ऐसे होते है जिन्हे दूसरों के मन को ठेस पहुंचाने में आनंद आता है, तो कुछ ऐसे भी है जो कुछ भी करने से पहले सोचते है कि कहीं हमारी किसी बात से किसी का मन दुखी न हो.....जीवन तो एक गुलाब के फूल की तरह है.....जिसमें फूल के साथ काटें भी होते है.....

    उत्तर देंहटाएं
  15. वो जो बीच में एक दिमाग है
    और एक ज़ुबान है
    वह भी वर्क करता है
    ज़बरदस्त वर्क -
    बिलकुल सही कहा है आपने... एक कान से दूसरे कान तक सीधा रास्ता नहीं है... गहन अभिव्‍यक्ति ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  16. जो बातें हर्ट करती हैं
    वे आई गई नहीं हो पातीं
    न एक कान से दूसरे कान तक जाती हैं
    वो जो बीच में एक दिमाग है
    और एक ज़ुबान है
    वह भी वर्क करता है
    ज़बरदस्त वर्क -
    सोचके देखिये
    सारे नतीजे उसी के हैं ....
    यही तो .............

    उत्तर देंहटाएं
  17. एक कान से सुनकर दूसरे से नहीं निकालेंगे तो नुकसान भी अपना ही होगा...बुद्धि तो वैसे ही तैयार बैठी है हर चीज में टांग अड़ाने को...वैसे आजकल बच्चे बहुत होशियार होते जा रहे हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  18. कल 22/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है !
    '' तेरी गाथा तेरा नाम ''

    उत्तर देंहटाएं
  19. वो जो बीच में एक दिमाग है
    और एक ज़ुबान है
    वह भी वर्क करता है
    ज़बरदस्त वर्क -
    सोचके देखिये
    सारे नतीजे उसी के हैं

    ्सोलह आने सत्य ………

    उत्तर देंहटाएं
  20. दोनों कान के बीच एक दिमाग भी तो होता है ....

    कितनी ऊँची बात कह दी नन्हीं ने...
    वाह! सुन्दर रचना दी...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  21. दीदी!
    कहीं दिमाग में कुछ कहाल रहा था.. इसलिए वैसा ही दिखा जैसा दिमाग में चल रहा था.. मगर मेरी बात बिटिया के लिए भी वही रहेगी!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. सच कहा है ...बहुत मुश्किल है ऐसा करना ... दिमाग नहीं छोड़ता ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. bilkul sahi kaha aapne... itna asaan nhi hota..... kuch bhi bhula dena....

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत खूब । ऐसा तो हमने भी कभी नहीं सोचा ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. एक कान से सुनो दूसरे से निकाल दो "ये बात सभी कहते है..ये सब उतना आसान नही है ..सही कहा..

    उत्तर देंहटाएं
  26. सही है ...सब कुछ भुला देना ,इतना आसान नहीं होता है .

    उत्तर देंहटाएं
  27. कान मुँह दिमाग और दिल का गहरा कनेक्शन है...

    उत्तर देंहटाएं
  28. एक गूढ़ दर्शन की सरल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  29. कान तो ठीक है पर हृदय का क्या करें..

    उत्तर देंहटाएं
  30. वाह! नया लॉजिक। दोनों कान के बीच दिमाग और जुबान होती है जो अपना वर्क करते हैं। तभी मैं कहूं कि दिक्कत कहां है क्यों बात आई-गई नहीं होती।

    उत्तर देंहटाएं
  31. बस इतना ,मेरे आने में थोड़ी देर हो गई , इसलिए, मैं , अपरा ,आपसे और सबसे सहमत हूँ... !!

    उत्तर देंहटाएं
  32. बिटिया बड़ी बात कह गयी..सच के करीब..

    उत्तर देंहटाएं
  33. वो जो बीच में एक दिमाग है
    और एक ज़ुबान है
    वह भी वर्क करता है
    ज़बरदस्त वर्क -
    shanti bhi yahi lata hai ....toofan bhi yahi.....beti ka jabab bahut achcha laga.

    उत्तर देंहटाएं
  34. han didi , ham kahte to sab hai ki chhoro n is kaan se suno us kaan se nikal do ..pr hota kahan hai ...agar is kaan se sun kr us kaan se nikal gya hota ...to shyad ye baat hamlog bar-bar doharate hi nahi ..ki chhoro n is kan se suno or us kaan se nikal do ...wo bich ke dinag me baitha hota hai ..isiliye us baat ko bar bar bol kar niakale ki koshis karte hai ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  35. गहन बात कही है .....किन्तु क्षमा बडन को चाहिए ....प्रभु की नज़रों में क्षमा करने वाला बड़ा और गलती करने वाला छोटा होता है दी ....जिसमे बड़प्पन होता है ...प्रभु बार बार उसका ही इम्तेहान लेते हैं ....शायद उसके बड़प्पन को और बढ़ाने के लिए ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  36. सही कहा।
    हर बात को भुलाना या टालना संभव नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  37. कभी कभी अनजाने ही बच्चे ऐसी बातें कह जाते हैं जो हमारे सारे तर्कों को ताक पर रख देते हैं ...बहुत सुन्दरता और सादगी से कही एक बड़ी बात ....सुन्दर रचना ...बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  38. सुंदर और अनहर्टिंग कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  39. सार सार को गहि रहे थोथा देय उड़ाय
    कठिन मगर उत्तम यही सबसे सरल उपाय.

    उत्तर देंहटाएं
  40. सच है अति कटु सच की दिमाग तो केच करता है तो ..पर यही हमें सीखना होता है कि किस तरह से हम निर्विकार भाव से अपने को शांत बना कर रखें... हालाँकि बेहद कठिन है... practice makes a man perfec... मैं भी अभी सीख रही हूँ .. तो आपकी बात से पूर्णतया सहमत हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  41. जो बातें हर्ट करती हैं
    वे आई गई नहीं हो पातीं
    न एक कान से दूसरे कान तक जाती हैं
    वो जो बीच में एक दिमाग है
    और एक ज़ुबान है
    वह भी वर्क करता है
    ज़बरदस्त वर्क -
    सोचके देखिये
    सारे नतीजे उसी के हैं ....
    ....
    ओह्ह्ह दीदी कमाल है मज़ा आ गया !

    उत्तर देंहटाएं
  42. वो जो बीच में एक दिमाग है
    और एक ज़ुबान है
    वह भी वर्क करता है
    ज़बरदस्त वर्क -
    sach hai....

    उत्तर देंहटाएं