16 अप्रैल, 2008

चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बासी का स्वाद अनोखा होता है

बासी का स्वाद अनोखा होता है, अगर वह बेस्वाद हो जाए, मीठा से खट्टा हो जाए, तो वक़्त देना खुद को कि वजह क्या थी । रोटी हो,प्यार हो ,...