About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

08 अगस्त, 2012

मानो तो




मैं हूँ ....
पर मैं क्या हूँ
यह मैं होकर भी निर्धारित नहीं कर सकती
और निःसंदेह मिलनेवालों में सबके साथ
मेरी एक ही छवि नहीं उभरती ....
मेरा व्यवहार सामान्य हो सकता है
पर सामनेवाले का नज़रिया अलग अलग हो सकता है
तो सफाई किस बात की ?
और क्यूँ ?
सफाई देना और लेना फ़िज़ूल है
क्योंकि रेखांकित वही होता है
जो सोच समझ लिया गया है !!!
विवेचना आखिर किस बात की ?
हम कहते हैं - विश्वास बड़ी चीज है
तो बगैर विश्वास सफाई क्या
और विश्वास नहीं तो कहना क्या !
एक छोटी सी बात है -
हम कहते हैं ईश्वर हमारे भीतर है
यानि शिव हमारे अन्दर है
और जब शिव हमारे अन्दर है
तो पार्वती , गंगा , रुद्राक्ष , चन्द्रमा
नागदेव , मणि , विष , त्रिशूल , .....
क्रमशः वह सब हमारे अन्दर है
जो शिव है !
तर्क से स्पष्टीकरण मिल जाता है क्या ?
तो तर्क भी समक्ष है
अब क्या यह सच निर्धारित हो गया सबके आगे
या संशय जो अपने स्वभाव का अंश है
वह बरकरार है !!
सफाई देने ना देने का कोई अर्थ नहीं
कहते हैं न
कि मानो तो गंगा माँ है
न मानो तो बहता पानी ........

34 टिप्‍पणियां:

  1. मानो तो गंगा माँ है
    न मानो तो बहता पानी ........

    एकदम खरी बात ... अब तो कुछ भी कहना शेष नहीं ... आभार इस उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी
    मैं पूरी तरह सहमत हूं।
    वैसे लगता नहीं आपको ये आम बात होती जा रही है, लोग सामने वाले की सफाई तो चाहते हैं,लेकिन अपनी सफाई देने में असहज महसूस करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सफाई देने ना देने का कोई अर्थ नहीं

    उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. मानो तो गंगा माँ है
    न मानो तो बहता पानी ......
    मानो तो ईश्वर है
    न मानो तो सिर्फ पत्थर है ......सुन्दर भाव..

    उत्तर देंहटाएं
  5. सोलह आने सही कहा दी....
    एक कहावत है न...
    NEVER EXPLAIN...
    friends don't need it and enemies won't believe it.

    regards
    anu

    उत्तर देंहटाएं
  6. मेरा व्यवहार सामान्य हो सकता है
    पर सामनेवाले का नज़रिया अलग अलग हो सकता है
    तो सफाई किस बात की ?

    लाजवाब करती पोस्ट है ये....हैट्स ऑफ इसके लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैं हूँ बस इतना ही सत्य है मैं क्या हूँ इसका जवाब कुछ भी नहीं..जैसा भाव वैसा ही जगत दिखता है..

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर धार्मिक तथ्यपूर्ण रचन...
    बधाई

    इंडिया दर्पण
    पर भी पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आत्मचिंतन ही आत्मसाक्षात्कार करवाता है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं हूँ ....
    पर मैं क्या हूँ
    यह मैं होकर भी निर्धारित नहीं कर सकती
    और निःसंदेह मिलनेवालों में सबके साथ
    मेरी एक ही छवि नहीं उभरती ....

    हर व्यक्ति का मन एक दर्पण है जिसका दर्पण जितना स्वच्छ
    उतनी छवि भी स्वच्छ दिखाई देगी !
    सफाई देना सच में फिजूल समय व्यर्थ करना है हम कितनी ही सफाई दे
    सामने वाले वही सझते है जो वे है !
    मेरा होना अपने लिये है ....सार्थक रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  11. मेरा व्यवहार सामान्य हो सकता है ,
    पर सामनेवाले का नज़रिया अलग अलग हो सकता है ....
    मानो तो गंगा माँ है
    न मानो तो बहता पानी ........
    मानो तो देव ...न मानो तो पत्थर ....

    उत्तर देंहटाएं
  12. सहमत हैं आपकी बात से ...जहाँ खुद को साबित करना पड़े ....वहाँ विश्वास और रिश्ता कैसा ?

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक छोटी सी बात है -
    हम कहते हैं ईश्वर हमारे भीतर है
    यानि शिव हमारे अन्दर है
    और जब शिव हमारे अन्दर है
    तो पार्वती , गंगा , रुद्राक्ष , चन्द्रमा
    नागदेव , मणि , विष , त्रिशूल , .....
    क्रमशः वह सब हमारे अन्दर है
    जो शिव है !

    सत्य को स्पष्टीकरण की जरूरत नही होती।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच लिखा है आपने , अपने को सिद्ध करने की किसी के सामने जरूरत नहीं है. हम अपने आप को सिर्फ अपनी आत्मा के सामने सिद्ध करते हैं और अगर उसकी नजर में सत्य है तो सत्य हैं और फिर दूसरे हमारे बारे में क्या सोचते हैं इसकी सफाई व्यर्थ है. दूसरों की छवि तो हम अपने भावों और विचारों के अनुरुप ही बना कर चलते हैं.
    आध्यात्मिक भावों से पूर्ण रचना. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सोच में पड़ गयी हूँ...मैं क्या हूँ ? जो भी हूँ मैं..., खुद से तो छुप नहीं सकती ! और जो मैं नहीं हूँ...वो सामने वाला ना समझे, तो मैं करूँ तो क्या ? सच है! जब विश्वास ही न हो किसी को...तो सफाई कितनी दे...और क्या दे...
    ~जीवन की भूलभुलैया का उत्कृष्ट चित्रण !~
    -सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. सार्थक भाव लिए रचना...
    बहुत बेहतरीन :-)

    उत्तर देंहटाएं
  17. अपने आपको यदि अधिक व्यक्त करना पड़े तो समझने में कमी होने लगती है..

    उत्तर देंहटाएं
  18. जाकी रही भावना जैसी प्रभु मूरत देखी तिन तैसी,,,,
    मानो तो भगवान,नही तो पत्थर,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  19. मेरा एक प्रिय शे'र है बशीर बद्र साहब का:
    खतावार समझेगी दुनिया तुझे,
    कि इतनी भी ज़्यादा सफाई न दे!!
    तर्क तो वैसे भी बुद्धि से जुडी चीज़ है, जबकि विश्वास आत्मा से.. एक शब्द में कहूँ तो प्रेरक!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. सही है विश्वास बड़ी चीज है ...जहाँ विश्वास नहीं वहां तर्क और सफाई का कोई महत्व नहीं... गहन चिंतन

    उत्तर देंहटाएं
  21. sab hamare perspective par depend karta hai...jo ki sabka alag alag hota hai....nice read :)

    उत्तर देंहटाएं
  22. मानो तो गंगा माँ है ना मानो तो बहता पानी !
    जब सब दूसरे के मानने में ही है तो फिर सफाई कैसी !

    उत्तर देंहटाएं
  23. यानि शिव हमारे अन्दर है
    और जब शिव हमारे अन्दर है
    तो पार्वती , गंगा , रुद्राक्ष , चन्द्रमा
    नागदेव , मणि , विष , त्रिशूल , .....
    क्रमशः वह सब हमारे अन्दर है

    meri nazar me yah samprnth:..aksharsh: sty ..hai ,...
    aapki lekhini ko namn ..

    उत्तर देंहटाएं
  24. sahi bat hai sari baten hmare andar hi hai ...mere blog ko aapka intjaar hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  25. हम कहते हैं ईश्वर हमारे भीतर है
    यानि शिव हमारे अन्दर है
    और जब शिव हमारे अन्दर है
    तो पार्वती , गंगा , रुद्राक्ष , चन्द्रमा
    नागदेव , मणि , विष , त्रिशूल , .....
    क्रमशः वह सब हमारे अन्दर है

    गहन बात .... और हर इंसान दूसरे को अपने अनुसार ही चिन्हित करता है .... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  26. रश्मि जी नमस्कार...
    आपके ब्लॉग 'मेरी भावनाएं' से कविता भास्कर भूमि में प्रकाशित किए जा रहे है। आज 9 अगस्त को 'मानों तो...' शीर्षक के कविता को प्रकाशित किया गया है। इसे पढऩे के लिए bhaskarbhumi.com में जाकर ई पेपर में पेज नं. 8 ब्लॉगरी में देख सकते है।
    धन्यवाद
    फीचर प्रभारी
    नीति श्रीवास्तव

    उत्तर देंहटाएं
  27. हाँ यह समस्या तो सभी के साथ आती है जब कोई समझना ही नहीं चाहता तो सफाई भी किस लिए देना बहुत विचारने पोस्ट आभार जन्माष्टमी की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  28. बेवाक अंदाज़ में लिखी सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं