10 अप्रैल, 2008

मन...

कहाँ भटकते रहे मन?
तुम्हारे सारे अर्थ तो तुम्हारे ही भीतर थे,
जो "कस्तूरी" की तरह,
तुम्हारे रोम-रोम में सुवासित थे,
तुम्हारी आँखों में प्रदीप्त थे!
तुम तो व्यर्थ हथेलियाँ ढूँढने में लगे थे,
ठोस हथेलियाँ तो तुम्हारे ही पास थी,
तुम रिश्तों का ताना-बाना बुनने में,
मकड़ी के जाल में फँस गए थे...
रिश्ते भी तुम्हारे ही अन्दर थे!
मेरे मन!
तुमने अपने कई स्वर्णिम वर्ष गँवा दिए,
अब ठहरो,
अन्दर की साज-सज्जा बदलो,
धूल की परतों को झाडो,
करीने से संवार दो...
हाँ,इतनी जगह रखना,
कि, खुली हवा आ जा सके...

9 टिप्‍पणियां:

  1. अमिताभ और मनोजय जी शुक्रिया......

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब ठहरो,
    अन्दर की साज-सज्जा बदलो,
    धूल की परतों को झाडो,
    करीने से संवार दो...
    हाँ,इतनी जगह रखना,
    कि, खुली हवा आ जा सके...


    sach mein bahut khubsurat badhai

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहाँ भटकते रहे मन?
    तुम्हारे सारे अर्थ तो तुम्हारे ही भीतर थे,
    जो "कस्तूरी" की तरह,
    तुम्हारे रोम-रोम में सुवासित थे,
    तुम्हारी आँखों में प्रदीप्त थे!
    तुम तो व्यर्थ हथेलियाँ ढूँढने में लगे थे,

    Ek behtar soch aur ek umda rachna se rubaru karane ke liye dhanyad.

    उत्तर देंहटाएं
  4. sahee kaha di
    "Mann Sarwasw hai,
    Mann hi shreshth hai!
    jo niraakar bhee, sakar bhee!
    wahi to Mann Ishwar hai...
    ...ehsaas"

    ...khubsurat kavita

    उत्तर देंहटाएं
  5. रश्मि जी आपकी कवितायें बेहद उम्दा एवं दिलों को छू लेने वाली हैं । मैं नियमित रूप से इनका पाठन एवं मनन कर रहा हूं किन्तु समयाभाव के कारण कमेंट नहीं कर पा रहा हूं, क्षमा चाहता हूं ।


    आप लिखती रहें ..........

    उत्तर देंहटाएं
  6. हाँ,इतनी जगह रखना,
    कि, खुली हवा आ जा सके...

    बहुत गूढ़ बात कही है आपने...
    बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं

रामायण है इतनी

रूठते हुए  वचन माँगते हुए  कैकेई ने सोचा ही नहीं  कि सपनों की तदबीर का रुख बदल जायेगा  दशरथ की मृत्यु होगी  भरत महल छोड़  स...