About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

03 अगस्त, 2012

अब पूरे रणक्षेत्र में मैं और मेरा सारथी होगा !!!





मुझे नहीं होना सत्यवादी
सत्य मेरा मन जानता है
और यही काफी है !
अब जब मैं अपने कक्ष में रहूंगी
तब सच कहूँगी
पर अपने घर की ठोस दीवारों पर
किसी गिरगिट को ठोकर नहीं लगाने दूंगी !
अच्छाई का प्रमाण पत्र मिले न मिले
क्या फर्क पड़ता है
दुनिया उसी का साथ देती है
जो झूठ बोलता है !
सच है -
मेरे घर की दीवारों ने किसी को छत दिया
पर यदि देकर वह सिकुड़ गया
तो कब तक मैं उसके रंग खुरचती रहूँ !
और वह ....
घबराकर मेरे आंचल को ना पकड़े !
ना ....
किसी को पत्थर बरसाने हैं तो बरसाओ
मैं दीवार के आगे खड़ी मिलूंगी
साम दाम दंड भेद तुमने आजमा लिए
मैंने कुछ नहीं कहा
अब देखो इस सत्य का विराट स्वरुप
छल की हर नीति से मैं अपने दीवारों की रक्षा करुँगी ...
मैंने विनम्रता से कहा
अभिमन्यु कुरुक्षेत्र में नहीं उतरेगा
तो तुमने अभिमन्यु के क्षण क्षण को
चक्रव्यूह में बाँध दिया
अब सुनो -
मेरा एक भी अभिमन्यु
चक्रव्यूह में नहीं जायेगा
क्योंकि मेरे भीतर का कृष्ण जाग गया है
और अब पूरे रणक्षेत्र में
मैं और मेरा सारथी होगा !!!

31 टिप्‍पणियां:

  1. अब पूरे रणक्षेत्र में
    मैं और मेरा सारथी होगा !!!

    ... एक अदम्‍य साहस का परिचय देते हुए इन पंक्तियों के सशक्‍त भाव मन को छू गये ... आभार आपका इस उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी रचना
    आप अपनी सोच को किस ऊंचाई तक ले जाती है, फिर उसे शब्दों में बांध कर लोगों तक पहुंचाना, जो पढने वालों के अंतर्मन को झकझोरता है।

    किसी को पत्थर बरसाने हैं तो बरसाओ
    मैं दीवार के आगे खड़ी मिलूंगी

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब सुनो -
    मेरा एक भी अभिमन्यु
    चक्रव्यूह में नहीं जायेगा
    क्योंकि मेरे भीतर का कृष्ण जाग गया है.
    और अब पूरे रणक्षेत्र में
    मैं और मेरा सारथी होगा !!!

    अभिमन्यु को बचाने के लिए कृष्ण होना होगा , सिर्फ सत्य से काम नहीं होगा !

    उत्तर देंहटाएं
  4. सिर्फ सत्य से काम नहीं होगा मेरे भीतर का कृष्ण मेरा सारथी होगा ..बहुत सुन्दर भाव .

    उत्तर देंहटाएं
  5. सत्य ही हमें असत्य के आगे खड़े होने की असीमित शक्ति देता है...

    उत्तर देंहटाएं
  6. शंख फूंकती ज्वाजल्य रचना दी...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. वक़्त के साथ अदम्य साहस को दर्शाती सुंदर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब सुनो -
    मेरा एक भी अभिमन्यु
    चक्रव्यूह में नहीं जायेगा
    क्योंकि मेरे भीतर का कृष्ण जाग गया है
    और अब पूरे रणक्षेत्र में
    मैं और मेरा सारथी होगा !!!

    ...एक अदम्य विश्वास और साहस से परिपूर्ण उत्कृष्ट अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  9. रश्मि जी नमस्कार, बहुत खूबसूरती से आपने सत्य के साथ खडे रहने की बात की मेरे ब्लाग जनदर्पण की रचनाओं को भी अपना आशीर्वाद व कमी बताये ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. ओह !बहुत ही सुन्दर कविता --|विवेकशील ,अटल संकल्प वाली नारी का भविष्य ----ईश्वर उसकी किस्मत लिखने से पहले अवश्य पूछेगा -बता तेरी इच्छा क्या है !

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सराहनीय प्रस्तुति.
    बहुत सुंदर बात कही है इन पंक्तियों में. दिल को छू गयी. आभार !


    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (04-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (04-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  14. मेरे घर की दीवारों ने किसी को छत दिया
    पर यदि देकर वह सिकुड़ गया
    तो कब तक मैं उसके रंग खुरचती रहूँ !

