About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

13 अगस्त, 2012

कृष्ण भी कृष्ण नहीं कहलाते !





कृष्ण जन्म यानि एक विराट स्वरुप ज्ञान का जन्म
नाश तो बिना देवकी के गर्भ से जन्म लिए वे कर सकते थे
राधा में प्रेम का संचार कर
पति में समाहित हो सकते थे
देवकी के बदले यशोदा के गर्भ से ही जन्म ले सकते थे
पूतना , कंस .... कोई भी संहार अपने अदृश्य स्वरुप से कर सकते थे
पर कृष्ण ने जन्म लिया
बेबसी , तूफ़ान , घनघोर अँधेरा ,
१४ वर्ष की आयु तक में -
गोवर्धन उठाना , कालिया नाग को वश में करना
............ ,
दुर्योधन की ध्रिष्ट्ता पर विराट रूप दिखाना
यह सब कृष्ण की सीख थी
गीता का उपदेश कि
जब जब धर्म का नाश ....
मैं अवतार लेता हूँ
एक आह्वान था शरीर में अन्तर्निहित आत्मा का !
एक तिनका जब डूबते का सहारा हो सकता है
तो हर विप्पति में
हम अपने अन्दर के ईश्वर के संग
जन्म ले सकते हैं
विराटता हमारे ही अन्दर है
संकल्प अवतार है
भय से परे हो जाओ तो सब संभव है
मोह से परे हो जाओ
तो हर न्याय संभव है ...
देवकी से यशोदा की गोद
फिर देवकी तक यशोदा से विछोह ...
यदि मोह से निजात न ले पाते
मन के कमज़ोर चक्रव्यूह से न निकल पाते
तो कृष्ण भी कृष्ण नहीं कहलाते !

28 टिप्‍पणियां:

  1. जब जब धर्म का नाश ....
    मैं अवतार लेता हूँ
    एक आह्वान था शरीर में अन्तर्निहित आत्मा का !
    एक तिनका जब डूबते का सहारा हो सकता है
    तो हर विप्पति में
    हम अपने अन्दर के ईश्वर के संग
    जन्म ले सकते हैं
    विराटता हमारे ही अन्दर है
    संकल्प अवतार है
    बेहद सशक्‍त भाव लिए प्रेरणात्‍मक पंक्तियां ... आपकी लेखनी को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर पोस्ट..... बेहद सशक्त अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत प्रभावशाली सशक्त भाव पूर्ण रचना....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत प्यारी रचना...
    आपकी सोच को नमन ...
    आपकी अभिव्यक्ति को नमन ....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. कृष्ण की यही तो चारित्रिक विशेषता है कि उन्हें जिसने जिस रूप में देखा उन्हें वे वैसे ही दिखाई दिए.. एक दर्पण की तरह है कृष्ण का व्यक्तित्व.. हर देखने वाले को अलग-अलग रूप दिखाई देता है.. अच्छा लगा आपका यह विश्लेषण!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. यदि मोह से निजात न ले पाते
    मन के कमज़ोर चक्रव्यूह से न निकल पाते
    तो कृष्ण भी कृष्ण नहीं कहलाते !bhaut hi utkrst... apki har post ko dil se naman karti hun main....

    उत्तर देंहटाएं
  7. विराटता हमारे ही अन्दर है
    संकल्प अवतार है
    भय से परे हो जाओ तो सब संभव है
    मोह से परे हो जाओ
    तो हर न्याय संभव है ...

    ....गहन और शाश्वत सत्य की बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति..नमन आपकी लेखनी को..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह सब कृष्ण की सीख थी
    गीता का उपदेश कि
    जब जब धर्म का नाश ....
    मैं अवतार लेता हूँ,,,,

    सशक्त भावाभिव्यक्ति,,,,,
    स्वतंत्रता दिवस बहुत२ बधाई,एवं शुभकामनाए,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  9. देवकी से यशोदा की गोद
    फिर देवकी तक यशोदा से विछोह ...
    यदि मोह से निजात न ले पाते
    मन के कमज़ोर चक्रव्यूह से न निकल पाते
    तो कृष्ण भी कृष्ण नहीं कहलाते ! geeta kagyaan samahit hai shabdon maen

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन के कमज़ोर चक्रव्यूह से न निकल पाते
    तो कृष्ण भी कृष्ण नहीं कहलाते !

    बिलकुल सच कहा आपने ...
    बहुत सुंदर, सार्थक रचना .
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच कहा आपने, कर के दिखाना पड़ता है..

    उत्तर देंहटाएं
  12. कृष्ण सब कर सकते थे .... पर वो लोगों तक ज्ञान देना चाहते थे .... बहुत सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  13. कृष्ण होने के लिए उन्हें काली रात का सामना करना , सहन करना और नष्ट करना ही था . वे परिस्थितियां थी जिन्होंने उन्हें साबित किया !
    उत्कृष्ट अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  14. मन के मंथन को विवश करती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  15. यदि मोह से निजात न ले पाते
    मन के कमज़ोर चक्रव्यूह से न निकल पाते
    तो कृष्ण भी कृष्ण नहीं कहलाते !

    यूँ ही तो नही कहा गया ना ……मोह सकल व्याधिन कर मूला

    उत्तर देंहटाएं
  16. भय से परे हो जाओ तो सब संभव है
    मोह से परे हो जाओ
    तो हर न्याय संभव है ...
    देवकी से यशोदा की गोद
    फिर देवकी तक यशोदा से विछोह ...
    यदि मोह से निजात न ले पाते
    मन के कमज़ोर चक्रव्यूह से न निकल पाते
    तो कृष्ण भी कृष्ण नहीं कहलाते !....true ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. विराटता हमारे ही अन्दर है
    संकल्प अवतार है
    भय से परे हो जाओ तो सब संभव है
    प्रेरणादायक सुन्दर रचना... आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  18. विराटता हमारे ही अन्दर है ...हाँ ,बस इसे ही पहचानने की आवश्यकता है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. कृष्ण समस्त कलाओं से परिपूर्ण थे...उनकी विराटता को नमन...

    उत्तर देंहटाएं
  20. बेहतरीन और लाजवाब है ये पोस्ट.....हैट्स ऑफ इसके लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  21. क्या खुबसूरत प्रेरक रचना है दी...
    कृष्ण जन्माष्टमी की सादर बधाईयाँ...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  22. क्या कहने...
    गहन विचारो से ओत प्रोत रचना....
    बेहतरीन....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं