21 मार्च, 2020

जब खड्ग मैं उठाऊंगी




मैं तुमसे या कर्ण से
बिल्कुल कम नहीं रही अर्जुन,
लक्ष्य के आगे से मेरी दृष्टि
कभी विचलित नहीं हुई ...
परिस्थितियों के आगे एकलव्य की तरह
मैंने आत्मविश्वास की मूर्ति बनाई
लक्ष्य साधा,
तुमसे (अर्जुन से)अधिक प्रबल हुई
पर वहीं कर्ण की सहनशीलता अपनाकर
श्राप की हकदार हुई !
लेकिन,
युद्ध में-
मैं कभी पीछे नहीं हटी,
गांडीव नीचे नहीं रखा,
तुमको जो गीता सुनाया था कृष्ण ने,
उसे गुनती रही ।
इस गुनने का चमत्कार कहो
या कृष्ण से पूर्व जन्म का रिश्ता,
शंखनाद कृष्ण ने किया,
चक्रव्यूह भी उसीने बनाया
प्रहार भी उसने ही किया......!
पर सामने यह सच भी खड़ा था
कि रण में नहीं था कोई निहत्था
न चक्र के व्यूह में था अभिमन्यु
और दु:शासनों से भरा था कुरुक्षेत्र
लेकिन मेरा गांडीव
मेरे पास सुरक्षित है
निमित्त कह लो या कारण
मैं ही हूं
रथ पर आरूढ़
मेरे खंडित सपनों की मिट्टी
अवतार स्वयं उठा रहे
उन्हें गीला कर,
चाक पर रख
नए पात्र बना रहे
उस विराट का खुद से करार है
और मुझसे एक वायदा
कि आएगी एक रात
जब खड्ग मैं उठाऊंगी
अंतिम वार
जब मेरा होगा
तभी दूसरा सवेरा होगा।


8 टिप्‍पणियां:

  1. उम्मींदें बनी रहें इसी तरह। सुन्दर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  2. उस सवेरे की प्रतीक्षा काल को भी है, सुंदर सृजन !

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही लाजवाब ओजस्वी रचना ...
    उस सवेरे की ओरातिस्खा मानव जाती को है ...

    जवाब देंहटाएं
  4. बेहतरीन रचना रश्मि जी ,नमस्कार

    जवाब देंहटाएं

हकीकत की शुक्रगुजार हूँ

सपने देखने में उसके बीज बोने में उसे सींचने में आठवें रंग से उसे अद्भुत बनाने में मैं सिर्फ माहिर नहीं थी माहिर हूँ भी ... दिल खोलकर मै...