20 जून, 2012

माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है ...



अँधेरे में
जब हाथ को हाथ नहीं सूझ रहा था
'हाथ पकडे रहना ....' चीखते हुए
आंसुओं से सराबोर
एक माँ ....

कोई ऐसा ताखा नहीं था
न कोई दीवार
न दरवाज़ा
न मिट्टी
न शून्य ................
जहाँ से उसने ईश्वर को नहीं उठाया
अपने बच्चों की खातिर !

ऐसी माँ
लोगों को भले ही साइकिक
हास्यास्पद नज़र आ जाए
संदेहास्पद जीत के लिए
भले ही झूठ के कई घड़े उसके सर पे रख दिए जाएँ
वह हारती नहीं है ....
उद्देश्य कई हों
तो मंथन होता है रास्तों के लिए
पर जिस माँ के लिए
मात्र उसके बच्चे उद्देश्य हों
वह लोगों के कुत्सित विचारों का मंथन करती जाती है
और रास्ते खुद ब खुद निकल जाते हैं !
.....
ऐसी माँ -
धरती , आकाश , निवाला
सब बन जाती है
अपने बच्चों के लिए
वह पाताल भी नापकर आती है !
शांत चेहरे से एक ही आवाज़ उभरती है -
माँ एक अवतार होती है
युग कोई भी हो
माँ आधार होती है
.........
अपने आंसुओं को वह भूल सकती है
अपनी ख्वाहिशों का गला घोंट सकती है
पर अपने बच्चे की एक एक सिसकियों का हिसाब रखती है
रात भर लोरी बन
साथ चलती है
अँधेरे में वह अपने बच्चों पर जब चीखती है
तो एक एक चीख में सुरक्षा की दुआ होती है
जब माँ कमरे में बंदकर बच्चे को डराती है
तो उसके पीछे एक ही चाह होती है
- बन्द रास्तों की चेतावनी !
....
ऐसी माँ -
' हाथ पकड़े रखना ' की चीख के साथ
बच्चों का विश्वास बनती है
कि आँधियाँ कैसी भी हों
कैसे भी हों तूफ़ान
वे सुरक्षित हैं ... माँ साथ है

सच है ,
किसी को नज़र आए न आए
बच्चों के हर कदम के आगे
माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है ...

37 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर दी....
    माँ एक अवतार होती है
    युग कोई भी हो
    माँ आधार होती है
    .........
    पकडे रहती हैं हाथ बच्चों का......

    काश के बच्चे ये हाथ कभी न छुडाते.........तब तो सार्थक होता उसका जीवन....उसके बलिदान.....

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है रश्मि जी माँ बच्चों के लिए वो शक्ति है जो प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष सुरक्षाचक्र की भाँति उनके आसपास ही होती है....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच है ,
    किसी को नज़र आए न आए
    बच्चों के हर कदम के आगे
    माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है ...
    bilkul sahi kaha hai sundar rachna shurvat se ant tak...sarthak !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बच्चों के हर कदम के आगे
    माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है ...
    sarthak ...sargarbhit rachna di ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. युग कोई भी हो
    माँ आधार होती है
    नि:शब्‍द हूँ ... भावमय करते शब्‍द ... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है ,
    किसी को नज़र आए न आए
    बच्चों के हर कदम के आगे
    माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है ...और वही उसका सुरक्षा कवच होता है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. माँ की हर आहट बच्चों के लिए होती है ... बहुत सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर भावमय माँ को समर्पित रचना

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच है, माँ जैसी सिर्फ माँ ही होती है, अपने बच्चों की खातिर जीती है और मरती भी है, सब कुछ कह दिया हैआपने . काश कि इसे हर बच्चा समझ पता. युग बदला संतान बदल गई माँ आज भी जैसी थी वैसी है... बहुत सुन्दर भाव... आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह...एक माँ बच्चों के लिए हर हद्द से गुजर सकती है.
    बहुत ही सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऐसी माँ -
    धरती , आकाश , निवाला
    सब बन जाती है
    अपने बच्चों के लिए
    वह पाताल भी नापकर आती है !
    शांत चेहरे से एक ही आवाज़ उभरती है -
    माँ एक अवतार होती है
    युग कोई भी हो
    माँ आधार होती है
    yahi to hai ek maa ke astitiv ka sacha aadhaar...

