20 अगस्त, 2022

मैं अपना ही अर्थ ढूंढता हूँ ।


 


गोकुल की वह सुबह,

सोहर के बीच 
माँ यशोदा ने जब मुझे कसकर गले लगाया 
उनके बहते आँसुओं को 
अपनी नन्हीं हथेली पर महसूस करते हुए 
मेरा आँखें माँ देवकी को
वासुदेव बाबा को ढूंढ रही थीं ...

समय की मांग से परे
मैं उसी वक्त चाह रहा था विराट रूप लेना
अपने सात भाईयों की हत्या 
माँ देवकी के गर्भनाल की असह्य 
निःशब्द पीड़ा को अर्थ देना
कंस को उसी कारागृह की दीवार पर
उसी की तरह पटकना... !!!
लेकिन माँ यशोदा के हिस्से लिखी बाल लीला
सूरदास के अंधेरे में उजास भरने के लिए 
मुझे चौदह वर्षों का गोकुलवास मिला था !!

ईश्वरीय चमत्कार की चर्चा छोड़ दें
तो न मेरे आगे माँ देवकी की व्यथा थी
न उनकी गोद में मैं !!
मेरे आगे भी एक निर्धारित अवधि थी
जिसमें मुझे गोकुल का सुख बनना था,
प्रेम बनना था 
और फिर सबकुछ छोड़कर
मथुरा लौटना था
उलाहनों,आँसुओं की थाती लिए !

बिना भोगे,
बिना जिए,
कौन मेरे करवटों की व्याख्या करेगा ?
कैसे कोई जानेगा
कि जब मैं माँ देवकी के गले लगा
तो मेरा रोम रोम माँ यशोदा के स्पर्श से भरा था !
माँ देवकी भी सिहर उठी थीं ...
दो बूंद आंसू गिरे थे
लेकिन होनी के इस अन्याय को स्वीकार करते हुए 
उन्होंने मेरे सर पर हाथ रख दिया था
ताकि मैं मथुरा के साथ न्याय कर सकूँ ... !!!

मैंने क्या न्याय या अन्याय किया
_ नहीं जानता !
मेरे मुख में ब्रह्मांड था या नहीं
- मुझे ज्ञात नहीं 
पर जो अन्याय मेरे जीवन में होनी ने तय किया,
उसके आगे मेरा वजूद गीता बना ...
अगर ऐसा नहीं होता,
तो मैं जी नहीं पाता !

तुमसब भले ही मुझे द्वारकाधीश कहो
पर अपने एकांत में 
मैं अपना ही अर्थ ढूंढता हूँ । 


रश्मि प्रभा 


15 अगस्त, 2022

आज़ादी के पचहत्तर साल ...


 





आज़ादी के पचहत्तर साल !!!
लिया था हमने जन्म आज़ाद भारत में,
लेकिन शहीदों की कहानी
बड़ों की ज़ुबानी
हमारी आँखों से बहे,
इंकलाब रगों में प्रवाहित होता रहा ...
नाम किनका लूँ
किनका छोड़ दूँ
या भूल जाऊँ ?
मन की धरती पर
उनकी मिट्टी भी है
_ जो अनाम रहकर भी
अपने देश के लिए 
हमेशा के लिए सो गए !
भगतसिंह के बारे में
सुनते, सुनाते हुए 
जेल के बाहर
उनकी माँ मेरे वजूद में होती हैं ...
जो धीरे से कहती हैं,
'मेरा भगत' !!!
तिरंगे के हर रंग से
सुखदेव,आज़ाद, बटुकेश्वर दत्त, 
दुर्गा भाभी, 
सहगल,ढिल्लन, शाहनवाज दिखाई देते हैं 
वन्देमातरम की गूंज के आगे
किन्हें भूलूं,  किन्हें याद करूँ जैसी स्थिति होती है !

पचहत्तर साल बीत गए 
विश्वास नहीं होता
मन कहता है,
"ऐ भगतसिंहा,
एक बार हाथ मिला ले यार,
तेरी बात समझ नहीं पाया
पर इतना तो तय है 
कि कुछ तो बात है !"

खैर,
आज़ादी के पचहत्तर सालों के पड़ाव पर,
मैं सभी शहीदों 
और स्वतंत्रता सेनानियों का आह्वान करती हूँ
और लहराते तिरंगे के आगे सर झुकाती हूँ
यह कहते हुए कि इसकी अक्षुण्णता बनी रहे,
हर रंग में अपना भारत सर्वस्व रहे  ...

जीवन है

  यह जीवन है, आसान लगता है, होता नहीं ... रोज नए सिरे से बनाना पड़ता है । कभी झूठ नहीं बोलोगे तो औंधे मुंह गिरोगे या सत्यवादी हरिश्चंद्र की ...