17 नवंबर, 2007

एकलव्य का अंगूठा




बचपन का सपना


सच के बीज लेकर चलता रहा


मिटटी की ओर


अपने को रूप देने के लिए.


सुझावों का सिलसिला चला-


मिटटी की पहचान,


सही बीज की समझ


और एक निश्चित जगह होनी चाहिए


और अचानक


सपना रुका


सच कहीं और चला


गुरु की मूर्ती पर हुआ अधिकार अर्जुन का


एकलव्य का अंगूठा गया.

15 टिप्‍पणियां:

  1. एकलव्य के अँगूठे के जाने के साथ साथ गुरू की गुरुता भी गई ।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहीं और चला
    गुरु की मूर्ति पर हुआ अधिकार अर्जुन का

    विचारणीय

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति रश्मि जी । वैसे सोचने को विवश करती है ये अंगुठे वाली घटना भले ही अंगूठा गया पर विश्वास ने दुनिया जीती।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक यथार्थ,

    साधु-साधु

    अतिसुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत गहरी अभिव्यक्ति..
    सीखती हूँ आपकी हर रचना से...
    (और अंगूठा किसी भी दिन आप मांग सकती हैं )
    :-)
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  6. गुरू-दक्षिणा मुझे भी देनी है.... :) कृपया सूचित करें..... :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. गहन भाव संयोजन के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...