    उत्तर देंहटाएं
  12. माँ एक अवतार होती है
    युग कोई भी हो
    माँ आधार होती है

    बहुत ही सुन्दर पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  13. Amazing Rashmi ji. अन्दर तक छू गयी ये कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर भावप्रणव रचना!
    इसको साझा करने के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  15. माँ एक अवतार होती है
    युग कोई भी हो
    माँ आधार होती है

    एकदम सत्य है कि माँ मानव के जीवन का आधार होती है बल्कि इस सृष्टि का आधार होती है. उससे और उसके त्याग और तपस्या से कोई कभी उऋण हो ही नहीं सकता है. तूफानों और चट्टानों से टकरा कर भी वह अपने बच्चों के लिए ढाल बनी रहती है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. माँ तू सबसे प्यारी है.... बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  17. सच है ,
    किसी को नज़र आए न आए
    बच्चों के हर कदम के आगे
    माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है ...

    बहुत ही सुंदर भावो की अभिव्यक्ति,,,,


    MY RECENT POST:...काव्यान्जलि ...: यह स्वर्ण पंछी था कभी...

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाकई वे साथ रहती हैं ...
    प्रभावशाली रचना , आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  19. माँ का शब्द ही बच्चों के लिये एक बड़ा सहारा है..

    उत्तर देंहटाएं
  20. मां और मां शब्‍द की महिमा अपरम्‍पार है।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बच्चे के हर कदम के आगे माँ की प्रतिध्वनि होती है ...
    माँ को एक माँ ने ही सम्पूर्ण रूप से परिभाषित कर दिया!

    उत्तर देंहटाएं
  22. सच है ,
    किसी को नज़र आए न आए
    बच्चों के हर कदम के आगे
    माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है ...वाह...! आश्वस्त करता एक सच .....सच के सिवा कुछ नहीं ....!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की सूरत क्या होगी...?

    उत्तर देंहटाएं
  24. जो क्षण-क्षण की फ़िक्र लिए रहती है अपने बच्चों की... उस माँ को पाकर तो बच्चे धन्य हो उठते हैं.. साइकिक माएँ तो वो होती हैं जिन्हें अपने बच्चों के बारे में फ़िक्र ही नहीं होती..

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  25. maa jo bhi hai bacchon k liye hai lekin kya ye bacche poorn roop se samajh paate hain. par bacche samjhe n samjhe maa , maa hi rahegi.

    उत्तर देंहटाएं
  26. माँ की प्रतिध्वनि ही हमारी धड़कन है...

    उत्तर देंहटाएं
  27. बच्चों के हर कदम के आगे
    माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है

    क्योंकि माँ तो बस माँ है ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुन्दर भाव........
    ऐसी माँ -
    ' हाथ पकड़े रखना ' की चीख के साथ
    बच्चों का विश्वास बनती है
    कि आँधियाँ कैसी भी हों
    कैसे भी हों तूफ़ान
    वे सुरक्षित हैं ... माँ साथ है

    सच है ,
    किसी को नज़र आए न आए
    बच्चों के हर कदम के आगे
    माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. सुंदर भाव से रची
    बहूत सुंदर भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  30. किसी को नज़र आए न आए
    बच्चों के हर कदम के आगे
    माँ की प्रतिध्वनि साथ रहती है
    - कितने सुन्दर सत्य का निरूपण !

    उत्तर देंहटाएं
  31. युग बदले ...वक्त बदला ...पर माँ और माँ के प्यार का आधार कभी नहीं बदला ...

    उत्तर देंहटाएं
  32. एक माँ अपने बच्चे की एक एक सिसकियों का हिसाब रखती है .... !!

    उत्तर देंहटाएं

शाश्वत कटु सत्य ... !!!

जब कहीं कोई हादसा होता है किसी को कोई दुख होता है परिचित अपरिचित कोई भी हो जब मेरे मुँह से ओह निकलता है या रह जाती है कोई स्तब्ध...