04 फ़रवरी, 2018

आँखों में मॉनसून




एक अरसा हुआ 
आँखों में मॉनसून नहीं उतरा !
कभी कोई टुकड़ा बादल का गुजरा भी
तो बस गुजर ही गया  ...
हिचकियाँ
जो बातों बातों में 
  बंध जाती थीं कभी
जाने वे कहाँ खो गईं !
अब आँखों में
न कोई नदी उतरती है
न समंदर
पाल सी लगी पलकें
स्तब्ध सी उठती गिरती हैं
रहता है इंतज़ार
शयद इस बार
मॉनसून दस्तक दे जाए
मन की सोंधी खुशबू बिखर जाए !

4 टिप्‍पणियां:

  1. ना आँखों में मानसून उतरता है और ना ही दिल कभी धड़कता है। निर्जीव से जी रहे हैं हम। कविता मन को झिंझोड़ती है।

    जवाब देंहटाएं
  2. मानसून आता है तो मन को सूना कर जाता है नहीं आता तो उसका इंतजार..मानव मन इन्हीं द्वंद्वों में जीता है

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन कवि प्रदीप और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    जवाब देंहटाएं

हम आज भी वहीं खड़े हैं

  हम आज तक वहीं खड़े हैं जहां जला दी जाती थी बहुएं घर का सारा काम  उनके सर पर डाल दिया जाता था  नहीं मिलता था उन्हें समय पर खाना नहीं इजाज़त थ...