    पूरी कविता एक संकल्प है...ये पंक्तियाँ यथार्थ...एक प्रेरणा हैं|

    उत्तर देंहटाएं
  15. किसी को पत्थर बरसाने हैं तो बरसाओ
    मैं दीवार के आगे खड़ी मिलूंगी.....एक अदम्य विश्वास और साहस से परिपूर्ण सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  16. अंतर्मन को झकझोरती अदम्य और विश्वास की बेहतरीन प्रस्तुति,,,बधाई,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  17. विचारणीय भाव..... बेहतरीन बिम्ब ले रची पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  18. मेरे घर की दीवारों ने किसी को छत दिया
    पर यदि देकर वह सिकुड़ गया
    तो कब तक मैं उसके रंग खुरचती रहूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  19. Rashmi ji...

    Sahas se kathinayi jaati..
    Kathinayi hi sahas laati..
    Jo kabhi dara, wo dara raha...
    Jo adig hua, wo paar hua...

    Sahas ke krushn saarthi ban...
    Hain kurukshetr main laate hain...
    Jeevan ke chakrvyhu ko wo..
    Ek ek kar tod girate hain...

    Jisne sahas dikhlaya hai..
    Usne hi krishn ko jaana hai...
    Jo dara raha, darta hi raha...
    Khud ko bhi na pahchana hai...

    Jeevan ki harek vishamta ko..
    Tap se sam karen nidarta se...
    Vish swatah banega amrut sa..
    Darna hai nahi vifalta se...

    Aaj kafi samay baad aapki kavita padhi hai...wohi sahas, wohi nidarta, wohi jeevan darshan jiska jaane kab se main prashank raha hu....apki es kavita main bhi parilakshit hui hai...jo aap sa adamya sahasi hoga us se to niyati bhi haar jayegi..kisi kathinayi main kahan etni takat ki aapki majboot deevaron ko gira sake...

    Shubh divas...

    Deepak Shukla...

    उत्तर देंहटाएं
  20. Rashmi ji...

    Sahas se kathinayi jaati..
    Kathinayi hi sahas laati..
    Jo kabhi dara, wo dara raha...
    Jo adig hua, wo paar hua...

    Sahas ke krushn saarthi ban...
    Hain kurukshetr main laate hain...
    Jeevan ke chakrvyhu ko wo..
    Ek ek kar tod girate hain...

    Jisne sahas dikhlaya hai..
    Usne hi krishn ko jaana hai...
    Jo dara raha, darta hi raha...
    Khud ko bhi na pahchana hai...

    Jeevan ki harek vishamta ko..
    Tap se sam karen nidarta se...
    Vish swatah banega amrut sa..
    Darna hai nahi vifalta se...

    Aaj kafi samay baad aapki kavita padhi hai...wohi sahas, wohi nidarta, wohi jeevan darshan jiska jaane kab se main prashank raha hu....apki es kavita main bhi parilakshit hui hai...jo aap sa adamya sahasi hoga us se to niyati bhi haar jayegi..kisi kathinayi main kahan etni takat ki aapki majboot deevaron ko gira sake...

    Shubh divas...

    Deepak Shukla...

    उत्तर देंहटाएं
  21. अब सुनो -
    मेरा एक भी अभिमन्यु
    चक्रव्यूह में नहीं जायेगा
    क्योंकि मेरे भीतर का कृष्ण जाग गया है
    और अब पूरे रणक्षेत्र में
    मैं और मेरा सारथी होगा !!!

    शंखनाद करती एक बेहतरीन प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  22. शब्द ओए एहसास से परिपूर्ण कविता ...एक सोच ..खुद को परिभाषित करती हुई ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. रश्मि जी नमस्कार...
    आपके ब्लॉग 'मेरी भावनाएं' से कविता भास्कर भूमि में प्रकाशित किए जा रहे है। आज 4 अगस्त को 'मैं और मेरा सारथी...' शीर्षक के कविता को प्रकाशित किया गया है। इसे पढऩे के लिए bhaskarbhumi.com में जाकर ई पेपर में पेज नं. 8 ब्लॉगरी में देख सकते है।
    धन्यवाद
    फीचर प्रभारी
    नीति श्रीवास्तव

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    पर भी पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. अब सुनो -
    मेरा एक भी अभिमन्यु
    चक्रव्यूह में नहीं जायेगा
    क्योंकि मेरे भीतर का कृष्ण जाग गया है
    और अब पूरे रणक्षेत्र में
    मैं और मेरा सारथी होगा !!!..waah ..bahut khub ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. लाजवाब हो जाता हूँ शब्द ही नहीं मिलते कुछ कहने को.....अद्दभुत ।

    उत्तर देंहटाएं