27 अगस्त, 2012

प्रेम .... मेरे लिए



प्रेम .... मेरे लिए
एक आध्यात्मिक कल्पना
जो कल भी था .... आज भी है
एक आकृति लिए निश्छल प्रेम !
- बरसों से
अल्हड़ उम्र से
इस आकृति की ऊँगली थामकर ही चलती आई हूँ ...
आकृति उभरकर स्पष्ट हो जाए
तो नाटकीयता , उदासीनता , शिकायतें
हो ही जाती हैं
पर एक छाया - अपने होने का एहसास देकर
हर उतार-चढ़ाव के निराकरण देती है ...
जब कोई हाथ ना रहे पास में
आंसू पोछने के लिए
तो वह प्रेम
मन से कहता है ....
चल से अचल
सार से निस्सार
सूक्ष्म से विस्तार
माया से निर्वाण
सुख से दुःख
प्राप्य से अप्राप्य
होनी से अनहोनी
मिलन से विरह .......... हर जगह मैं हूँ .
वह दिखे .... कोई ज़रूरी नहीं
क्योंकि प्रेम एक अनुभूति है
दिखावा नहीं !
अमर्यादित दिखावे सच से कोसों दूर होते हैं
और एहसास मौन है
वह आपस को जीता है
अन्य को क्या जताना !
प्रेम का यह अलौकिक सत्य
अक्सर काल्पनिक होता है
पर हकीकत की संजीवनी कल्पना में ही निहित होती है !
प्रेम हो , ख्वाब न हो
बादलों तक पहुँच न हो
इन्द्रधनुष रथ न बने
क्षितिज पर गोधूलि अल्पना न सजाये
तारे दीपोत्सव न मनाएं
ध्रुव तारा चेहरे पर ना उतर आए
ख़ामोशी खिलखिलाहट
खिलखिलाहट ख़ामोशी न बने
तो प्रेम हो ही नहीं सकता
न समझा जा सकता है
न जीया जा सकता है
और मैंने इस प्रेम को भरपूर जीया है
आकृतिहीन आकृति के संग
और वही मेरी सुरक्षा है
मेरा मान है
मेरी मर्यादित सीमायें हैं .........

29 टिप्‍पणियां:

  1. इस प्रेम की डगर में ...एक राह मेरी भी :)))

    जवाब देंहटाएं
  2. प्रेम एक अनुभूति है....बहुत सही कहा रश्मि जी...

    जवाब देंहटाएं
  3. ख़ामोशी खिलखिलाहट
    खिलखिलाहट ख़ामोशी न बने
    तो प्रेम हो ही नहीं सकता
    सच तो यही है ... भावमय करते शब्‍दों का संगम ... आभार

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर रचना

    चल से अचल
    सार से निस्सार
    सूक्ष्म से विस्तार
    माया से निर्वाण
    सुख से दुःख
    प्राप्य से अप्राप्य
    होनी से अनहोनी
    मिलन से विरह .......... हर जगह मैं हूँ .

    क्या कहने

    जवाब देंहटाएं
  5. कभी - कभी कमजोर इंसान का धैर्य साथ छोड़ जाता है ,तो प्रेम पर शक हो सकता है ?

    जवाब देंहटाएं
  6. यही तो हम भी कहते हैं कि प्रेम आध्यात्मिक हो तो सुख ही सुख देता है !

    जवाब देंहटाएं
  7. रश्मि जी, इस प्रेम को काल्पनिक कहने का कोई कारण नजर नहीं आता...प्रेम है तो कल्पना है प्रेम है तो आनंद है..जब आप कल्पना कहती हैं तब कम से कम कल्पना की सत्यता को तो मानती हैं, आनंद जो अपने महसूस किया है वह तो वास्तविक है, प्रेम से बढ़कर कुछ भी वास्तविक नहीं क्योंकि यही तो परमात्मा है..

    जवाब देंहटाएं
  8. प्रेम हो , ख्वाब न हो
    बादलों तक पहुँच न हो
    इन्द्रधनुष रथ न बने
    क्षितिज पर गोधूलि अल्पना न सजाये
    तारे दीपोत्सव न मनाएं
    ध्रुव तारा चेहरे पर ना उतर आए
    ख़ामोशी खिलखिलाहट
    खिलखिलाहट ख़ामोशी न बने...

    कितना सुन्दर समझा है आपने प्रेम को ......

    जवाब देंहटाएं
  9. prem ek anubhuti hai...
    is anubhuti ki nai paribhasha..bahut achchha laga.
    Meri nai post me bhi padhare.

    जवाब देंहटाएं
  10. जब कोई हाथ ना रहे पास में
    आंसू पोछने के लिए
    तो वह प्रेम
    मन से कहता है ....
    चल से अचल
    सार से निस्सार
    सूक्ष्म से विस्तार
    माया से निर्वाण
    सुख से दुःख
    प्राप्य से अप्राप्य
    होनी से अनहोनी
    मिलन से विरह .......... हर जगह मैं हूँ .

    .....लाज़वाब! गहन और सार्थक चिंतन...

    जवाब देंहटाएं
  11. प्रेम की सुंदर अभिव्यक्ति...

    जवाब देंहटाएं
  12. प्रेम तो ईश्वर की तरह अकल्पनीय एवं अनिर्वचनीय है... केवल अनुभूति में...

    जवाब देंहटाएं
  13. तो वह प्रेम
    मन से कहता है ....
    चल से अचल
    सार से निस्सार
    सूक्ष्म से विस्तार
    माया से निर्वाण
    सुख से दुःख
    प्राप्य से अप्राप्य
    होनी से अनहोनी
    मिलन से विरह .......... हर जगह मैं हूँ .

    प्रेम का इतना सुंदर चित्रण ..... मैं तो कल्पना में ही खो सी गयी .....

    जवाब देंहटाएं
  14. prem jaane kitne hi roop dharta hai ..
    bahut sundar saarthak rachna.

    जवाब देंहटाएं
  15. ख़ामोशी खिलखिलाहट
    खिलखिलाहट ख़ामोशी न बने
    तो प्रेम हो ही नहीं सकता

    लाज़वाब! चिंतन.

    जवाब देंहटाएं
  16. है अनन्त का राग प्रेम,
    मर्यादा से पर बँधे पेंग।

    जवाब देंहटाएं
  17. प्रेम एक अनुभूति है वह दिखे .... कोई ज़रूरी नहीं
    प्रेम को जीना ही इसे समझना है.... जिया है इसीलिए समझा है...

    जवाब देंहटाएं
  18. सच्चा प्रेम यही तो है... और यही है जीवन की अनुभूति...
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  19. मैंने इस प्रेम को भरपूर जीया है
    आकृतिहीन आकृति के संग
    और वही मेरी सुरक्षा है
    मेरा मान है
    मेरी मर्यादित सीमायें हैं .........सहज शब्दों में सरल बात

    जवाब देंहटाएं
  20. और मैंने इस प्रेम को भरपूर जीया है
    आकृतिहीन आकृति के संग

    बहुत कठिन है डगर पनघट की

    जवाब देंहटाएं
  21. वाह! प्रेमानंद की अनुभूति तो पढ़कर ही हो गई।

    जवाब देंहटाएं
  22. ध्रुव तारा चेहरे पर ना उतर आए
    ख़ामोशी खिलखिलाहट
    खिलखिलाहट ख़ामोशी न बने
    तो प्रेम हो ही नहीं सकता......prem ki itni achchi parbhasha,maa gaye.

    जवाब देंहटाएं
  23. तो वह प्रेम
    मन से कहता है ....
    चल से अचल
    सार से निस्सार
    सूक्ष्म से विस्तार
    माया से निर्वाण
    सुख से दुःख
    प्राप्य से अप्राप्य
    होनी से अनहोनी
    मिलन से विरह .......... हर जगह मैं हूँ .
    वह दिखे .... कोई ज़रूरी नहीं
    क्योंकि प्रेम एक अनुभूति है
    दिखावा नहीं !
    बहुत-बहुत सुन्दर बात कही ...प्रेम के लिए .

    जवाब देंहटाएं
  24. पर एक छाया - अपने होने का एहसास देकर
    हर उतार-चढ़ाव के निराकरण देती है ...
    जब कोई हाथ ना रहे पास में
    आंसू पोछने के लिए
    तो वह प्रेम
    मन से कहता है ....हर जगह मैं हूँ याय तो एकमात्र सच्चा रूप है प्रेम का जिसने समझ लिया उसे मानो खुदा मिल गया जो न समझ सका उसका इस प्रेम रूप कि तलाश में भटकना निश्चित है।

    जवाब देंहटाएं
  25. बहुत सुन्दर.......
    मैंने जिया है प्रेम को.....
    घूँट भर हर पिया है.....
    तृप्त हूँ...तभी इतनी सशक्त हूँ...


    सादर
    अनु

    जवाब देंहटाएं
  26. वह दिखे .... कोई ज़रूरी नहीं
    क्योंकि प्रेम एक अनुभूति है
    दिखावा नहीं !
    sashakt saarthak abhivyakti di ..

    जवाब देंहटाएं

जब खड्ग मैं उठाऊंगी

मैं तुमसे या कर्ण से बिल्कुल कम नहीं रही अर्जुन, लक्ष्य के आगे से मेरी दृष्टि कभी विचलित नहीं हुई ... परिस्थितियों के आगे एकलव्य क...