19 अक्तूबर, 2012

उंच नीच अमीर गरीब महल झोपडी - इसके फर्क से व्यक्ति का आकलन नहीं होता ...


उंच नीच 
अमीर गरीब 
महल झोपडी 
इसके फर्क से व्यक्ति का आकलन नहीं होता ...
करने को कितना भी कर लो 
पर वह मायने नहीं रखता .
संस्कार से गुण होते और जाते हैं 
छोटे घरों से भी कुलीन विचार आते हैं !

ऊँचे घरों की खिडकियों से 
जब चीखने चिल्लाने की 
आवाजें आती हैं 
बेबाक गालियाँ सुनाई देती हैं 
तो लोग कहते हैं 
'झोपड़पट्टी जैसे हालात हैं'
!!!
झोपड़ी में तो कोई नहीं कहता 
'बड़े घरों की भाषा मत बोलो'

झोपड़ी अपने अभावों से लड़ती है 
थककर चीखती है 
सस्ती शराब पीकर फुटपाथ पर ढेर हो जाती है 
पर ऊँचे लोग,बड़े लोग 
सम्पन्नता के नशे में 
एक दूसरे को छोटा बताते हैं 
महँगी शराब पीकर 
अपनी अहमियत 
अपनी शान 
अपना रूतबा 
अपने संस्कार 
गालियों से सिद्ध करते हैं 
आपस में आइना दिखाते हुए 
वे अपने बाथरूम के टब में ढेर हो जाते हैं 
उनके घरों में आये मेहमान 
उनके कंधे थपथपाते 
अपना हिसाब किताब देखने अपने घर चल देते हैं
सुबह की अंगड़ाइयों में 
झोपडी से आती आवाज़ पर 
मुंह बिचकाते कहते हैं 
'बेशहूर हैं सब'
!!!
अपने शहूर पर उन्हें नाज  है 
इस सत्य से परे 
कि .... झोपडी के खाने में आज भी स्वाद है 
उनके आगे 
उनकी  किसी टिप्पणी के बगैर 
उनका रहन सहन बेस्वाद है !

34 टिप्‍पणियां:

  1. तो लोग कहते हैं
    'झोपड़पट्टी जैसे हालात हैं'
    !!!
    झोपड़ी में तो कोई नहीं कहता
    'बड़े घरों की भाषा मत बोलो'
    bhut hi steek ..aur hqiqt ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपने शहूर पर उन्हें नाज है
    इस सत्य से परे
    कि .... झोपडी के खाने में आज भी स्वाद है
    एक सच जिसे शुरू से लेकर अंत तक बखूबी बयान करती आपकी कलम ... जब सच की भाषा कहती है तो हमें भी फख्र होता है आपको पढ़ने का ...
    सादर


    उत्तर देंहटाएं
  3. संस्कार से गुण होते और जाते हैं
    छोटे घरों से भी कुलीन विचार आते हैं !
    ऊँचे घरों की खिडकियों से
    जब चीखने चिल्लाने की
    आवाजें आती हैं
    बेबाक गालियाँ सुनाई देती हैं
    तो लोग कहते हैं
    'झोपड़पट्टी जैसे हालात हैं'
    !!!
    झोपड़ी में तो कोई नहीं कहता
    'बड़े घरों की भाषा मत बोलो',,,,,,,,,,,,,,,Abhijatya varg par ek tamacha .............. speechless post

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही बात है... झोपडी के खाने में आज भी स्वाद है, संस्कार,गुण और कुलीन विचार छोटे घरों से भी आते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऊँचे घरों की खिडकियों से जब चीखने चिल्लाने की आवाजें आती हैं बेबाक गालियाँ सुनाई देती हैं तो लोग कहते हैं 'झोपड़पट्टी जैसे हालात हैं'!!!झोपड़ी में तो कोई नहीं कहता 'बड़े घरों की भाषा मत बोलो'

    Bahut umdaa kavita

    उत्तर देंहटाएं
  6. महलों से चीखने की आवाजें आतीं तो सब कहते हैं-बड़े घर की बड़ी बात
    छोटे घरों से आती है तो सब कहते हैं - वे अशिक्षित हैं
    महल और झोपड़ी का फर्क दिखने लगता है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहद सशक्त रचना है, आदरेया आपकी रचनायें सदैव प्रभावित करती हैं, आपकी कलम को नतमस्तक हो प्रणाम करता हूँ. स्वीकार करें.



    सुबह की अंगड़ाइयों में
    झोपडी से आती आवाज़ पर
    मुंह बिचकाते कहते हैं
    'बेशहूर हैं सब'

    उत्तर देंहटाएं
  8. तो लोग कहते हैं
    'झोपड़पट्टी जैसे हालात हैं'
    !!!
    झोपड़ी में तो कोई नहीं कहता
    'बड़े घरों की भाषा मत बोलो'sachchayee ka sahi bayan......

    उत्तर देंहटाएं
  9. सटीक बात!!!!!
    मानसिकता पैसे से तय नहीं होती....डिग्रियों से भी नहीं.....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुबह की अंगड़ाइयों में
    झोपडी से आती आवाज़ पर
    मुंह बिचकाते कहते हैं
    'बेशहूर हैं सब'

    अपने शहूर का नमूना पहले दिखला तो दिए होते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  11. कई बार नहीं समझ में आते घुमावदार वाक्य। दिल में उतर जाती हैं..सीधी, खरी बातें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदमी के घर पैदा होना जितना आसान है...उतना ही कठिन है आदमी बनना...मुद्दतें लगतीं हैं आदमी को इंसान होने में...

    उत्तर देंहटाएं
  13. यथार्थ कहती बहुत ही बेहतरीन रचना....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  14. गरीबी और अमीरी का फर्क सिर्फ रहन सहन से ही नहीं बल्कि भाषा से होता है और जब ये ही फर्क मिट जाए तो आम लोग सोचने पर मजबूर हो जाते हैं .......सटीक रचना रश्मि दी

    उत्तर देंहटाएं
  15. पने शहूर पर उन्हें नाज है
    इस सत्य से परे
    कि .... झोपडी के खाने में आज भी स्वाद है
    आदमी विचारों से बड़ा होता है सही कहा आपने

    उत्तर देंहटाएं
  16. छोटी छोटी बातें करके बड़े कहां हो जाओगे,
    पतली गलियो से निकलो तो खुली सड़क पर आओगे

    आज की सच्चाई वयां करती बहुत सुंदर रचना
    हकीकत को शब्द और आवाज दिया आपने

    उत्तर देंहटाएं
  17. शब्द और व्यवहार ही तय करता है उंच -नीच !

    उत्तर देंहटाएं
  18. bilkool sahi ,jyadatar aisa hi hota hai ,maano sanskari log naami khandano / badi badi haveliyon aur unche apartment me hi rahte hain :(

    उत्तर देंहटाएं
  19. shayad mahal walo ko jhopadi walo par tippani karne ka adhikar hai lekin insaniyat nahi mili un mahal walo ko.

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी भावनाओं को सलाम .....
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपकी भावनाओं को सलाम .....
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  22. सही कहा है, धन से नही सलीके से ही आंक सकते हैं हैसियत को..
    झोपड़ी हो या महल..जहां प्यार है वहीं सुख है..

    उत्तर देंहटाएं
  23. अब तो संस्कार छोटे घरों में बचे हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  24. आजकल तो बच्‍चों के लि‍ए संस्कार भी स्‍कूलों को ही आउटसोर्स कर दि‍ए दि‍खते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  25. व्यवहार इन सब पर निर्भर नहीं करता, केवल संस्कारों पर निर्भर करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  26. सही है ! अपने अपने संस्कार , अपनी अपनी मानसिकता...
    ~सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  27. संस्कार से गुण होते और जाते हैं
    छोटे घरों से भी कुलीन विचार आते हैं !
    सही बात कही है ....सटीक रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  28. आचार व्यवहार झोपड़ी में खराब और महलों में अच्छे बिलकुल जरुरी नहीं. नजदीक से अंतर समझने का सार्थक प्रयास.

    उत्तर देंहटाएं
  29. अपने शहूर पर उन्हें नाज है
    इस सत्य से परे
    कि .... झोपडी के खाने में आज भी स्वाद है
    भौतिकता की इस दौड में आत्मीय संवेदनाएं
    और सरलता ..दंभ और बड़प्पन के आगे कितने
    बौने हो गए हैं...बेहद ही शशक्त अभिव्यक्ति....आभार ...
    सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  30. ऊँचे घरों की खिडकियों से
    जब चीखने चिल्लाने की
    आवाजें आती हैं
    बेबाक गालियाँ सुनाई देती हैं
    तो लोग कहते हैं
    'झोपड़पट्टी जैसे हालात हैं'
    !!!
    झोपड़ी में तो कोई नहीं कहता
    'बड़े घरों की भाषा मत बोलो'

    ....बहुत खूब! बहुत सार्थक चिंतन...

    उत्तर देंहटाएं
  31. झोपड़ी में तो कोई नहीं कहता
    'बड़े घरों की भाषा मत बोलो'

    सब पैसे के नशे में चूर स्वयं को सभ्य कहते हैं ... आपने झोपड़ी और महल के अंतर को बखूबी कहा है .... सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  32. स्पष्ट रूप से प्रहार करती आपकी बातें प्रभावित करती है..

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...