03 जून, 2012

इंतज़ार कैसा ?





समझौतों के तपते रेगिस्तान में
सबके चेहरे झुलसे हैं
अपनों के न्याय की तलाश में
साँसें दम्मे सी उखड़ी हैं ......
कहीं जाकर क्या मिलेगा भला ?
झूठी हँसी हंसने से
क्या ज़िन्दगी पुख्ता लगती है
या हो जाती है ?

बाह्य प्रसाधन प्रचार में ही फर्क लाते हैं
सूखे बेबस होठ
जिन्हें पानी की तलाश हो
उनकी भाषा रंगकर नहीं बदली जा सकती
जिन आँखों के आगे
खून की नदी बही हो
उनमें काजल डाल देने से
उजबुजाता भय छुप नहीं जाता !
क्यूँ बेवजह भाषणों से उनके दिल दिमाग को रेत रहे
थोड़ी ज़मीर बची हो
तो ...... पानी लाओ
और उनके हाथ तोड़ डालो
जो बेशर्मी से खून की होली खेलते हैं
कभी अपनों को जलाकर
कभी अपनों को काटकर ....

अखबारी समाचार तो खटाई हो जाते हैं
मधुमक्खी सी भीड़ जहाँ देखो
समझ लो
कोई पीटा जा रहा है
या कोई मर गया है ....
भीड़ न बचाती है
न किसी को खबर देती है
बस मज़े लूटती है
और अफवाह फैलाती है !

इन अफवाहों में किसी की बेटी अपनी लगी है
तड़पते शरीर में कोई अपना दिखा है
पंखे से लटके प्रतिभाशाली लड़के में
मृत व्यवस्था की दुर्गन्ध आई है
.... जिस दिन ऐसी घटनाओं से हमारी तुम्हारी नींद उड़ेगी
रोटी में अवाक लड़की नज़र आएगी
हल्की हवा में किसी युवा की सिसकी सुनाई देगी
उस दिन
परिवर्तन के लिए कोई मशाल नहीं जलाई जाएगी
ना ही कोई भीड़ होगी
बल्कि परिवर्तन की आहट अपने अपने दिलों से निकलेगी
प्यास बुझेगी
आँखों में ज़िन्दगी उतरेगी ....

एक बार
बस एक बार
खुद को रखो वहाँ
दिल से सोचो
दिमाग से काम लो ....
खुद को खुद की ताकत दो
क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है
वह जब भी आएगा
अपने भीतर से ही आएगा
तो ....... इंतज़ार कैसा ?

31 टिप्‍पणियां:

  1. क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है
    वह जब भी आएगा
    अपने भीतर से ही आएगा

    शायद सबसे बड़ी सच्चाई यही है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुद को खुद की ताकत दो
    क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है
    वह जब भी आएगा
    अपने भीतर से ही आएगा

    .....बिलकुल सच...बहुत प्रेरक और सशक्त अभिव्यक्ति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. "एक बार
    बस एक बार
    खुद को रखो वहाँ
    दिल से सोचो
    दिमाग से काम लो ....
    खुद को खुद की ताकत दो
    क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है
    वह जब भी आएगा
    अपने भीतर से ही आएगा
    तो ....... इंतज़ार कैसा ?"

    सच मसीहा तो हमारे ही भीतर है हमें जिसे सचेत और सजग रखना होगा।
    बहुत सुंदर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिलकुल सच ! खुद पर ही यकीन और खुद से ही पहल करनी होगी |

    उत्तर देंहटाएं
  5. परिवर्तन के लिए कोई मशाल नहीं जलाई जाएगी
    ना ही कोई भीड़ होगी
    बल्कि परिवर्तन की आहट अपने अपने दिलों से निकलेगी

    बस यही होना चाहिए
    बहुत ही सार्थक एवं संवेदनशील कविता

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल से सोचो
    दिमाग से काम लो ....
    खुद को खुद की ताकत दो
    क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है...सही कहा सुन्दर भाव अनुपम अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  7. खुद को रखो वहाँ
    दिल से सोचो
    दिमाग से काम लो ....
    खुद को खुद की ताकत दो
    क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है

    सही बात है...हमें आगे आना होगा|

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है
    वह जब भी आएगा
    अपने भीतर से ही आएगा
    सच को दर्शाती अभिव्यक्ति .... !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर दी.....
    भीतर तक कसमसाहट महसूस हो रही है....

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  10. पंखे से लटके प्रतिभाशाली लड़के में
    मृत व्यवस्था की दुर्गन्ध आई है ...

    हाँ, मसीहा हमारे ही भीतर है.. पहचानने भर की देर है.. और सब मिल जाएँ और पहचान लें.. बस! ये मृत व्यवस्था जीवंत हो उठेगी..
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. परिवर्तन की आहट जब तक दिल से ना निकले , परिवर्तन की चाहत जब तक हमारे मनों में साकार नहीं, तब तक महज भाषणबाजी से क्या !!
    यदि सिर्फ प्रवचन से कुछ होता तो आज के दौर में प्रभावी प्रचारकों और मंदिरों , धर्मस्थलों पर भरी भीड़ के बावजूद अपराध इतने ना बढ़ते !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बाहर की तपन में मेरा मन शीतलता देता है, अकेले रहना शीतलता देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ...बस उस दिन का इंतज़ार है,
    जब किसी और के बजाय
    हम आगे होंगे
    खुद से जागे होंगे !
    करेंगे वह सब खुद
    जो चाहते हैं औरों से !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. भीड़ न बचाती है
    न किसी को खबर देती है
    बस मज़े लूटती है
    और अफवाह फैलाती है !
    एक कड़वी सच्‍चाई है इन शब्‍दों में जो अंतर्मन को झंझोड़ती सी है ... सशक्‍त लेखन के साथ उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ... आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक बार
    बस एक बार
    खुद को रखो वहाँ
    दिल से सोचो
    दिमाग से काम लो ....
    खुद को खुद की ताकत दो
    क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है
    वह जब भी आएगा
    अपने भीतर से ही आएगा
    तो ....... इंतज़ार कैसा ?
    bilkul sahi ....

    उत्तर देंहटाएं
  16. स्व की ताक़त का अंदाज़ा खुद को ही नहीं होता,

    काश किसी के जगाने से नींद खुल जाती.

    उत्तर देंहटाएं
  17. परिवर्तन की आहट अपने अपने दिलों से निकलेगी......tabhi nai subah hogi......

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी इस उत्कृष्ठ प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार 29/5/12 को राजेश कुमारी द्वारा
    चर्चामंच मंच पर की जायेगी |

    उत्तर देंहटाएं
  19. मसीहा और शैतान अपने अंदर ही हैं ... बस उसे बाहर लाना पढता है ... शैतान तो आ जाता है पर मसीहे कों लाना पढता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. खुद को खुद की ताकत दो
    क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है
    वह जब भी आएगा
    अपने भीतर से ही आएगा...ek baar phir khade ho kar jindgui ka samna karne ke liye prerit karti behtreen rachna.....

    उत्तर देंहटाएं
  21. क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है
    वह जब भी आएगा
    अपने भीतर से ही आएगा.

    सच है ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बिलकुल सच कहा आपने ...अगर समाज में बदलाव देखना है ...तो पहले खुद को बदलो ...अपनी सोच तो टटोलो ....सुधारो ....और फिर किसी और से अपेक्षा रखो

    उत्तर देंहटाएं
  23. इन्तज़ार बहुत हो चुका ,व्यवस्था- हीनता इस स्थिति को मानवीय-भावनाओं का आधार दे कर लाइन पर लाना आज की सबसे बड़ी ज़रूरत है .

    उत्तर देंहटाएं
  24. कोई मसीहा नहीं आता, खुद में आत्मबल चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  25. खुद को खुद की ताकत दो
    क्योंकि मसीहा हमारे ही भीतर है
    वह जब भी आएगा
    अपने भीतर से ही आएगा

    निशब्द हूँ इस शानदार अभिव्यक्ति पर।

    उत्तर देंहटाएं
  26. अपनी राहें खुद ...बनाता चल ..कोई आए ना आए ...ये जीवन अपनी गति से चलता चलेगा

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...