21 अप्रैल, 2008

गिरने नहीं दूंगी......


सोच की गहराई तक,
उनका जाना मुमकिन नहीं-
जिनकी आँखें मोतियों को नहीं सपनातीं!
मैंने तुम्हारी आंखों से,
उन हर सपनों को देखा है-
जिसके आगे मेरी दुआओं से कहीं आगे ,
तुम्हारी इक्षा-शक्ति खड़ी रही...
किसी प्राप्य से चूक जाना,
हार नहीं होती-
समय का शायद एक गंभीर तकाजा होता है,
बहुत कुछ जानने-समझने के लिए...
मुझे पता है,
इससे गुज़रना आसान नहीं होता,
पर-गुजरना पड़ता है!
मैं तुम्हारी हर शिकन,हर धड़कन को ,
महसूस करती हूँ,
आंखों में तैरते सघन बादलों को भी जाना है,
उन एक-एक बादलों का-
बहुत बड़ा अर्थ है मेरी आँचल में...
ये सारे अर्थ तुम्हे मिलेंगे,
एक भी अर्थ,
मैं नीचे नहीं गिरने दूँगी..........

14 टिप्‍पणियां:

  1. "किसी प्राप्य से चूक जाना,
    हार नहीं होती-
    समय का शायद एक गंभीर तकाजा होता है,
    बहुत कुछ जानने-समझने के लिए...
    मुझे पता है,
    इससे गुज़रना आसान नहीं होता,
    पर-गुजरना पड़ता है!"

    एक अनमोल सीख के साथ एक बेहतर रचना के लिए आपका हार्दिक आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  2. सोच की गहराई तक,
    उनका जाना मुमकिन नहीं-
    जिनकी आँखें मोतियों को नहीं सपनातीं!

    sahi kaha..

    आंखों में तैरते सघन बादलों को भी जाना है,
    उन एक-एक बादलों का-
    बहुत बड़ा अर्थ है मेरी आँचल में...
    ये सारे अर्थ तुम्हे मिलेंगे,
    एक भी अर्थ,
    मैं नीचे नहीं गिरने दूँगी......


    bahut sundar ahsaas..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बड़ा अर्थ है मेरी आँचल में...

    ये सारे अर्थ तुम्हे मिलेंगे,

    एक भी अर्थ,

    मैं नीचे नहीं गिरने दूँगी..........

    sadar pranam hai in shabdon ko in bhavon ko

    Anil

    उत्तर देंहटाएं
  4. समय का शायद एक गंभीर तकाजा होता है,

    बहुत कुछ जानने-समझने के लिए...

    मुझे पता है,

    इससे गुज़रना आसान नहीं होता,

    पर-गुजरना पड़ता है!

    बहुत ही सुंदर रश्मि जी ..एक सच होता है आपकी कविता में जो ज़िंदगी से जुडा होता है

    उत्तर देंहटाएं
  5. WAH ..BHUT HE ARTHPURN KAVITA HAI..NIRASHA MEIN ASHA KA AVAHAN..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत प्यारी.. बहुत प्यारी.. !

    "दुआओं से आगे.. तुम्हारी इक्षा-शक्ति"

    समर्पण का भाव दर्शाता है और

    "एक भी अर्थ, मैं नीचे नहीं गिरने दूँगी"

    महज़.. जज़्बात नहीं..
    एक गहरी सोच.. एक पक्का वादा... किसी और से नहीं ..खुद से....!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आंखों में तैरते सघन बादलों को भी जाना है,


    उन एक-एक बादलों का-


    बहुत बड़ा अर्थ है मेरी आँचल में...


    ये सारे अर्थ तुम्हे मिलेंगे,


    एक भी अर्थ,


    मैं नीचे नहीं गिरने दूँगी..........
    sach kitna apna pan hai in panktiyon mein,kisi ka sahara bhare ya aashavad se bhare shabd hi kafi hai udaan ke liye,bahut bahut sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही भावपूर्ण कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  9. "ये सारे अर्थ तुम्हे मिलेंगे,
    एक भी अर्थ,
    मैं नीचे नहीं गिरने दूँगी"

    बहुत ही उम्दा..

    उत्तर देंहटाएं
  10. pranaam
    एक भी अर्थ,

    मैं नीचे नहीं गिरने दूँगी..........
    is behtareen rachna ke liye hazaron badhayee aur bahut bahut dhanyawaad jo mujhe padhne ka mauka diya

    उत्तर देंहटाएं
  11. बादलों का अर्थ समेटे आँचल...

    (जीवन का अर्थ समेटे आँचल...
    सृष्टि का अर्थ समेटे आँचल...)

    बहुत सुन्दर रचना दी...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं

शाश्वत कटु सत्य ... !!!

जब कहीं कोई हादसा होता है किसी को कोई दुख होता है परिचित अपरिचित कोई भी हो जब मेरे मुँह से ओह निकलता है या रह जाती है कोई स्तब्ध...